रिलायंस ने अमेरिकी टेक कंपनी Skytran में खरीदी 54 फीसदी से ज्‍यादा हिस्‍सेदारी, स्मार्ट मोबिलिटी सॉल्यूशन पर करती है काम

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की सहयोगी कंपनी RSBVL ने अमेरिकी टेक कंपनी स्‍काईट्रैन में मैजोरिटी स्‍टेक का अधिग्रहण कर लिया है.

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड की सहयोगी कंपनी RSBVL ने अमेरिकी टेक कंपनी स्‍काईट्रैन में मैजोरिटी स्‍टेक का अधिग्रहण कर लिया है.

अमेरिकी टेक कंपनी स्‍काईट्रैन (Skytran) में मैजोरिटी स्‍टेक का अधिग्रहण करने पर रिलायंस इंडस्‍ट्रीज (RIL) के चेयरमैन व मैनेजिंग डायरेक्‍टर मुकेश अंबानी (Chairman & MD Mukesh Ambani) ने कहा कि हम बड़े बदलाव लाने वाली तकनीक में निवेश को लेकर प्रतिबद्ध हैं. अमेरिकी टेक कंपनी ने रैपिड ट्रांजिट सिस्‍टम पर काम किया है. साथ ही भारत समेत दुनियाभर में स्‍मार्ट मोबिलिटी सॉल्‍यूशन पर काम कर रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 28, 2021, 9:02 PM IST
  • Share this:
मुंबई. रिलायंस इंडस्‍ट्रीज लिमिटेड (RIL) की सहयोगी कंपनी रिलायंस स्‍ट्रैटजिक बिजनेस वेंचर्स लिमिटेड (RSBVL) ने अमेरिकी टेक्‍नोलॉजी कंपनी स्‍काईट्रैन इंक (Skytran Inc) में अपनी हिस्‍सेदारी बढ़ा दी है. आरएसबीवीएल ने बताया कि 2.67 करोड़ डॉलर के नए निवेश के साथ स्‍काईट्रैन में रिलायंस (Reliance) की हिस्‍सेदारी बढ़कर 54.46 फीसदी हो गई है. आसान शब्‍दों में समझें तो आरएसबीवीएल की स्‍काईट्रैन में बहुलांश हिस्‍सेदारी (Majority Stake) हो गई है. इससे पहले रिलायंस ने अक्‍टूबर 2019 में स्‍काईट्रैन की 12.7 फीसदी हिस्‍सेदारी का अधिग्रहण किया था जो अब बढ़कर 54.46 फीसदी हो गई है.

स्‍काईट्रैन एक टेक्नोलॉजी कंपनी है, जिसे 2011 में अमेरिका में डेलवेयर के कानूनों के तहत शुरू किया गया था. कंपनी ने दुनियाभर में ट्रैफिक जाम की मुसीबत से निजात दिलाने के लिए पर्सनल ट्रांसपोर्टेशन सिस्‍टम (PTS) लागू करने को पैसिव मैग्‍नेटिक लेविटेयान एंड प्रपल्‍सन टेक्‍नोलॉजी तैयार की है. स्‍काईट्रैन ने स्‍मार्ट मोबिलिटी सॉल्‍यूशंस (SMS) तैयार करने के लिए इस तकनीक का विकास किया था. कंपनी की ओर से प्रस्‍तावित यातायात प्रणाली में कंप्‍यूटर से नियंत्रित पैसेंजर पॉड्स होंगे. इसमें अत्‍याधुनिक सूचना तकनीक, टेलिकॉम और दूसरी आधुनिक टेक्‍नोलॉजी का समावेश होगा. इससे यात्री एक जगह से दूसरी जगह पर सुरक्षित और ज्‍यादा तेजी से पहुंचेंगे. साथ ही पर्यावरण को भी फायदा होगा.

ये भी पढ़ें- SBI दे रहा 31 मार्च 2021 तक सस्‍ते में घर खरीदने का मौका! होम लोन पर कम ब्‍याज दर के साथ नहीं ले रहा प्रॉसेसिंग फीस



'बड़े बदलाव लाने वाली तकनीक में निवेश को हैं प्रतिबद्ध'
स्‍काईट्रैन में मैजोरिटी स्‍टेक का अधिग्रहण करने पर रिलायंस इंडस्‍ट्रीज (RIL) के चेयरमैन व मैनेजिंग डायरेक्‍टर मुकेश अंबानी (Chairman & MD Mukesh Ambani) ने कहा कि ये निवेश दुनिया में बड़े बदलाव लाने वाली भविष्‍य की तकनीक में निवेश करने की हमारी प्रतिबद्ध को दिखाता है. उन्‍होंने कहा कि हम हाईस्पीड इंट्रा व इंटरसिटी कनेक्टिविटी के साथ भारत और शेष दुनिया को हाईस्‍पीड, अत्यधिक कुशल और किफायती ट्रांसपोर्ट सर्विस प्लेटफॉर्म प्रदान करने की स्‍काईट्रैन की क्षमता से काफी उत्साहित हैं. अमेरिकी टेक कंपनी ने रैपिड ट्रांजिट सिस्‍टम पर काम किया है. साथ ही भारत समेत दुनियाभर में स्‍मार्ट मोबिलिटी सॉल्‍यूशन (SMS) पर काम कर रही है.

ये भी पढ़ें -  Gold के दाम 11,000 रुपये तो चांदी 10,000 रुपये से ज्‍यादा लुढ़की, जानें क्‍या मौजूदा भाव पर निवेश से मिलेगा तगड़ा मुनाफा

'प्रदूषण में कमी से पर्यावरण को भी होगा सीधा फायदा'
रिलायंस के चेयरमैन व एमडी मुकेश अंबानी ने भरोसा जताया कि प्रदूषणमुक्‍त हईस्‍पीड पर्सनल रैपिड ट्रांसपोर्टेशन सिस्‍टम की मदद से वायु और ध्‍वनि प्रदूषण में असरदार कमी होगी. इसमें वैकल्पिक ईंधन का इस्‍तेमाल होने से भी पर्यावरण को फायदा मिलेगा. रिलायंस इडस्‍ट्रीज के लिए लॉ फर्म कॉविंगटन एंड बर्लिंग (Covington & Burling LLP) ने कानूनी सलाहकार और फ्रेशफील्‍ड्स ब्रकहॉज डेरिंगर (Freshfields Bruckhaus Deringer) ने इंटेलेक्‍चुअल प्रॉपर्टी सलाहकार की भूमिका निभाई. बता दें कि रिलायंस इंडस्‍ट्रीज भारत की सबसे बड़ी प्राइवेट सेक्‍टर की कंपनी है. 31 मार्च 2020 को खत्‍म हुए वित्‍त वर्ष में कंपनी का कंसॉलिडेटेड टर्नओवर 6,59,205 करोड़ रुपये और कैश प्रॉफिट 71,446 करोड़ रुपये रहा है. वहीं, इस दौरान कंपनी का शुद्ध लाभ 39,880 करोड़ रुपये रहा है.

(डिस्केलमर- न्यूज18 हिंदी, रिलायंस इंडस्ट्रीज की कंपनी नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का हिस्सा है. नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का स्वामित्व रिलायंस इंडस्ट्रीज के पास ही है.)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज