Home /News /business /

rbi will consider further hike in interest rates in june meeting report pmgkp

रिजर्व बैंक जून की मीटिंग में ब्याज दरों में और बढ़ोतरी पर विचार करेगा: रिपोर्ट

2022-23 में भारत की जीडीपी वृद्धि दर 7.2 फीसदी रहने का अनुमान है.

2022-23 में भारत की जीडीपी वृद्धि दर 7.2 फीसदी रहने का अनुमान है.

 आरबीआई जून की मोनेट्री पॉलिसी मीटिंग में इंफ्लेशन का अनुमान और बढ़ा सकता है. पिछले दो साल में आरबीआई ने पहली बार पिछले महीने में रेट हाइक का निर्णय़ लिया. एक बार फिर जून में ब्याज दरों में बढ़ोतरी का अनुमान है.

नई दिल्ली . भारत का सेंट्रल बैंक जून की मोनेट्री पॉलिसी मीटिंग में इंफ्लेशन का अनुमान और बढ़ा सकता है. इस वजह से रिजर्व बैंक ब्याज दरों में और बढ़ोतरी कर सकता है. लाइव मिंट की रिपोर्ट के मुताबिक मामले से जुड़े एक सूत्र ने यह जानकारी दी. पिछले दो साल में आरबीआई ने पहली बार पिछले महीने में रेट हाइक का निर्णय़ लिया. RBI ने पिछले महीने एक एक अचानक बुलाई गई मीटिंग में 40 बेसिस प्वाइंट इंट्रेस्ट रेट बढ़ाते हुए इसे 4.40 फीसदी कर दिया.

अप्रैल में आरबीआई ने वर्तमान वित्तीय वर्ष के लिए इंफ्लेशन यानी महंगाई के अनुमान को बढ़ाते हुए 5.7 प्रतिशत कर दिया. यह फरवरी के अनुमान से 120 बीपीएस ज्यादा था. साथ ही इकोनॉमिक ग्रोथ का अनुमान वित्त वर्ष 2022-23 के लिए 7.8 प्रतिशत से घटाकर 7.2 फीसदी कर दिया.

यह भी पढ़ें- अमेरिका में महंगाई अप्रैल में थोड़ी सी कम हुई, पर अभी भी 40 साल के हाइएस्ट लेवल के करीब

महंगाई हाई पर
मार्च में इंफ्लेशन बढ़कर 17 महीने के हाई 7 फीसदी पर पहुंच गया था. फूड प्राइस की कीमतों में तेज बढ़ोतरी हुई है. यह आरबीआई की लिमिट 2 से 6 फीसदी के दायरे से लगातार ऊपर चल रहा है. अप्रैल में भी इंफ्लेशन के ऊपर ही रहने का अनुमान है. आरबीआई ने साल 2020 में कोरोना महामारी की वजह से रेपो रेट 115 बेसिस प्वाइंट कट किए थे. अब सूत्रों के मुताबिक रिजर्व बैंक जल्दी से जल्दी इसको रिवर्स करना चाहता है.

ब्याज दरों में और बढ़ोतरी का अनुमान
रूस-यूक्रेन संकट ने महंगाई को और ज्यादा बढ़ा दिया है. लिहाजा स्थिति और जटिल हो गई है. दुनियाभर में महंगाई का संकट बढ़ गया है. अमेरिका में भी महंगाई को देखते हुए फेडरल रिजर्व ने पिछले महीने 50 बेसिस प्वाइंट रेट हाइक किया था. आगे भी अमेरिकी फेड द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी के संकेत दिए गए हैं. भारत का सेंट्रल बैंक भी उसी रास्ते पर आगे बढ़ रहा है.

बाजार के जानकारों का मानना है कि रेपो रेट में आगे भी रिजर्व बैंक बढ़ोतरी करता रहेगा. चालू वित्त वर्ष (2022-23) के अंत तक रेपो रेट में 1 फीसदी तक की बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है.  कुछ दिन पहले ही कोटक महिंद्रा बैंक के सीईओ और एमडी उदय कोटक ने कहा था कि रेपो रेट बढ़ने के बाद धीरे-धीरे बैंक एमसीएलआर में बढ़ोतरी करेंगे. साथ ही फिक्स्ड डिपॉजिट्स पर अब ज्यादा मिलेगा.

Tags: Bank news, RBI, Rbi policy, Reserve bank of india

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर