RBI सरकार को क्यों देता है हजारों करोड़ रुपये! जानें पूरा मामला

केंद्र सरकार को RBI से 1.76 लाख करोड़ की मदद मिलने वाली है. रिजर्व बैंक ने बिमल जालान कमेटी की सिफारिशें मानते हुए सोमवार को इसकी मंजूरी दी है. आइए आपको बताते हैं क्यों RBI सरकार को पैसा देती है..

News18Hindi
Updated: August 27, 2019, 1:18 PM IST
RBI सरकार को क्यों देता है हजारों करोड़ रुपये! जानें पूरा मामला
सरकार को RBI क्यों देता है हजारों करोड़ रुपये! जानें पूरा मामला
News18Hindi
Updated: August 27, 2019, 1:18 PM IST
केंद्र सरकार को RBI से 1.76 लाख करोड़ की मदद मिलने वाली है. रिजर्व बैंक ने बिमल जालान कमेटी की सिफारिशें मानते हुए सोमवार को इसकी मंजूरी दी है. 1.76 लाख करोड़ करोड़ रुपए में 1 लाख 23 हजार 414 करोड़ 2018-19 के लिए सरप्लस और 52 हजार 637 करोड़ रुपए संशोधित इकोनॉमिक कैपिटल फ्रेमवर्क (ईसीएफ) के मुताबिक तय हुए अतिरिक्त प्रोविजन के तहत दिए जाएंगे.आपको बता दें कि सरकार को चालू वित्त वर्ष में भारतीय रिजर्व बैंक से डिविडेंड के रूप में 90,000 करोड़ रुपये मिलने की उम्मीद है. यह पिछले वित्त वर्ष में रिजर्व बैंक द्वारा दिए गए 68,000 करोड़ रुपये के डिविडेंड से 32 फीसदी अधिक है. इसमें 28,000 करोड़ रुपये का अंतरिम डिविडेंड भी शामिल था.

आइए जानें कौन से कानून की वजह से RBI को देने पड़ते हैं हजारों करोड़ों रुपये...

बिना ट्रेन टिकट सफर करने वाले सावधान! जारी हुआ नया आदेश



क्या होता है डिविडेंड?
कुछ कंपनियां अपने होने वाले प्रॉफिट में से समय-समय पर शेयरहोल्डर्स (शेयरधारकों) को कुछ हिस्सा देती हैं. मुनाफे का यह हिस्सा वे शेयरहोल्डर्स (शेयरधारकों) को डिविडेंड के रूप में देती हैं. इसी तरह आरबीआई भी अपने मुनाफे के हिस्से में से कुछ हिस्सा सरकार को देता है.

RBI के खजाने से मिले 1.76 लाख करोड़ को सरकार यहां करेगी खर्च
Loading...

क्यों RBI सरकार को पैसा देती है?
आरबीआई की स्थापना सन 1934 में हुई थी. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया एक्ट 1934 के चैप्टर 4 सैक्शन 47 के मुताबिक, आरबीआई का अपने ऑपरेशंस के जरिये कमाए मुनाफे में से सरप्लस फंड को केंद्र सरकार को भेजना जरूरी है.

आरबीआई कैसे मुनाफा कमाता है?
आरबीआई बॉन्ड्स के खरीदने बेचने पर पैसा कमाता है. साथ ही, बैंकों को दिए कर्ज़ पर भी आरबीआई पैसा बनाता है.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 27, 2019, 11:40 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...