पेमेंट सिस्टम में धोखाधड़ी को ट्रैक करेगी RBI, लिया ये फैसला

RBI ने पेमेंट सिस्टम में धोखाधड़ी पर ट्रैक करने के लिए सेंट्रल पेमेंट फ्रॉड रजिस्ट्री (Central Payment Fraud Registry) स्थापित करने का निर्णय लिया है.

News18Hindi
Updated: August 7, 2019, 1:58 PM IST
पेमेंट सिस्टम में धोखाधड़ी को ट्रैक करेगी RBI, लिया ये फैसला
RBI ने पेमेंट सिस्टम में धोखाधड़ी पर ट्रैक करने के लिए सेंट्रल पेमेंट फ्रॉड रजिस्ट्री (Central Payment Fraud Registry) स्थापित करने का निर्णय लिया है.
News18Hindi
Updated: August 7, 2019, 1:58 PM IST
भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने पेमेंट सिस्टम में धोखाधड़ी पर ट्रैक करने के लिए सेंट्रल पेमेंट फ्रॉड रजिस्ट्री (Central Payment Fraud Registry) स्थापित करने का निर्णय लिया है. केंद्रीय बैंक ने कहा कि भुगतान प्रणाली के प्रतिभागियों को निकट-समय पर धोखाधड़ी की निगरानी के लिए इस रजिस्ट्री तक पहुंच प्रदान की जाएगी. उभरते जोखिमों पर ग्राहकों को शिक्षित करने के लिए एकत्रित धोखाधड़ी डाटा प्रकाशित किया जाएगा. फिलहाल, बैंक रिजर्व बैंक की सेंट्रल फ्रॉड मॉनिटरिंग सेल को सभी बैंकिंग फ्रॉड की रिपोर्ट करते हैं.

RBI का पेमेंट सिस्टम विज़न 2021 पेमेंट सिस्टम में धोखाधड़ी के आंकड़ों को इकट्ठा करने के लिए एक रूपरेखा की परिकल्पना करता है. RBI ने कहा कि अक्टूबर 2019 के अंत तक सेंट्रल पेमेंट फ्रॉड रजिस्ट्री की स्थापना के लिए एक विस्तृत रूपरेखा तैयार की जाएगी.

ये भी पढ़ें: RBI का तोहफा! रेपो रेट में हुई 0.35% की कटौती, कम होगी आपकी EMI

NEFT के जरिए जल्द 24 घंटे फ्री में कर सकेंगे पैसे ट्रांसफर

इसके अलावा, आरबीआई ने इस साल दिसंबर से NEFT सर्विस 24 घंटे देगी. आपको बता दें कि इससे पहले वाली बैठक में NEFT और RTGS के चार्जेज पूरी तरह से हटा दिए थे. अभी NEFT के कुछ तय टाइमिंग हैं. फिलहाल NEFT सर्विस के जरिए फंड ट्रांसफर करने की सुविधा सुबह 8 बजे से शाम 7 बजे तक है. हालांकि दूसरे और चौथे शनिवार को बैंक बंद होने की वजह से यह सुविधा नहीं मिलती है.

RBI ने लगातार चौथी बार घटाई दरें
रिजर्व बैंक (RBI) ने रेपो रेट में 0.35 फीसदी की कटौती की है. ​RBI गवर्नर शक्तिकांत दास ने रेपो रेट 0.35 फीसदी घटाकर 5.40 फीसदी कर दिया. यह रेपो रेट 9 साल के निचले स्तर पर है. इसी के साथ RBI ने लगातार चौथी बार रेपो रेट में कमी की है. MPC के 6 सदस्यों में से 4 MPC सदस्य 0.35 फीसदी कटौती के पक्ष में थे. वहीं 2 सदस्य 0.25 फीसदी की कटौती चाहते थे. MPC का पॉलिसी पर ACCOMMODATIVE रुख बरकरार रखा है. MPC ने ब्याज दरों पर नरम रुख कायम रखा है.
Loading...

ये भी पढ़ें: एशिया की बड़ी कंपनी जम्मू-कश्मीर में लगाएगी फैक्ट्री!
First published: August 7, 2019, 1:43 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...