Reliance AGM 2019: अगले 18 महीने में कर्जमुक्त कंपनी होगी रिलायंस इंडस्ट्रीज

मुकेश अंबानी ने कंपनी की 42वीं एनुअल जनरल मीटिंग (Reliance AGM 2019) में कहा कि जीरो नेट डेट (Zero Net Debt) कंपनी बनने का पूरा प्लान है.

News18Hindi
Updated: August 12, 2019, 1:40 PM IST
News18Hindi
Updated: August 12, 2019, 1:40 PM IST
रियालंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कंपनी की 42वीं एनुअल जनरल मीटिंग (Reliance AGM 2019) में कहा कि जीरो नेट डेट (Zero Net Debt) कंपनी बनने का पूरा प्लान है. रिलायंस इंडस्ट्रीज (RIL) अगले 18 महीने यानी मार्च 2021 तक कर्ज मुक्त हो जाएगी.  इसके तहत कंपनी अपने तेल एवं रसायन कारोबार में सऊदी अरामको और ईंधन खुदरा कारोबार में ब्रिटेन की बीपी को हिस्सेदारी बिक्री कर धन जुटाएगी.  सऊदी अरेमको (Saudi Aramco) के साथ जल्द ही डील पूरी होगी. रिलायंस रिटेल और जियो की अगले 5 साल में लिस्टिंग होगी. साथ ही उन्होंने अगले पांच साल में 15% सालाना की ग्रोथ का लक्ष्य रखा.

मार्च 201 तक कर्ज मुक्त कंपनी
कंपनी की यहां 42वीं वार्षिक आमसभा को संबोधित करते हुए अंबानी ने कहा, हमें इस वित्त वर्ष में सऊदी अरामको और बीपी के साथ लेनदेन पूरा हो जाने की उम्मीद है. इससे कंपनी को 1.15 लाख करोड़ रुपये का निवेश मिलने की उम्मीद है. इन लेनदेन से कंपनी पर कर्ज का बोझ कम होगा और अगले 18 माह के भीतर कंपनी को ऋणमुक्त बनाने में मदद मिलेगी. उन्होंने कहा, हमारे पास अगले 18 महीनों में कर्ज मुक्त कंपनी बनने की एक सुस्पष्ट रुपरेखा है.

रिलायंस ने पिछले 5 साल में करीब 5.4 लाख करोड़ रुपये का निवेश किया है. यह दशक भर से अधिक एक अरब डॉलर सालाना की परिचालन आय पैदा करेगा. अंबानी ने घोषणा की कि आने वाली कुछ तिमाहियों में उसकी दूरसंचार इकाई जियो और खुदरा क्षेत्र इकाई रिलायंस रिटेल वैश्विक साझेदारियां करेगी. वहीं आने वाले पांच सालों के भीतर इन दोनों कंपनियों को सूचीबद्ध कराया जाएगा.



उन्होंने कहा कि हम इस साल शून्य ऋण वाली कंपनी होने का लक्ष्य पूरा कर लेंगे. वह अपने शेयर धारकों को विश्वास दिलाते हैं कि वह उन्हें ऊंचा लाभांश, समय-समय पर बोनस निर्गम और अन्य लाभ उपलब्ध कराते रहेंगे. उन्होंने कहा कि पिछले साल रिलायंस पर 1,54,478 करोड़ रुपये का शुद्ध ऋण था.

टैक्स देने में सबसे आगे रियालंस इंडस्ट्रीज
Loading...

मुकेश अंबानी ने कहा कि देश में सबसे ज्यादा इनकम टैक्स और गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स (GST) देने के मामले में रियालंस इंडस्ट्रीज सबसे आगे है. GST भरने के मामले में भी रिलायंस इंडस्ट्रीज़ सबसे आगे रही. रिलायंस ने पिछले साल 67,320 करोड़ रुपये GST भरा, ये एक रिकॉर्ड है. मुकेश अंबानी ने ये भी कहा कि जियो के 34 करोड़ से ज्यादा ग्राहक हो चुके हैं.

ये भी पढ़ें: RIL AGM 2019: Jio Fiber से 24 लाख छोटे कारोबारियों को मिलेगी क्लाउड कनेक्टिविटी की सुविधा

सबसे ज़्यादा मुनाफा
देश की अर्थव्यवस्था में रिलायंस ने पिछले काफी समय से अहम योगदान दिया है. फाइनेंशियल ईयर 2019 में आरआईएल सबसे ज़्यादा मुनाफे वाली कंपनी रही है. AGM में मुकेश अंबानी ने बताया कि सउदी अरामको रिलायंस में 20% हिस्सा खरीदेगी. सउदी अरामको 75 बिलियन डॉलर का निवेश करेगी. सउदी अरामको (SAUDI ARAMCO) ऑयल और केमिकल कारोबार में निवेश करेगी.



जियो (JIO) सबसे आगे
जियो (JIO) देश की नंबर वन टेलीकॉम कंपनी बन गई है. JIO दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी टेलिकॉम कंपनी है. जियो पर बात करते हुए रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा कि अब तक जियो के कुल 34 करोड़ ग्राहक हो चुके हैं. उन्होंने जियो पर भरोसा जताने के लिए देश के लोगों का आभार जताया. उन्होंने कहा कि दुनिया में जियो दूसरी सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनी बन चुकी है.

ये भी पढ़ें: Reliance Jio GigaFiber: सिर्फ 700 रुपए में खरीद सकेंगे ये प्लान, मिलेंगी ये 6 बहेतरीन सर्विसेज

डिस्क्लेमर: हिंदी न्यूज़ 18 डॉट कॉम रिलायंस इंडस्ट्रीज की कंपनी नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का हिस्सा है. नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का स्वामित्व रिलायंस इंडस्ट्रीज के पास ही है.
First published: August 12, 2019, 1:09 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...