RBI MPC की मीटिंग टलने की वजह सामने आई, जानें कब होगी अगली बैठक

भारतीय रिज़र्व बैंक
भारतीय रिज़र्व बैंक

भारतीय रिज़र्व बैंक के मौद्रिक नीति समिति (MPC) की बैठक को टाल दिया गया है. सोमवार को ही इस बारे में जानकारी देते हुए कहा गया था कि अगली बैठक की तारीख जल्द बताई जाएगी. 30 सितंबर को MPC के ​तीन एक्सटर्नल सदस्य रिटायर हो रहे हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 29, 2020, 4:02 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. आज से शुरू होने वाली आरबीआई मौद्रिक नीति समिती (RBI MPC Meeting) की बैठक टल गई है. केंद्रीय बैंक की तरफ से पिछले दिन यानि 28 सितंबर को इस बारे में जानकारी दे दी गई है. अब जानकारी आ रही है कि RBI MPC की बैठक आने वाले 1-2 सप्ताह में बुलाई जा सकती है. CNBC-आवाज़ को सूत्रों से इस बारे में जानकारी मिली है. दरअसल, इस बार की MPC बैठक को इस​लिए टालना पड़ा क्योंकि तीन एक्सटर्नल मेंबर्स (MPC External Members) 30 सितंबर को रिटायर हो रहे हैं.

एक्सटर्नल मेंबर्स की नियुक्ति के बाद होगी बैठक
अब सबसे पहले खाली होने वाले इन पदों एक्सटर्नल मेंबर्स की नियुक्ति की जाएगी और फिर इसके बाद MPC की बैठक बुलाई जाएगी. सूत्रों ने बताया कि MPC के तीन एक्सटर्नल मेंबर्स के नियुक्ति की प्रक्रिया अंतिम चरण में है. सेलेक्शन कमिटी ने नामों को सिफारिश कर दी है और इसे अप्वाइंटमेंट कमिटी ऑफ कैबिनेट (ACC - Appointment Committee of Cabinet) के पास भेज दी गई है. ACC की अगुवाई खुद प्रधानमंत्री करते हैं.

यह भी पढ़ें: WhatsApp भी खाली करा सकता है आपका बैंक अकाउंट, SBI ने करोड़ों ग्राहकों को किया अलर्ट
ACC को 6 नामों की सिफारिश भेजी गई


प्राप्त जानकारी के मुताबिक, सेलेक्शन कमिटी ने इन तीन नियुक्तियों के लिए 6 लोगों के नामों की सिफारिश की है. इन्हीं 6 में से कोई तीन नाम ACC को चुनना है. माना जा रहा है कि ACC की तरफ से अगले एक से दो दिन में नाम फाइनल कर लिए जाएंगे.

रिटायर हो रहे हैं ये एक्सटर्नल स​दस्य
कहा गया है कि ACC द्वारा ​इन नामों के फाइनल किए जाने के एक सप्ताह के अंदर MPC की बैठक बुलाई जा सकती है. बता दें कि आरबीआई एमपीसी तीन सदस्य जो इस महीने रिटायर हो रहे हैं, वो - चेतन घाते, पामी दुआ और रविंद्र ढोलकिया हैं.

बता दें कि इसके पहले आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास (Shaktikanta Das) की अगुवाई में 6 सदस्यीय मौद्रिक नीति की बैठक 29 सितंबर को शुरू होने वाली थी. मौद्रिक नीति बैठक में लिए गए फैसलों का ऐलान 1 अक्टूबर को होने वाला था.

यह भी पढ़ें: Loan EMI Moratorium- आम आदमी को मिल सकती है राहत, सरकार जल्द लेगी ईएमआई पर छूट का फैसला

ब्याज दरों में बदलाव के आसार नहीं
माना जा रहा था कि खुदरा महंगाई दर (Retail Inflation) में बढ़ोतरी के कारण इस बार के बैठक में नीतिगत ब्याज दरों (Policy Rates) में कोई बदलाव नहीं होगा. दरअसल, कोरोना संकट के कारण आपूर्ति में आई रुकावटों के कारण खुदरा महंगाई दर बढ़ गई है. रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने पहले ही कह चुके हैं कि महंगाई को नियंत्रण में लाने के लिए और मौद्रिक कार्रवाई की जा सकती है. अगस्त में खुदरा महंगाई दर घटकर 6.69 फीसदी रही है, जो जुलाई में 6.73 फीसदी पर थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज