Paytm, PhonePe समेत वॉलेट-पेमेंट कार्ड का करते हैं इस्तेमाल.. तो अब निकाल सकेंगे ATM से कैश

इसमें अधिकितम मासिक सीमा 10,000 रुपये है.

इसमें अधिकितम मासिक सीमा 10,000 रुपये है.

अगर आप वॉलेट कार्ड (Wallet Card) और पेमेंट कार्ड (Payment Card) का इस्तेमाल करते हैं तो आपके लिए बड़ी खबर है. आरबीआई ने नॉन-बैंकिंग इकाइयों द्वारा पूर्ण केवाईसी (KYC) वाले पीपीआई धारकों (PPI) को हर महीने 10,000 रुपए तक निकासी की भी अनुमति दी है.

  • Share this:

नई दिल्ली. अगर आप Paytm, MobiKwik PhonePe, Amazon Pay या फिर Gpay जैसे वॉलेट (Wallet Card) या पेमेंट कार्ड (Payment Card) का इस्तेमाल करते हैं तो आपके लिए बड़ी खबर है. आरबीआई ने नॉन-बैंकिंग इकाइयों द्वारा पूर्ण केवाईसी (KYC) वाले पीपीआई धारकों (PPI) को अब हर महीने 10,000 रुपए तक निकासी की भी अनुमति दे दी गई है. साथ ही ऐसे पीपीआई में अधिकतम राशि सीमा दोगुनी कर 2 लाख रुपए कर दी है. रिजर्व बैंक (RBI) ने एक नया सर्कुलर जारी किया है. जिसमें कहा गया है कि बैंक या नॉन बैंक की ओर से जारी सभी प्रीपेड पेमेंट इंस्टूमेंट्स यानी PPIs 31 मार्च 2022 से लागू हो जाएंगे.

जानें क्या है PPI?

PPI ऐसे कार्ड अथवा प्रोडक्ट हैं जिनमें एकमुश्त राशि पहले से ही रखी होती है और उसके एवज में कार्ड धारक जरूरी वस्तुओं और सेवा की खरीद, पैसा भेजने तथा कोष अंतरण समेत अन्य कार्यों को बिना नकदी साथ में लिये कर सकता है.

ये भी पढ़ें- मोदी सरकार किसानों को दे रही मोटी कमाई करने का मौका! साथ में कई सुविधाएं भी.. जानें क्या है स्कीम?
जानें RBI ने क्या कहा?

RBI ने एक परिपत्र में कहा कि पीपीआई जारी करने वालों के लिये पूर्ण रूप से केवाईसी करा रखे पीपीआई धारकों को अधिकृत कार्ड नेटवर्क (कार्ड के रूप में पीपीआई के लिये) और UPI(इलेक्ट्रॉनिक वॉलेट के रूप में पीपीआई के लिये) के जरिये पूरी तरह से उपयोग की अनुमति देना अनिवार्य होगा.

ये भी पढ़ें- सुरक्षित भविष्य के लिए यहां करें निवेश, मिलता है पोस्ट ऑफिस की बचत योजनाओं से अधिक ब्याज, साथ में सरकारी गारंटी



अधिकितम मासिक सीमा 10,000 रुपये

आरबीआई ने यह भी कहा कि प्वाइंट ऑफ सेल (PoS) टर्मिनल से भारत में बैंकों द्वारा डेबिट कार्ड और ओपन सिस्टम प्रीपेड कार्ड के जरिये निकासी को प्रति लेन-देन 2,000 रुपये किया गया है. इसमें अधिकितम मासिक सीमा 10,000 रुपये है. साथ ही स्वीकार्यता के स्तर पर किसी भी नेटवर्क पर उपयोग की अनुमति अनिवार्य होगी. बता दें कि भारत में गठित और कंपनी कानून के तहत पंजीकृत कंपनियां पीपीपीआई जारी करती हैं. आरबीआई से मंजूरी के बाद कंपनी पीपीआई जारी कर सकती है और उसका परिचालन कर सकती है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज