लाइव टीवी

इस लक्ष्य को पाने के लिए RBI से 30 हजार करोड़ रुपये मांग सकती है सरकार

भाषा
Updated: September 29, 2019, 6:50 PM IST
इस लक्ष्य को पाने के लिए RBI से 30 हजार करोड़ रुपये मांग सकती है सरकार
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण

वित्त वर्ष 2019-20 के विनिवेश लक्ष्य (Disinvestment Target) को पूरा करने के लिए केंद्र सरकार (Central Government) RBI से 30 हजार करोड़ रुपये लाभांश (Dividend) मांग सकती है.

  • भाषा
  • Last Updated: September 29, 2019, 6:50 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार राजकोषीय घाटे (Fiscal Deficit) के लक्ष्य को पूरा करने के लिए चालू वित्त वर्ष में भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) से करीब 30 हजार करोड़ रुपये के अंतरिम लाभांश (Interim Dividend) की मांग कर सकती है. सूत्रों ने इसकी जानकारी दी. राजस्व संग्रह (Revenue Collection) में कमी तथा कॉरपोरेट करों (Corporate Tax) में कटौती के कारण सरकार के वित्त संसाधनों (Financial Resources) पर दबाव है. एक अधिकारी ने कहा, ''यदि आवश्यकता हुई तो केंद्र सरकार चालू वित्त वर्ष में रिजर्व बैंक से 25-30 हजार करोड़ रुपये के अंतरिम लाभांश की मांग कर सकती है.''

उन्होंने कहा कि इस बारे में जनवरी की शुरुआत में आकलन किया जाएगा. सूत्रों ने कहा कि रिजर्व बैंक (RBI) के लाभांश के अतिरिक्त विनिवेश (Disinvestment) को बढ़ाने तथा राष्ट्रीय लघु बचत कोष का अधिक इस्तेमाल करने समेत कुछ अन्य साधन भी हैं. सरकार पहले भी राजकोषीय घाटा कम करने के लिए रिजर्व बैंक से अंतरिम लाभांश ले चुकी है. पिछले साल सरकार ने रिजर्व बैंक से 28 हजार करोड़ रुपये का अंतरिम लाभांश लिया था. इससे पहले वित्त वर्ष 2017-18 में इस तरह से 10 हजार करोड़ रुपये लिए गए थे.

ये भी पढ़ें: SBI ग्राहकों को तोहफा! 1 अक्टूबर से 8.15% ब्याज दर पर मिलेगा होम लोन


Loading...

गौरतलब है कि 5 जुलाई को आम बजट पेश करने के दौरान वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने ऐलान किया था कि वित्त वर्ष 2019-20 के लिए विनिवेश लक्ष्य को बढ़ा 1 लाख 5 हजार करोड़ रुपये कर दिया गया है. अंतरिम बजट में विनिवेश के​ लिए रखे गए लक्ष्य से यह 16 फीसदी अधिक है. वित्त वर्ष 2018-19 में विनिवेश से सरकार ने करीब 85 हजार करोड़ रुपये था, जबकि इस अवधि के लिए विनिवेश का लक्ष्य 80 हजार करोड़ रुपये था. 1 फरवरी को पेश किए गए अंतरिम बजट में तत्कालीन कार्यवाहक वित्त मंत्री पीयूष गोयल (Piyush Goyal) ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए विनिवेश लक्ष्य 90 हजार करोड़ रुपये रखा था.

ये भी पढ़ें:  आपने भी की है होटल कमरे की एडवांस बुकिंग तो हो जाइए खुश, 1 अक्टूबर के बाद मिलेगा रिफंड!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 29, 2019, 4:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...