लाइव टीवी

RBI ने इन दो बैंकों पर लगाया 2.5 करोड़ रुपए का जुर्माना, बैंक ने किया इन नियमों का उल्लंघन

पीटीआई
Updated: November 20, 2019, 10:44 AM IST
RBI ने इन दो बैंकों पर लगाया 2.5 करोड़ रुपए का जुर्माना, बैंक ने किया इन नियमों का उल्लंघन
भारतीय रिजर्व बैंक ने लगाया बैंकों पर जुर्माना

RBI ने एक बार फिर 2 बैंकों पर जुर्माना लगाया है. बैंकों पर नियमों के उल्लंघन को लेकर जुर्माना लगाया है. इनमें से एक बैंक ऑफ बड़ौदा (BoB) और दूसरा मुंबई स्थित कोणार्क अर्बन को-ऑपरेटिव बैंक है.

  • Share this:
नई दिल्ली.  भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने एक बार फिर दो बैंकों पर जुर्माना लगाया है. बैंकों पर नियमों के उल्लंघन को लेकर जुर्माना लगाया है. इनमें से एक बैंक ऑफ बड़ौदा (BoB) और दूसरा मुंबई स्थित कोणार्क अर्बन को-ऑपरेटिव बैंक है. BoB पर बिहार के गैर-सरकारी संगठन सृजन महिला विकास सहयोग समिति लिमिटेड के संदर्भ में जारी निर्देशों का अनुपालन नहीं करने के लिए 2.50 करोड़ रुपये का जुर्माना लगा है. वहीं कोणार्क अर्बन को-ऑपरेटिव बैंक पर डायरेक्टर रिलेटेड लोन्स के मामले में निर्देशों के उल्लंघन को लेकर 4 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है.

2.50 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया
BoB द्वारा शेयर बाजार को दी गई सूचना में कहा गया कि रिजर्व बैंक ने बैंकिंग नियमन कानून, 1949 के तहत दी गई शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए बैंक पर 2.50 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है. यह जुर्माना आरबीआई द्वारा बैंक की भागलपुर शाखा में सृजन महिला विकास सहयोग समिति के विभिन्न खातों के संदर्भ में जारी दिशानिर्देशों का अनुपालन नहीं करने को लेकर लगाया गया है.

ये भी पढ़ें: सोने के गहने खरीदने का है प्लान तो ठहरिए! 1 जनवरी से बदल जाएगा ये बड़ा नियम

CBI कर रही है जांच
उल्लेखनीय है कि केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) NGO सृजन महिला विकास सहयोग समिति और सरकारी अधिकारियों की मिलीभगत से हुए कथित 1,000 करोड़ रुपये के घाटा मामले की जांच कर रहा है. कथित आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी समेत अन्य गड़बड़ी को लेकर BoB, इंडियन बैंक और समिति के अज्ञात अधिकारियों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है. इसके अलावा पटना और दिल्ली में भी प्राथमिकी दर्ज की गयी है।

मुंबई के थाणे स्थित कोणार्क अर्बन को-ऑपरेटिव बैंक पर जुर्माने के मामले में RBI ने बयान में कहा कि केन्द्रीय बैंक ने बैंक को कारण बताओ नोटिस जारी किया था. इसके उत्तर के तौर पर बैंक ने लिखित और मौखिक जवाब दिया है. RBI के मुताबिक, बैंक के जवाब और मामले के तथ्यों पर गौर करने के बाद केन्द्रीय बैंक इस निष्कर्ष पर पहुंचा है कि निर्देशों का उल्लंघन हुआ है और जुर्माना लगाया जाना चाहिए.
Loading...

ये भी पढ़ें: बंद होने वाला है ये नए जमाने का Bank, आपका भी है खाता तो तुरंत निकाल लें पैसे

क्या है नियम
को-ऑपरेटिव बैंकों को अपने डायरेक्टर्स को सिक्योर या अनसिक्योर लोन देने या उन्हे रिन्यू करने या अन्य किसी फाइनेंशियल एकोमोडेशन को बढ़ाने की अनुमति नहीं है. न ही वे इन्हें अपने रिश्तेदारों, फर्म आदि को प्रदान कर सकते हैं. यह नियम 1 अक्टूबर 2003 से लागू है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 20, 2019, 10:01 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...