• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • बड़ा झटका- भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था के इस साल मंदी से उबरने की संभावना नहीं: Reuters Poll

बड़ा झटका- भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था के इस साल मंदी से उबरने की संभावना नहीं: Reuters Poll

IMF के मुताबिक, 2021 में भारत चीन को पीछे छोड़ते हुए तेजी से बढ़ने वाली उभरती अर्थव्यवस्था का दर्जा फिर हासिल कर लेगा.

IMF के मुताबिक, 2021 में भारत चीन को पीछे छोड़ते हुए तेजी से बढ़ने वाली उभरती अर्थव्यवस्था का दर्जा फिर हासिल कर लेगा.

रॉयटर्स के सर्वे के मुताबिक, अच्‍छे मानसून की वजह से कृषि उत्‍पादन (Agriculture Produce) में बढ़ोतरी की उम्‍मीदों और सरकार के खर्च (Government Spending) में वृद्धि से अर्थव्‍यवस्‍था में सुधार के संकेत मिल रहे हैं, लेकिन इस बीच ज्‍यादातर दूसरे कारोबार लगातार खराब प्रदर्शन (Weak Performance) कर रहे हैं. इससे इस साल अर्थव्‍यवस्‍था के मंदी से उबरने की उम्‍मीदें धाराशायी होती हुई नजर आ रही हैं.

  • Share this:
    नई दिल्‍ली. भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में सुस्‍ती (Economic Slowdown) का दौर कोरोना संकट के पहले से चल रहा था. इसके बाद कोविड-19 (Covid-19) के प्रकोप ने हालात बद से बदतर कर दिए. मौजूदा हालात को देखते हुए अनुमान लगाया जा रहा है कि भारत में मंदी (Recession) का दौर इस साल के आखिर तक जारी रहेगा. उम्‍मीद की जा रही है कि अगले साल यानी 2021 के शुरुआती महीनों से देश में मंदी का असर कम होना शुरू होगा. रॉयटर्स के पोल के मुताबिक, देश में कोरोना वायरस प्रकोप के कारण खपत (Consumption) और कारोबारी गतिविधियों (Business Activities) में कमी के कारण हालात खराब होते चले गए.

    इकोनॉमी को बचाने के लिए उठाने होंगे कई कदम
    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की सरकर कोरोना संकट के कारण खराब हुए आर्थिक हालात को सुधारने के लिए 20 लाख करोड़ रुपये के प्रोत्‍साहन पैकेज (Stimulus) की घोषणा कर चुकी है. वहीं, रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) मार्च से अब तक ब्‍याज दरों (Interest Rates) में 1.15 फीसदी यानी 115 आधार अंकों की कटौती कर चुकी है. ऐसे में साफ है कि देश की अर्थव्‍यवस्‍था को वैश्विक महामारी (Pandemic) के कारण बने हालात से बचाने के लिए अभी सरकार को काफी कुछ करना होगा.

    ये भी पढ़ें- बुरी खबर- कोरोना संकट के बीच ये कंपनी कर सकती है 25000 लोगों की छंटनी

    लाखों की छिनी नौकरी, करोड़ों का रोजगार ठप
    भारत में इस समय दुनिया के किसी भी देश के मुकाबले कहीं तेजी से संक्रमण (Infections) फैल रहा है. अब तक देश में कोरोना पॉजिटिव मरीजों (Corona Positive Cases) की संख्‍या 33 लाख से ज्‍यादा हो चुकी है. इनमें से 60 हजार से ज्‍यादा लोगों की मौत हो गई है. इस समय करोड़ों लोग संक्रमण की चपेट में आने से बचने के लिए अपने घरों में कैद हैं. दुनिया के दूसरे सबसे बड़ी आबादी वाले देश में लाखों लोगों की नौकरियां छिन (Job Loss) गई हैं. वहीं, करोड़ों लोगों का रोजगार ठप (Unemployment) हो चुका है.

    ये भी पढ़ें- इस बिजनेस में सिर्फ 50 हजार रु लगाकर हर महीने कमा सकते हैं 2.50 लाख रु

    'अर्थव्‍यवस्‍था को बचाने का हर कदम होगा नाकाफी'
    आईएनजी में सीनियर एशिया इकोनॉमिस्‍ट प्रकाश सकपाल का कहना है, 'यह संकट का सबसे कम असर हो सकता है, लेकिन इस तिमाही के दौरान तेजी से सामने आए संक्रमण के नए मामलों के आधार यह कहा जा सकता है कि अगले कुछ महीनों में देश की अर्थव्‍यवस्‍था के उबरने की कोई उम्‍मीद नहीं है. सार्वजनिक वित्‍त (Public Finance) और बढ़ती महंगाई (Rising Inflation) मैक्रो पॉलिसी (Macro Policy) में रोड़ा बन गई है. इसका सीधा मतलब है कि अर्थव्‍यवस्‍था को साल के बचे समय में उबारने के लिए उठाया जाने वाला हर कदम नाकाफी होगा.

    ये भी पढ़ें- 1 September से बदल जाएंगी ये 7 चीजें, आम आदमी पर डालेंगी सीधा असर

    इकोनॉमी के लिए अब तक के सबसे खराब हालात
    कोविड-19 को फैलने से रोकने के लिए लगाए गए लॉकडाउन (Lockdown) के कारण पिछली तिमाही में कोराबारी गतिविधियां पूरी तरह से ठप रहीं. रॉयटर्स के 50 अर्थशास्त्रियों (Economist) को शामिल कर किए गए 18-27 अगस्‍त के पोल के मुताबिक, पिछली तिमाही के दौरान भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था 18.3 फीसदी कम (Shrank) हो सकती है. हालांकि, ये इससे पिछले पोल के 20 फीसदी के मुकाबले कुछ बेहतर है. फिर भी ये 1990 के मध्‍य में शुरू किए गए तिमाही डाटा के लिए आधिकारिक रिपोर्टिंग के लिहाज से अब तक की सबसे निचली दर होगी.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज