RBI MPC Meeting: आरबीआई का बड़ा फैसला! पेमेंट बैंक में डिपॉजिट लिमिट 1 लाख से बढ़ाकर 2 लाख रुपये किया, जानें अन्य अहम फैसले...

रिजर्व बैंक आज मौद्रिक नीति समिति की बैठक में नीतिगत दरों को बरकार रखने का ऐलान किया है

रिजर्व बैंक आज मौद्रिक नीति समिति की बैठक में नीतिगत दरों को बरकार रखने का ऐलान किया है

RBI MPC Meeting: भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की मौद्रिक नीति समिति (MPC) ने 7 अप्रैल को प्रमुख नीतिगत दरों को 4 प्रतिशत को बरकरार रखा है. इसके अलावा RBI ने पेमेंट बैंकों के लिए अहम फैसले लिए हैं. RBI की मॉनेटरी पॉलिसी में बुधवार को डिजिटल पेमेंट्स बैंक को बड़ा प्रोत्साहन मिला है.केंद्रीय बैंक ने पेमेंट बैंकों के लिए डिपॉजिट लिमिट बढ़ा दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 7, 2021, 12:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की मौद्रिक नीति समिति (MPC) ने 7 अप्रैल को प्रमुख नीतिगत दरों को 4 प्रतिशत को बरकरार रखा है. इसके अलावा RBI ने पेमेंट बैंकों के लिए अहम फैसले लिए हैं. RBI की मॉनेटरी पॉलिसी में बुधवार को डिजिटल पेमेंट्स बैंक (Digital Payment Bank) यानी पेटीएम पेमेंट्स बैंक, एयरटेल पेमेंट्स बैंक, इंडिया पोस्ट पेमेंट्स बैंक समेत को बड़ा प्रोत्साहन मिला है. केंद्रीय बैंक ने पेमेंट बैंकों के लिए डिपॉजिट लिमिट बढ़ा दी है. बैंक ने अब इसे 1 लाख रुपये से बढ़ाकर 2 लाख रुपये कर दिया है. बता दें कि लंबे वक्त से पेमेंट बैंक डिपॉजिट लिमिट बढ़ाने की मांग कर रहे थे. अब RBI के इस फैसले से उन्हें राहत मिलेगी.

रिटेल महंगाई 5 फीसदी के आसपास रह सकती है
गवर्नर दास ने कहा कि RBI पेमेंट वॉलेट के अपग्रेडेशन पर भी काम कर रहा है. यूजर्स को एक वॉलेट से दूसरे वॉलेट में पैसे ट्रांसफर करने की आजादी मिलनी चाहिए. अभी गूगल पे या पेटीएम के वॉलेट से एक-दूसरे के वॉलेट में पैसे ट्रांसफर नहीं किए जा सकते हैं. इसके अलावा नए वित्त वर्ष की पहली पॉलिसी का ऐलान करते हुए RBI गर्वनर शक्तिकांता दास ने आज कहा कि वित्त वर्ष 2022 की पहली छमाही में रिटेल महंगाई 5 फीसदी के आसपास रह सकती है जबकि पहले इसके 5.2 फीसदी पर रहने का अनुमान किया गया था.

ये भी पढ़ें : RBI Monetary Policy: RBI ने रेपो रेट में नहीं किया कोई बदलाव, जानें आम आदमी पर क्या पड़ेगा असर?
जीडीपी ग्रोथ अनुमान 10.5% पर कायम


वहीं, आरबीआई ने वित्त वर्ष 2022 के लिए जीडीपी ग्रोथ अनुमान 10.5 फीसदी पर बनाए रखा गया है. आरबीआई ने कहा कि ग्लोबल ग्रोथ में धीरे-धीरे रिकवरी आ रही है लेकिन अभी भी तमाम तरह की आशंकाएं और अनिश्चितताएं बनी हुई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज