• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • 90,000 करोड़ रुपये में पूरे हो पाएंगे भारत में अधूरे पड़े मकान: रिपोर्ट में हुआ खुलासा

90,000 करोड़ रुपये में पूरे हो पाएंगे भारत में अधूरे पड़े मकान: रिपोर्ट में हुआ खुलासा

90,000 करोड़ रुपये में पूरे हो पाएंगे भारत में अधूरे पड़े मकान: रिपोर्ट में हुआ खुलासा

90,000 करोड़ रुपये में पूरे हो पाएंगे भारत में अधूरे पड़े मकान: रिपोर्ट में हुआ खुलासा

देशभर में विभिन्न प्रकार के दबाव में फंसे कुल 7.4 लाख आवासीय इकाइयों (मकान) को पूरा करने के लिए करीब 90,000 करोड़ रुपये की जरूरत होगी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. देशभर में विभिन्न प्रकार के दबाव में फंसे कुल 7.4 लाख आवासीय इकाइयों (मकान) को पूरा करने के लिए करीब 90,000 करोड़ रुपये की जरूरत होगी. रीयल एस्टेट (Real Estate) से जुड़े ऑनलाइन मंच प्रॉपइक्विटी ने सोमवार को यह बात कही.

    वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने शनिवार को घोषणा की है कि किफायती और मध्यम आय श्रेणी में निर्माण के आखिरी चरण में पहुंच चुकी बिना विवाद वाली आवासीय परियोजनाओं को पूरा कराने में वित्तीय मदद के लिए कोष बनाया जाएगा. योजना का लाभ उन्हीं परियोजनाओं को मिलेगा जो एनपीए घोषित नहीं हैं और न ही उनको ऋण समाधान के लिए एनसीएलटी के सुपुर्द किया गया है.

    रखते हैं क्रेडिट कार्ड तो जान लीजिए ये बात, मुफ्त में मिलती हैं ये सुविधाएं

    इसमें करीब 10 हजार करोड़ रुपये सरकार मुहैया कराएगी तथा इतनी ही राशि अन्य स्रोतों से जुटायी जाएगी. कुल मिलाकर 20,000 करोड़ रुपये का कोष उपलब्ध कराया जायेगा. प्रॉपइक्विटी के संस्थापक और प्रबंध निदेशक समीर जसुजा ने कहा कि सरकार का यह कदम निश्चित तौर पर सकारात्मक है और कंपनी को उम्मीद है कि सरकार मुश्किल में फंसे उद्योग की मदद करने के लिए भविष्य में और कदम उठाएगी.

    उन्होंने कहा कि मौजूदा आवंटित पूंजी का यदि पूरी तरह से इस्तेमाल होता है तो करीब 1.6 लाख इकाइयों को पूरा करने में मदद मिलेगी. प्रॉपइक्विटी ने कहा कि विभिन्न चरणों में अटकी पड़ी कुल 7.4 लाख इकाइयों को पूरा करने के लिए 90,000 करोड़ रुपये की जरूरत होगी.

    आधार कार्ड पर खराब फोटो से न हों मायूस, अपडेट करने का ये है आसान तरीका

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज