Home /News /business /

बैंक इन ग्राहकों के नहीं खोलेंगे नए खाते, RBI ने लागू किया नया नियम

बैंक इन ग्राहकों के नहीं खोलेंगे नए खाते, RBI ने लागू किया नया नियम

आरबीआई ने कहा, कर्जदाता बैंक के अलावा कोई दूसरा बैंक कंपनियों का करंट अकाउंट नहीं खोलेगा.

आरबीआई ने कहा, कर्जदाता बैंक के अलावा कोई दूसरा बैंक कंपनियों का करंट अकाउंट नहीं खोलेगा.

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने कर्ज लेने वाली कंपनियों के लिए चालू खाता (Current Account) खुलवाने को लेकर नए नियमों और पाबंदियों की घोषणा कर दी है. केंद्रीय बैंक ने कहा है कि कंपनियां सिर्फ उसी बैंक में अपना चालू खाता खुलवाएं या ओवरड्राफ्ट की सुविधा लें, जिससे कर्ज लिया है. इससे कर्जदाता (Lender) को कंपनी के कैश फ्लो (Cash Flows) की पूरी जानकारी रहेगी.

अधिक पढ़ें ...
    नई दिल्‍ली. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने कर्ज लेने वाली कंपनियों के लिए चालू खाता (Current Account) खुलवाने के नए नियमों और पाबंदियों की बृहस्‍पतिवार को घोषणा कर दी है. नए नियमों के मुताबिक, कंपनियों को उस बैंक में अपना करंट अकाउंट या ओवरड्राफ्ट अकाउंट (Overdraft Account) खुलवाना ही होगा, जिससे वे कर्ज ले रही हैं. इससे कर्जदाता बैंक (Lender Banks) को कंपनी के कैश फ्लो के बारे में पूरी जानकारी रहेगा. साथ ही आरबीआई ने बैंकों से भी कहा है कि वे करंट अकाउंट को कर्ज देने के लिए इस्‍तेमाल ना करें. इसके बजाय बैंक कर्ज लेने वाले व्‍यक्ति को वस्‍तु और सेवाएं मुहैया कराने वाली कंपनी को सीधे भुगतान करें. इससे कर्ज की रकम की हेराफेरा पर रोक लगेगी.

    आखिर क्‍यों आरबीआई ने लिया ये फैसला
    आरबीआई इस फैसले की मदद से कर्ज के तौर पर ली गई रकम की हेराफेरी पर रोक लगाना चाहता है. अभी तक ज्‍यादातर कर्ज लेने वाली कंपनियां सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों से लोन लेते हैं, लेकिन रोजमर्रा की जरूरतों के लिए करंट अकाउंट विदेशी या निजी बैंक में खुलवाते हैं. दरअसल, ये बैंक अपने ग्राहकों को बेहतर नगदी प्रबंधन की पेशकश करते हैं. ज्‍यादातर विदेशी और निजी मझोली कंपनियों को बड़ा कर्ज नहीं देते हैं, लेकिन सभी बैंक चाहते हैं कि कंपनियां अपने करंट अकाउंट उनके पास ही खुलवाएं.

    ये भी पढ़ें- चीन से तीन-चौथाई आयात घटाने के लिए विकल्‍प तलाश रहा है भारत, इन चीजों को मंगाने पर लग सकती है रोक

    किसे होगा फायदा और किसे है नुकसान
    फिलहाल ये कहना जल्‍दबाजी होगी कि नए नियमों से किसे फायदा होगा और किसे नुकसान होगा. अभी ये भी नहीं कहा जा सकता है कि क्‍या एचडीएफसी, आईसीआईसीआई और एक्सिस बैंक जैसे निजी बैंकों के करंट अकाउंट की संख्‍या कम होकर सरकारी बैंकों में बढ़ेगी या ये विदेशी बैंकों के साथ होगा. नए नियमों के मुताबिक, बैंक ऐसे कर्ज लेने वालों का चालू खाता नहीं खोल सकते, जिनका किसी दूसरे बैंक में कैश क्रेडिट अकाउंट हो. सीएनबीसी टीवी18 की रिपोर्ट के मुताबिक,  अगर किसी उपभोक्‍ता का किसी बैंक में कैश क्रेडिट अकाउंट नहीं है तो वे 3 कैटेगरी में आते हैं.

    ये भी पढ़ें- बद-से-बदतर हो रहा है भारत में बेरोजगारी का हाल! इस महीने फिर बढ़ा Unemployment Rate

    >> उपभोक्‍ता ने बैंकों से 5 करोड़ रुपये से कम लोन लिया है. ऐसी कंपनियों का कोई भी बैंक करंट अकाउंट खोल सकता है.

    >> बैंकिंग सिस्‍टम से 5 से 50 करोड़ रुपये तक का लोन लेने वाले उपभोक्‍ताओं का करंट अकाउंट सिर्फ कर्जदाता बैंक में ही खुल सकता है. नॉन-लेंडिंग बैंक ऐसी कंपनियों का सिर्फ कलेक्‍शन अकाउंट खोल सकते हैं यानी इनमें सिर्फ पैसा आ सकता है. इस पैसे का कर्ज देने वाले बैंक के कैश क्रेडिट अकाउंट में भुगतान करना होगा. कलेक्‍शन अकाउंट पर बैंक को कोई फायदा नहीं मिलता है.

    ये भी पढ़ें- सिलेंडर मैन अगर आपको देता है कम गैस तो करें यहां शिकायत, होगी तुरंत सुनवाई

    >> बैंकिंग सिस्‍टम से 50 करोड़ रुपये से ज्‍यादा का कर्ज लेनी वाली कंपनी का एक कर्जदाता बैंक में एक एस्‍क्रो अकाउंट खोलना होगा और यही बैंक करंट अकाउंट भी खोल सकता है. ऐसी कंपनी का दूसरे बैंक कलेक्‍शन अकाउंट खोल सकते हैं.

    ये भी पढ़ें- लैप्स हो गई है बीमा पॉलिसी? आज से मिल रहा रिवाइव करने का शानदार मौका

    >> बैंकर्स के मुताबिक, अभी तक ये साफ नहीं है कि इसे लागू कैसे किया जाएगा. साथ ही ये भी सवाल है कि इन नियमों की निगरानी कैसे की जाएगी. हालांकि, उनका कहना है कि नए नियमों और पाबंदियों का सबसे बड़ा फायदा सरकारी बैंकों को ही मिलेगा.undefined

    Tags: Additional borrowing, Bank Loan, Banking services, Reserve bank of india

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर