लाइव टीवी

EMI पेमेंट कर सकते हैं तो RBI मोरेटोरियम का लाभ लेने से बचें, भारी बचत का मौका

News18Hindi
Updated: March 29, 2020, 7:31 AM IST
EMI पेमेंट कर सकते हैं तो RBI मोरेटोरियम का लाभ लेने से बचें, भारी बचत का मौका
आरबीआई मोरेटोरियम का लाभ नहीं लेने पर अधिक बचत हो सकती है.

कई एक्सपर्ट्स का मानना है कि RBI द्वारा नीतिगत ब्याज दरों में कटौती से रिटेल लोन लेने वाले ग्राहकों को अधिक फायदा होगा. जबकि, मोरेटोरियम उन ग्राहकों को राहत देगा, जिन्हें COVID-19 की वजह से वित्तीय तौर पर परेशानी हो रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 29, 2020, 7:31 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (COVID-19) की वजह से रिटेल लोन (Retail Loan) लेने वाले ग्राहकों में समय पर रिपेमेंट को लेकर कई तरह के सवाल हैं. बीते शुक्रवार को ही भारतीय रिजर्व बैंक (Reserve Bank of India) ने ऐसे ग्राहकों को एक राहत की खबर दी है. उन्हें RBI द्वारा नीतिगत ब्याज दर में कटौती और 3 महीने की मोरेटोरियम से निश्चित ही इस संकट की ​घड़ी में राहत मिली होगी.

SBI ग्राहकों को देगा पूरा लाभ
भारतीय स्टेट बैंक (State Bank of India) ने भी RBI के ऐलान के बाद कहा कि वो रेपो लिंक्ड होम लोन में 0.75 फीसदी का पूरा लाभ ग्राहकों को देगा. एसबीआई ने कहा कि उसके इस फैसले से 30 साल के होम लोन पर प्रति लाख 52 रुपये की बचत होगी. ऐसे में अगर किसी ग्राहक ने SBI से रेपो लिंक्ड आधार पर लोन लिया है तो उनकी ईएमआई कम हो जाएगी.

यह भी पढ़ें: कोरोना संकट पर सरकार का ऐलान- 24 घंटे बिजली के साथ मिलेगी बिजली बिल में ये छूट



1 अक्टूबर 2019 के बाद से सभी बैंकों द्वारा जारी किया गया रिटेल लोन एक्सटर्नल बेंचमार्क से लिंक होंगे. ऐसे में RBI के ऐलान के बाद बैंक इसका लाभ अपने ग्राहकों को देंगे. अगर ऐसा होता है लोन लेने वाले लोगों की EMI कम हो जाएगी. एक्सपर्ट्स का कहना है कि अगर आप अपने होम लोन का रिपेमेंट जारी रखते हैं और RBI के मोरेटोरियम पीरियड का लाभ नहीं लेते हैं तो आपको और भी फायदा हो सकता है.



नीतिगत ब्याज दर में कटौती से सभी तरह के टर्म लोन में राहत
मनीकंट्रोल ने अपनी एक रिपोर्ट में एक्सपर्ट के हवाले से लिखा है कि RBI द्वारा मोरेटोरियम के फैसले ने ब्याज दरों में कटौती की तुलना में लोगों का ध्यान अधिक खींचा है. जबकि, नीतिगत ब्याज दरो में कटौती से सभी तरह के किसी भी तरह के टर्म लोन लेने वाले ग्राहकों को लाभ मिलेगा. इसमें होम, आटो, पसर्नल और एजुकेशन से लेकर क्रेडिट कार्ड का बकाया भी शामिल है. अब आपके लिए यह जानना जरूरी है कि अगर आप अपनी EMI का भुगतान करने में सक्षम है और मोरेटोरियम पीरियड (Moratorium Period) का लाभ नहीं लेते हैं तो आपको कैसे अधिक लाभ मिलेगा. आइए जानते हैं इसके बारे में...

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन में किसानों के लिए हुआ बड़ा ऐलान, सरकार ने दी ये छूट

जानकारों का कहना है कि मोरेटोरियम का मतलब है कि इसका लाभ लेने वाले ग्राहकों का लोन ​रिपेमेंट समय 3 महीनों के लिए बढ़ा दिया जाएगा. इसका फायदा यह होगा कि वर्तमान में ब्याज दरें कम हैं और आपके पास मौका है इसी कम ब्याज दर के दौर में आप तय समय से पहले ही लोन प्रीपेमेंट कर सकते हैं.

मोरेटोरियम का लाभ नहीं लेने पर कैसे होगा आपको फायदा
लोन कंस्ल्टेंसी फर्म मॉर्टगेजवर्ल्ड के कैलकुलेशन के मुताबिक, अगर किसी ने 45 लाख रुपये का लोन लिया है, जिसे 300 महीने में पेमेंट करना है और वह मोरेटोरियम पीरियड का लाभ लेता है तो उन्में मौजूदा ब्याज दर के आधार पर पूरे अवधि के लिए 11.59 लाख रुपये के ब्याज की बचत होगी. इसके लिए उन्हें हर महीने 34,731 रुपये की ईएमआई देनी होगी. हालांकि, अगर यही व्यक्ति इन 3 महीने में अपने मोरेटोरियम पीरियड का लाभ नहीं लेता है तो उनकी कुल बचत 15.39 लाख रुपये की होगी. ऐसे में अगर आप मौजूदा समय में EMI जमा करने में सक्षम है और आप मोरेटोरियम पीरियड का लाभ नहीं लेते हैं तो आपको फायदा हो सकता है.

यह भी पढ़ें: बड़ी खबर: इस नए किट को मिली मंजूरी, सिर्फ 5 मिनट में करेगी कोरोना की जांच

केंद्रीय बैंक ने यह भी साफ कर दिया है कि इन तीन महीनों के दौरान लोन पर ब्याज कैलकुलेट किया जाएगा. मोरेटोरियम का मतलब ब्याज से राहत देना नहीं है. इसका मतलब सिर्फ यह है कि अगर आपके सक्षम नहीं है तो आपको इन 3 महीनों में EMI जमा करने में राहत दी जाएगी. इसके बदले आपके कुल लोन रिपेमेंट अवधि में 3 महीने बढ़ा दिए जाएंगे.

यह भी पढ़ें: RBI के बाद अब SBI ने दिया ग्राहकों को तोहफा,1 अप्रैल से इतनी कम होगी आपकी EMI

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 29, 2020, 6:42 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading