कोरोना संकट के बीच भारत में Remittance पर नहीं पड़ा खास असर! साल 2020 में महज 0.2 फीसदी आई कमी

भारत के लिए साल 2020 में संयुक्‍त अरब अमीरात से रेमिटेंस में 17 फीसदी की कमी आई.

भारत के लिए साल 2020 में संयुक्‍त अरब अमीरात से रेमिटेंस में 17 फीसदी की कमी आई.

वर्ल्‍ड बैंक की एक रिपोर्ट (World Bank Report) में कहा गया कि भारत के लिए रेमिटेंस (Remittance) में साल 2020 के दौरान बहुत ही मामूली कमी हुई. ये भी संयुक्त अरब अमीरात (UAE) से होने वाले रेमिटेंस में 17 फीसदी की कमी के कारण हुआ. हालांकि, इस दौरान अमेरिका (US) से भारत को ठीकठाक रकम भेजी गई.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. कोरोना वायरस महामारी के बीच साल 2020 के दौरान ग्‍लोबल इकोनॉमी (Global Economy) को हुए तगड़े नुकसान के बाद भी भारत को विदेश से रेमिटेंस (Remittance to India) के तौर पर 83 अरब डॉलर मिल हैं. वर्ल्‍ड बैंक (World Bank) की रिपोर्ट के मुताबिक, 2020 में भारत को मिली रकम वर्ष 2019 के मुकाबले महज 0.2 फीसदी कम है. वर्ल्‍ड बैंक की ओर से जारी आंकड़ों के मुताबिक, 2020 के दौरान चीन (China) को 59.5 अरब डॉलर का रेमिटेंस हासिल हुआ, जबकि 2019 में यह आंकड़ा 68.3 अरब डॉलर था.

संयुक्‍त अमीरात से होने वाले रेमिटेंस में कमी के कारण आई गिरावट

वर्ल्‍ड बैंक की रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत के लिए रेमिटेंस में हुई कमी संयुक्त अरब अमीरात (UAE) से होने वाले रेमिटेंस में 17 फीसदी की कमी के चलते हुआ. हालांकि, इस दौरान अमेरिका (US) से भारत को पर्याप्त राशि भेजी गई. रेमिटेंस के लिहाज से भारत और चीन के बाद मेक्सिको (Mexico) 42.8 अरब डॉलर, फिलीपींस (Philippines) 34.9 अरब डॉलर, मिस्र (Egypt) 29.6 अरब डॉलर, पाकिस्तान 26 अरब डॉलर, फ्रांस 24.4 अरब डॉलर और बांग्लादेश 21 अरब डॉलर का स्थान है.

ये भी पढ़ें- PM KISAN: कल खाते में आएगी ₹2000 की 8वीं किस्‍त, 9.5 करोड़ किसानों को मिलेगा फायदा, जानें कैसे देखें लिस्ट में अपना नाम
पाकिस्‍तान-बांग्‍लादेश-श्रीलंका के रेमिटेंस में बढ़त, नेपाल का घटा

विश्‍व बैंक के मुताबिक, कोरोना संकट के बीच पड़ोसी पाकिस्तान (Pakistan) में 2020 के दौरान रेमिटेंस में उछाल आया है. इस दौरान पाकिस्‍तान के लिए रेमिटेंस 17 फीसदी बढ़ा, जिसमें सबसे ज्‍यादा योगदान सऊदी अरब (Saudi Arabia) का था, इसके अलावा संयुक्त अरब अमीरात और यूरोपीय संघ (European Union) के देशों से भी रेमिटेंस में बढ़ोतरी हुई. इसी तरह 2020 में बांग्लादेश (Bangladesh) के लिए रेमिटेंस 18.4 फीसदी और श्रीलंका (Sri Lanka) के लिए रेमिटेंस 5.8 फीसदी बढ़ा. इसके उलट नेपाल (Nepal) को रेमिटेंस में लगभग दो फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज