होम /न्यूज /व्यवसाय /RBI MPC Meeting : रिजर्व बैंक ने सस्‍ता बनाए रखा कर्ज, रेपो रेट में 11वीं बार भी बदलाव नहीं, रिवर्स रेपो रेट 0.40 फीसदी बढ़ाया

RBI MPC Meeting : रिजर्व बैंक ने सस्‍ता बनाए रखा कर्ज, रेपो रेट में 11वीं बार भी बदलाव नहीं, रिवर्स रेपो रेट 0.40 फीसदी बढ़ाया

आरबीआई की निगाह अभी आर्थिक स्थिरता को बनाए रखने पर है.

आरबीआई की निगाह अभी आर्थिक स्थिरता को बनाए रखने पर है.

रिजर्व बैंक ने 6 अप्रैल से शुरू ही मौद्रिक नीति समिति (MPC) के नतीजे शुक्रवार को घोषित कर दिए. इस बार भी केंद्रीय बैंक ...अधिक पढ़ें

नई दिल्‍ली. रिजर्व बैंक ने शुक्रवार को मौद्रिक नीति समिति के नतीजों की घोषणा कर दी है. आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने बताया कि आर्थिक सुधारों को प्रमुखता देते हुए रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया गया है.

दास ने कहा, फिलहाल हमने रेपो रेट को 4 फीसदी पर स्थिर बनाए रखा है. इससे कर्ज का प्रवाह बढ़ाने में मदद मिलेगी और महामारी के दबाव से अर्थव्‍यवस्‍था को बाहर लाया जा सकेगा. यह 11वीं बार है जब आरबीआई ने रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया है. गवर्नर का कहना है अर्थव्‍यवस्‍था को अभी महामारी से पूरी तरह बाहर नहीं लाया जा सका है. ऐसे में आर्थिक स्थिरता बनाए रखना हमारी प्राथमिकता है.

ये भी पढ़ें – महंगाई की मार! भारत में बिक रही सबसे महंगी LPG, पेट्रोल के मामले में भी तीसरे पायदान पर, जानें अन्‍य देशों का हाल

रिवर्स रेपो रेट में 40 आधार अंक की बढ़ोतरी
रिजर्व बैंक ने बाजार में लिक्विडटी की समीक्षा के बाद रिवर्स रेपो रेट में 40 आधार अंक की बढ़ोतरी कर दी है. अब रिवर्स रेपो रेट 3.75 फीसदी पहुंच गया है. आरबीआई की मंशा है कि रिवर्स रेपो रेट को दोबारा बढ़ाकर महामारी के पूर्व स्‍तर पर पहुंचा दिया जाए .रिवर्स रेपो रेट वह दर होती है जिस पर रिजर्व बैंक में पैसे जमा करने पर बैंकों को ब्‍याज मिलता है. अब बैंक आरबीआई में पैसे जमा करेंगे तो उन्‍हें सालाना 3.75 फीसदी का ब्‍याज मिलेगा.

जून तक महंगाई से राहत नहीं
गवर्नर शक्तिकांत दास ने चालू वित्‍तवर्ष में खुदरा महंगाई की औसत दर 5.7 फीसदी रहने का अनुमान लगाया है. रिपोर्ट के अनुसार, पहली तिमाही में खुदरा महंगाई खास परेशान करने वाली है. आरबीआई ने अप्रैल-जून की पहली तिमाही में खुदरा महंगाई की दर 6.3 फीसदी रहने का अनुमान लगाया है, जो उसके तय 6 फीसदी के दायरे से भी ज्‍यादा है. हालांकि, दूसरी तिमाही (जुलाई-सितंबर) में खुदरा महंगाई दर घटकर 5 फीसदी पर आने का दावा किया गया है.

इसी तरह, अक्‍तूबर-दिसंबर की तीसरी तिमाही में खुदरा महंगाई दर 5.4 फीसदी और जनवरी-मार्च की चौथी तिमाही में 5.1 फीसदी रहने का अनुमान लगाया गया है. गवर्नर ने कहा, आरबीआई अर्थव्‍यवस्‍था को लेकर अपना सूक्ष्‍म और तीव्र दृष्टिकोण बनाए रखेगा.

ये भी पढ़ें – बच्‍चों के लिए खास हैं ये प्लान, हर महीने जमा करें छोटी-छोटी रकम, मिलेगा बड़ा फंड

महंगाई को बताया सबसे बड़ा जोखिम
गवर्नर दास ने कहा कि आर्थिक स्थिरता की राह में फिलहाल महंगाई सबसे बड़ा जोखिम है. अगले कुछ समय तक खाद्य तेलों की महंगाई दर ऊपर ही रहेगी जबकि कच्‍चा तेल 100 डॉलर प्रति बैरल के आसपास बने रहने का अनुमान है. ग्‍लोबल मार्केट में क्रूड के दाम नीचे आने तक भारत पर महंगाई का खास दबाव दिखेगा, जिससे हमारे आर्थिक सुधारों पर भी असर पड़ेगा.

पहली तिमाही में 16 फीसदी से ज्‍यादा की विकास दर
गवर्नर दास ने कहा कि पहली चालू वित्‍तवर्ष की पहली तिमाही में विकास दर 16.2 फीसदी रहने का अनुमान है. यह तेजी पिछले साल आई गिरावट के अनुपात में दिख रही है. हालांकि, जुलाई-सितंबर की दूसरी तिमाही में विकास दर 6.2 फीसदी, तीसरी तिमाही में 4.1 फीसदी और चौथी तिमाही में 4 फीसदी रहने का अनुमान है.

अतिरिक्‍त पूंजी सोखने के लिए एसडीएफ सुविधा
रिजर्व बैंक ने बाजार में उपलब्‍ध अतिरिक्‍त नकदी को वापस लेने के लिए स्‍टैंडिंग डिपॉजिट फैसिलिटी (एसडीएफ) शुरू की है. बैंकों को अपना अतिरिक्‍त पैसा आरबीआई के पास जमा करने के लिए इस पर 3.75 फीसदी का आकर्षक ब्‍याज भी दिया जा रहा है. वैसे तो रिवर्स रेपो रेट में भी बैंकों को अब इतना ही ब्‍याज मिलेगा, लेकिन एसडीएफ के तहत बैंकों को अपना पैसा जमा करने के लिए किसी कोलैटरल की जरूरत नहीं रहेगी.

Tags: Interest Rates, Rbi policy, Shaktikanta Das

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें