MobiKwik के करोड़ों यूजर्स का डेटा लीक, RBI ने दिए फॉरेंसिक ऑडिट के आदेश

डेटा लीक पर आरबीआई सख्त

डेटा लीक पर आरबीआई सख्त

आरबीआई (RBI) ने ग्राहकों के डेटा की सुरक्षा को लेकर मोबिक्विक (Mobikwik) को आड़े हाथों लिया है और फॉरेंसिक ऑडिट कराने का आदेश दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 1, 2021, 10:08 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. हाल ही में हैकर्स ने हाल ही में हैकर्स ने डिजिटल पेमेंट कंपनी मोबिक्विक (Mobikwik) के 9.9 करोड़ भारतीय ग्राहकों का डेटा लीक करने का दावा किया है. हैकर्स की तरफ से जारी डेटा में ग्राहकों के मोबाइल नंबर, क्रेडिट कार्ड नंबर, बैंक अकाउंट नंबर, केवाईसी विवरण से लेकर ईमेल तक शामिल हैं. अब आरबीआई (RBI) ने मोबिक्विक को आरोपों की फॉरेंसिक ऑडिट कराने का आदेश दिया है.

मोबिक्विक पर लग सकता है जुर्माना

इसके साथ ही आरबीआई ने कंपनी को चेतावनी भी दी है कि अगर कोई गलती पाई जाती है तो उस पर जुर्माना लगाया जाएगा. केंद्रीय बैंक के पास ऐसे मामले में किसी पेमेंट सिस्टम प्रोवाइडर पर कम से कम 5 लाख रुपये का जुर्माना लगाने की शक्ति है.

ये भी पढ़ें- Bank Holidays: बैंक 4 अप्रैल तक रहेंगे बंद! इस महीने 15 दिनों की रहेगी छुट्टी, घर से निकलने से पहले चेक करें पूरी लिस्ट
कंपनी का दावा, मोबिक्विक के डाटाबेस में नहीं हुई हैकिंग

हैकर समूह जॉर्डनेवन ने मोबिक्विक के फाउंडर बिपिन प्रीत सिंह और मोबिक्विक की सीईओ उपासना टाकू का ब्योरा भी डाटाबेस से शेयर किया है. हालांकि, मोबिक्विक ने हैकर्स के दावे को गलत बताया है. कंपनी के प्रवक्ता ने कहा कि हम डेटा सिक्‍योरिटी को काफी गंभीरता से लेते हैं और मान्य डाटा सुरक्षा कानूनों का पूरी तरह पालन करते हैं. वहीं, हैकर समूह ने मोबिक्विक क्यूआर कोड की कई तस्वीरों के साथ KYC के लिए इस्तेमाल होने वाले दस्तावेज भी अपलोड किए हैं. मोबिक्विक ने कहा है कि वह इस बारे में संबंधित अधिकारियों के साथ काम कर रही है.

ये भी पढ़ें- Good News: ICICI बैंक और फोन पे ने मिलकर शुरू की खास सर्विस, अब घर बैठे हो जाएगा ये जरूरी काम



गौरतलब है कि मोबिक्विक ऐप से हर दिन 10 लाख से भी ज्‍यादा लेनदेन किए जाते हैं. मौजूदा समय में इस ऐप से 30 लाख से भी ज्‍यादा कारोबारी जुड़े हुए हैं. वहीं, इसके ग्राहकों की संख्या 12 करोड़ से ज्‍यादा है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज