फेसबुक के 40 हजार से ज्यादा यूजर का डेटा चाहती थी केंद्र सरकार, जानें वजह

Facebook ने दूसरी छमाही के दौरान भारत में 878 पोस्ट को ब्लॉक कर दिया था

Facebook ने दूसरी छमाही के दौरान भारत में 878 पोस्ट को ब्लॉक कर दिया था

फेसबुक (Facebook) की नई ट्रांसपेरेंसी रिपोर्ट में दावा किया गया है कि केंद्र सरकार ने डेटा के लिए साल 2020 की दूसरी छमाही में 40,300 आवेदन दिए.

  • Share this:

नई दिल्ली. सोशल मीडिया के यूजर्स का डेटा (Users Data) हासिल करने के लिए भारत सरकार ने फेसबुक को 2020 की दूसरी छमाही में 40,300 आवेदन दिए. फेसबुक की नई ट्रांसपेरेंसी रिपोर्ट में यह दावा किया गया है.

सोशल मीडिया दिग्गज फेसबुक की रिपोर्ट के मुताबिक, जनवरी-जून 2020 की अवधि के मुकाबले ये 13.3 प्रतिशत ज्यादा था, तब भारत ने कुल 35,560 अनुरोध किए थे. यही नहीं, राज्य की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के खिलाफ कंटेंट को भी ब्लॉक किया गया. सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम, 2000 की धारा 69A का उल्लंघन करने के लिए आईटी मंत्रालय के निर्देशों के जवाब में कंपनी ने 2020 की दूसरी छमाही के दौरान भारत में 878 पोस्ट को ब्लॉक कर दिया था. इनमें से 10 को अस्थायी रूप से प्रतिबंधित किया गया था. इसने कहा कि हमने कोर्ट के आदेशों का पालन करते हुए 54 आइटम्स को भी प्रतिबंधित कर दिया है.

यह भी पढ़ें : Success Story : माता-पिता की देखभाल के लिए नौकरी छोड़ टीपीए बिजनेस किया, अब 3000 करोड़ का पोर्टफोलियो


सरकारी अनुरोध 2020 की दूसरी छमाही में लगभग 10 प्रतिशत बढ़कर 191,013

वैश्विक स्तर पर, यूजर्स डेटा के लिए सरकारी अनुरोध 2020 की दूसरी छमाही में लगभग 10 प्रतिशत बढ़कर 191,013 हो गया, जो 2020 की पहली छमाही में 173,592 था. भारत में 62,754 यूजर्स / अकाउंड से संबंधित जानकारी का अनुरोध किया गया था और कुछ डेटा 52 प्रतिशत अनुरोधों के लिए तैयार किया गया था.

यह भी पढ़ें : नौकरी की बात : महामारी में साइकोमेट्रिक्स टेस्ट और वर्चुअल इंटरव्यू की ट्रिक से पक्की करें अपनी जॉब



हर एक अनुरोध की कानूनी आधार पर पूरी सावधानी से समीक्षा होती है

रिपोर्ट में बताया गया है कि भारत ने जुलाई-दिसंबर 2020 के बीच कुल 40,300 अनुरोध किए, जिनमें से 37,865 कानूनी प्रक्रिया अनुरोध थे और 2,435 आपातकालीन प्रकटीकरण अनुरोध थे। रिपोर्ट में कहा गया है, "Facebook लागू कानून और अपनी सेवा की शर्तों के अनुसार डेटा के लिए सरकारी अनुरोधों का जवाब देता है. हमें प्राप्त होने वाले हर एक अनुरोध की कानूनी आधार पर पूरी सावधानी से समीक्षा की जाती है और हम उन अनुरोधों को अस्वीकार कर सकते हैं, जो ज्यादा व्यापक और अस्पष्ट दिखाई देते हैं."

यह भी पढ़ें : Success Story : कचरा बीनने वालों के साथ काम कर हैंडबैग बनाए, आज 100 करोड़ का टर्नओवर 

ब्राजील के राष्ट्रपति से संबंधित कंटेंट को वैश्विक रूप से प्रतिबंधित

ब्राजील के सुप्रीम कोर्ट के जज अलेक्जेंड्रे डी मोरेस के एक आदेश के जवाब में, ब्राजील के राष्ट्रपति बोल्सोनारो के समर्थकों के 12 प्रोफाइल और पेज से संबंधित, हमने भारत सहित इस केंटेंट को वैश्विक रूप से प्रतिबंधित कर दिया था. फेसबुक ने जोर देकर कहा कि वह उन देशों में कानून का सम्मान करता है, जहां वह संचालित होता है. वह इन प्रतिबंधों के परिणामस्वरूप बाहरी कानूनी मांगों का "दृढ़ता से" विरोध करता है. सोशल मीडिया की दिग्गज कंपनी ने 2021 की पहली तिमाही के लिए अपनी सामुदायिक मानक प्रवर्तन रिपोर्ट (Community Standards Enforcement Report) भी जारी की.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज