• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • SBI और ICICI बैंक के बाद 'too big to fail' लिस्ट में पहुंचा HDFC बैंक

SBI और ICICI बैंक के बाद 'too big to fail' लिस्ट में पहुंचा HDFC बैंक

मार्केट कैप के आधार देश के टॉप 10 बैंकों की लिस्ट

1.HDFC बैंक                       5.04 लाख करोड़ रुपए

2.कोटक महिंद्रा बैंक             2.23 लाख करोड़ रुपए

एसबीआई 2.22 लाख करोड़ रुपए
ICICI बैंक 1.85 लाख करोड़ रुपए
एक्सिस बैंक 1.37 लाख करोड़ रुपए
इंड्सइंड बैंक 1.12 लाख करोड़ रुपए
यस बैंक 71 हजार करोड़ रुपए
बैंक ऑफ बड़ौदा 40 हजार करोड़ रुपए
पीएनबी 27 हजार करोड़ रुपए
10. आरबीएल बैंक‍                21 हजार करोड़ रुपए

मार्केट कैप के आधार देश के टॉप 10 बैंकों की लिस्ट 1.HDFC बैंक                       5.04 लाख करोड़ रुपए 2.कोटक महिंद्रा बैंक             2.23 लाख करोड़ रुपए एसबीआई 2.22 लाख करोड़ रुपए ICICI बैंक 1.85 लाख करोड़ रुपए एक्सिस बैंक 1.37 लाख करोड़ रुपए इंड्सइंड बैंक 1.12 लाख करोड़ रुपए यस बैंक 71 हजार करोड़ रुपए बैंक ऑफ बड़ौदा 40 हजार करोड़ रुपए पीएनबी 27 हजार करोड़ रुपए 10. आरबीएल बैंक‍                21 हजार करोड़ रुपए

SBI और ICICI बैंक के बाद 'टू बिग टू फेल' लिस्ट में शामिल हुआ HDFC बैंक

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:
    आरबीआई (रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया) ने देश के बड़े प्राइवेट बैंक एचडीएफसी बैंक को अपनी ‘टू बिग टू फेल’ लिस्‍ट में शामिल किया है. इसमें शामिल होने वाले बैंकों पर आरबीआई कड़ी नजर रखता है. इसका मकसद वित्‍तीय तंत्र को ढहने से बचाना है.

    बता दें कि रिजर्व बैंक साल 2015 से हर अगस्‍त में इस श्रेणी में आने वाले बैंक के नाम जारी करता है. रिजर्व बैंक हर बैंक को सिस्‍टेमेटिक इमर्पोटेंट स्‍कोर (SIC) देता है जिसके आधार पर ऐसे बैंक को छांटा जाता है.

    SBI और ICICI बैंक भी हैं लिस्ट में
    रिजर्व बैंक बड़े बैंकों को अपनी डोमेस्टिक सिस्‍टेमिकली इम्‍पोर्टेंट (D-SIB) श्रेणी में रखता है. इस श्रेणी में एसबीआई और आईसीआईसीआई बैंक पहले ही शामिल हैं. इन दोनों बैंकों को इस श्रेणी में 2015 में शामिल किया गया था. इस प्रकार इस श्रेणी में अब तीन बैंक हो गए हैं.

    3 साल पहले तैयार हुआ था फ्रेमवर्क
    भारतीय रिजर्व बैंक ने बयान में कहा है कि इन बैंकों को अपनी कॉमन इक्विटी टायर-1 (CET1) को बढ़ाना होगा. इसकी शुरुआत 1 अप्रैल 2016 से हो गई है, जो 1 अप्रैल 2019 से पूरी तरह से लागू होगी. रिजर्व बैंक ने इस श्रेणी के बैंकों के लिए एक फ्रेमवर्क जुलाई 2014 में तैयार किया था.

    यह भी पढ़े

    नोटबंदी से कितनी ब्लैकमनी खत्म हुई, RBI को नहीं है मालूम
    ...तो अब नहीं आएगा 1000 रुपए का नया नोट

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज