'कोरोना' नाम की इस रियल एस्टेट ​बिजनेस के लिए खड़ी हुई समस्या, नाम सुनकर ही भड़क रहे लोग!

'कोरोना' नाम की इस रियल एस्टेट ​बिजनेस के लिए खड़ी हुई समस्या, नाम सुनकर ही भड़क रहे लोग!
कोरोना शब्द के नाम पर एक रियल एस्टेट कंपनी का भी नाम है.

साल 2010 में लॉन्च किए गए एक रियल एस्टेट​ बिजनेस का नाम Corona Buildcon है. अब करीब एक दशक के बाद मौजूदा कोरोना वायरस महामारी के बाद इस डेवलपर के लिए समस्या खड़ी हो गई है. ये बिजनेस अब इस नाम को छोड़ने की तैयारी में है.

  • Share this:
नई दिल्ली. आमतौर पर कारोबार के लिए ब्रांड के नाम पर गहन विचार-विमर्श करने के बाद ही कोई फैसला लिया जाता है. किसी भी उत्पाद या कंपनी का नाम रखने के ​लिए यह जरूर ध्यान में रखा जाता है कि वह ब्रांड कैसा साउंड करेगा? क्या ग्राहक इसे पसंद करेंगे? कंपनियां एक ऐसे नाम की तलाश करती हैं जो समय के अनुकूल हो. साल 2010 में जगमेंदर गुप्ता (Jagmender Gupta) नाम के एक शख्स जब अपना रियल एस्टेट बिजनेस (Real Estate Business) शुरू कर रहे थे तो उनके सामने भी कुछ ऐसी ही चुनौती थी. 1992 से अपने पार्टनर्स के साथ बिजनेस कर रहे गुप्ता अब अपनी कंपनी लॉन्च करने की तैयारी में थे. उन्हें एक ऐसे ब्रांड नाम की तलाश थी, जो ग्राहकों के साथ जीवनभर के लिए एक बॉन्ड साझा कर सके.

आमतौर पर प्रॉपर्टी बिल्डर्स ब्रांड का नाम अपने सरनेम के साथ जोड़कर ही रखते हैं. उदाहरण के तौर पर देखें तो गोदरेज प्रॉपर्टीज, हीरानन्दानी ग्रुप, लोढ़ा ग्रुप और गौर ग्रुप आदि. कुछ अपने सरनेम के शुरुआती अक्षरों के आधार पर ही अपने ब्रांड का नाम रखते हैं. जैसे एटीएस के लिए गीतांबर आंनद, अश्विनी तलवार और अनिल कुमार शाहा ने किया. हालांकि, इसमें यूनिटेक और डीएलएफ जैसे कुछ अपवाद भी रहे हैं. गुप्ता किसी लैटिन शब्द की तलाश में थे और अंत में उन्होंने 'कोरोना बिल्डकॉन' (Corona Buildcon) नाम को फाइनल किया.

कोरोना के नाम पर क्यों रखा ब्रांड का नाम?
उस दौरान, गुप्ता का मानना है कि इस नाम से ग्राहकों को लगेगा कि वो अपनी खुद की प्रॉपर्टी के हकदार हैं. उन्होंने यह भी सोचा कि कोरोना शब्द का मतलब लाइट का सर्कल यानी वृत होता है. ठीक वैसे ही, जैसे सूर्य के चारों ओर प्रकाश का घेरा होता है. उनके लिए यह किसी ब्रांड का नाम रखने का एक स्मार्ट फैसला था. गुप्ता ने अपने बेटे अजय को बताया कि सूरज के चारों तरफ प्रकाश का यह घेरा ions की एक क्रिया की वजह से होता है और यह बेहद ही खास फीचर है. इसीलिए, हमने अपनी कंपनी का लोगो भी कुछ इसी तर्ज पर तैयार किया है.
यह भी पढ़ें: रिलायंस ने बनाया सबसे बड़ा रिकॉर्ड-बनी 14 लाख करोड़ मार्केटकैप वाली कंपनी



क्या है कोरोना शब्द का असली मतलब?
हालांकि, 2010 में इस फैसले के दौरान गुप्ता को भी अंदाजा नहीं था कि करीब एक दशक बाद एक वैश्विक महामारी का नाम भी इसी आधार पर होगा. कोरोना वायरस (Corona virus) पर रिसर्च करने वालों को पता चला कि माइक्रोस्कोप (Microscopic View of Corona Virus) पर इस वायरस का आकार भी सूरज के चारों ओर चमकते घेरे की तरह एक क्राउन है. अब इसके बाद उन्हें अपने ब्रांड के नाम को लेकर परेशानी होने लगी है.

गुप्ता ने मनीकंट्रोल को बताया, 'जब हम हाल ही में बैंक में मंजूरी के लिए गए तो वहां हमारी कंपनी के नाम को लेकर अजीब कंमेट्स पास किए गए.' गुड़गांव के Corona Optus अपार्टमेंट में रहने वाले एक शख्स बताते हैं कि हाल ही में वो अपनी प्रॉपर्टी टैक्स जमा करने गए थे. आधिकारियों ने उनके पते को लेकर कमेंट पास किया. Corona Optus गुप्ता की कंपनी का ही एक प्रोजेक्ट है. इस शख्स ने बताया कि उन्हें इस नाम को लेकर ज्यादा चिंता नहीं है, क्योंकि वो अब उन लाखों लोखों में से नहीं है, जिन्हें अभी तक अपने घर का पजेशन नहीं मिला हो. उनके लिए नाम से ज्यादा मतलब नहीं है.

लेकिन, इस रियल एस्टेट कंपनी के मालिक अब अपने बिजनेस को लेकर असमंजस में है. उन्हें लगता है कि भविष्य में इस नाम से उनके कारोबार पर असर पड़ेगा. हाल ही में हरियाणा के सोहना में Corona Buildcon ने 226 यूनिट का प्रोजेक्ट तैयार किया है, जिसका नाम Corona Greens है. इस प्रोजेक्ट को राज्य सरकार की किफायती हाउसिंग स्कीम के तहत तैयार किया गया है.

यह भी पढ़ें: नए ई-कॉमर्स कानून से ग्राहकों को मिलेगी सहूलियत, कंपनियां नहीं कर पाएंगी धोखा

अब कोरोना शब्द को प्रोजेक्ट नाम से हटाने पर विचार
अजय गुप्ता कहते हैं, 'शुरुआत में हमें मार्केटिंग एसोसिएट्स से प्रोजेक्ट के नाम को लेकर मिश्रित रिव्यू मिला था. उन्होंने बताया कि कुछ खरीदारा इस नाम के प्रोजेक्ट में घर नहीं खरीदना पसंद करेंगे.' गुप्ता ने कहा कि ​कुछ रिसपॉन्स बेहतर रहा है, लेकिन उनकी कंपनी Corona शब्द को अपने प्रोजेक्ट से हटाने पर विचार कर रही है. हालांकि, उन्होंने कहा कि जिन प्रोजेक्ट्स को डिलीवर कर दिया गया है, उनका नाम तो वो जारी रखेंगे लेकिन ​संभव है कि वो नये प्रोजेक्ट के नाम में इस शब्द का इस्तेमाल न करें.

उन्होंने बताया कि अभी तक कंपनी ने इस बात फैसला नहीं लिया है कि वो अपने कॉरपोरेट लोगो में क्राउन के साथ नीचे की तरफ एक नोट लिखें. इस नोट में लिखा होगा कि इस प्रोजेक्ट को Corona Group ने तैयार किया है. वो भी अन्य विकल्प पर विचार कर रहे हैं.

कोरोना शब्द की एक अगल रिकॉल वैल्यू
मनीकंट्रोल ने अपनी इस रिपोर्ट में मार्केटर और हरीश बिजूर कंसल्ट्स इंक के संस्थापक हरीश बिजूर के हवाले से लिखा कि किसी पते पर Corona शब्द के इस्तेमाल से ब्रांडिंग की समस्या आ सकती है. उन्होंने यह भी कहा कि Corona बीयर का भी नाम है. कोरोना एक रियल एस्टेट प्रोजेक्ट भी है. उनका मानना है कि इस नाम को जारी रखा जा सकता है. क्विक रिकॉल के मामले में इसकी अपनी एक अलग वैल्यू है. उन्होंने कहा कि इससे प्रॉपर्टी की वैल्यूएशन पर कोई खास असर नहीं पड़ेगा.

यह भी पढ़ें: QR कोड से ट्रांजैक्शन करने वालों के लिए खुशखबरी! जल्द मिलेगा कई ऑफर्स का फायदा

Corona Buildcon करीब 20 एकड़ की जमीन पर अवासीय प्रोजेक्ट बना रही है. इसमें से करीब 20 लाख स्क्वैयर फीट पर कंस्ट्रक्शन पूरा हो चुका है और इसे हैंडओवर भी किया जा चुका है. 1.5 लाख स्क्वैयर फीट पर कॉमर्शियल डेवलपमेंट का काम चल रहा है. इसके अलावा होटल और शैक्षणिक संस्थानों को लेकर भी काम चल रहा है. (इस खबर का अनुवाद मनीकंट्रोल से किया गया है. इंग्लिश में पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज