सावधान! बीते एक साल में हुए 71500 करोड़ रुपये के फ्रॉड, अपनाएं ये टिप्स सेफ रहेगा पैसा

RBI ने कहा है कि वित्त वर्ष 2018-19 में बैंकों से जुड़े फ्रॉड के 71,500 करोड़ रुपये के 6,800 मामले सामने आए हैं. इससे पहले वित्त वर्ष 2017-18 में 41,167.03 करोड़ रुपये के फ्रॉड के 5,916 केस हुए थे.

News18Hindi
Updated: June 3, 2019, 7:01 PM IST
सावधान! बीते एक साल में हुए 71500 करोड़ रुपये के फ्रॉड, अपनाएं ये टिप्स सेफ रहेगा पैसा
RBI ने कहा है कि वित्त वर्ष 2018-19 में बैंकों से जुड़े फ्रॉड के 71,500 करोड़ रुपये के 6,800 मामले सामने आए हैं. इससे पहले वित्त वर्ष 2017-18 में 41,167.03 करोड़ रुपये के फ्रॉड के 5,916 केस हुए थे.
News18Hindi
Updated: June 3, 2019, 7:01 PM IST
भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने कहा है कि वित्त वर्ष 2018-19 में बैंकों से जुड़े फ्रॉड के 71,500 करोड़ रुपये के 6,800 मामले सामने आए हैं. इससे पहले वित्त वर्ष 2017-18 में 41,167.03 करोड़ रुपये के फ्रॉड के 5,916 केस हुए थे. RBI ने सूचना के अधिकार कानून (RTI) के तहत पूछे गए एक सवाल के जवाब में कहा कि कमर्शियल बैंकों और चुनिंदा वित्तीय संस्थाओं ने 71,542.93 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी के 6,801 मामलों की सूचना दी है.

ये भी पढ़ें: सच हो सकता है पीएम मोदी के साथ चाय पीने का सपना, करना होगा ये काम

11 साल में 2.05 लाख करोड़ का फ्रॉड
केंद्रीय बैंक ने कहा कि शिड्यूल्ड कमर्शियल बैंकों और वित्तीय संस्थानों में 71,542.93 करोड़ रुपये का फ्रॉड हुआ. यह फ्रॉड राशि पिछले फिस्कल से 73 फीसदी ज्यादा है. बीते 11 वित्त वर्ष में बैंकों ने फ्रॉड के 53,334 मामले दर्ज किए और इसें कुल 2.05 लाख करोड़ रुपये का फ्रॉड हुआ.

बढ़ते गए फ्रॉड के मामले
>> वित्त वर्ष 2008-09 के दौरान 1,860.09 करोड़ रुपये के कुल 4,372 केस दर्ज किए गए थे.
>> 2009-10 में 1,999.94 करोड़ रुपये से जुड़े फ्रॉड के कुल 4,669 केस सामने आए थे.
Loading...

>> वहीं 2010-11 और 2011-12 में 3,815.76 करोड़ रुपये और 4,501.15 करोड़ रुपये के फ्रॉड से जुड़े क्रमशः 4,534 और 4,093 केस दर्ज किए गए थे.
>> आरबीआई ने कहा कि वित्त वर्ष 2012-13 में बैंकों ने 8,590.86 करोड़ रुपये से संबंधित फ्रॉड के 4,235 मामले दर्ज किए थे, वहीं 2013-14 में 4,306 मामले (10,170.81 करोड़ रुपये) और 2014-15 में 4,639 मामले (19,455.07 करोड़ रुपये से संबंधित) सामने आए थे.
>> आरबीआई ने कहा कि 2015-16 और 2016-17 में क्रमशः 18,698.82 करोड़ रुपये और 23,933.85 करोड़ रुपये के फ्रॉड से संबंधित 4,693 और 5,076 केस दर्ज किए गए थे.

ये भी पढ़ें: मोदी सरकार दे रही सालाना 10 लाख रुपये कमाने का मौका, शुरू करें ये बिजनेस

अपानएं ये टिप्स सेफ रहेगा आपका पैसा
>> अपने बैंकिंग पासवर्ड को शेयर न करें और न ही अपने मोबाइल में स्टोर करें.
>> कॉल पर कभी भी संवेदनशील जानकारी शेयर न करें.
>> किसी अनजान कॉलर से अपने यूपीआई ऐप पर किसी भी कलेक्ट रिक्वेस्ट ट्रांजेक्शन से बचें.
>> कभी भी अजनबियों को ‘AnyDesk’ या इसी तरह के किसी ऐप को इंस्टॉल करने की अनुमति न दें.
>> अपने भुगतान और मोबाइल बैंकिंग ऐप पर ऐप-लॉक सुविधा को तुरंत चालू करें.
>> अनजान कॉल करने वालों द्वारा दिए गए किसी भी SMS को फॉरवर्ड करने से बचें.
>> संदिग्ध धोखाधड़ी कॉल को तुरंत डिस्कनेक्ट करें.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
First published: June 3, 2019, 5:54 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...