Coronavirus- क्रेडिट कार्ड बिल चुकाने के लिए भी मिलेगी 3 महीने की छूट! जानिए RBI ने क्या कहा

 RBI ने बैंकों से 3 महीने तक लोन की EMI नहीं लेने की छूट देने को कहा है
RBI ने बैंकों से 3 महीने तक लोन की EMI नहीं लेने की छूट देने को कहा है

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI-Reserve Bank of India) की ओर से जारी स्पष्टीकरण में कहा गया है कि वित्तीय संस्थान क्रेडिट कार्ड बिल री-पेमेंट पर भी 3 महीने की छूट दे सकते है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 27, 2020, 7:26 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Corona Virus) की वजह से पूरे देश में हुए लॉकडाउन (Lock Down in India) में आम आदमी को राहत देने के लिए सरकार के बाद अब RBI ने बड़े कदम उठाए हैं. RBI ने बैंकों से 3 महीने तक लोन की EMI नहीं लेने की छूट देने को कहा है. साथ ही, अब रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI-Reserve Bank of India) की ओर से जारी स्पष्टीकरण में कहा गया है कि वित्तीय संस्थान क्रेडिट कार्ड बिल री-पेमेंट पर भी 3 महीने की छूट दे सकते है.

क्या है RBI का फैसला- भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने तीन महीने के लिए टर्म लोन के भुगतान पर पहली ही छूट देने का ऐलान किया है. इसका मतलब है कि तीन महीने तक आपके लिए अपनी ईएमआई चुकाना जरूरी नहीं है.

भारतीय रिजर्व बैंक की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि सभी कॉमर्शियल बैंक (क्षेत्रीय ग्रामीण बैंक, छोटे फाइनेंशियल बैंक और स्थानीय क्षेत्र के बैंक सहित), सहकारी बैंक, वित्‍तीय संस्‍थान और एनबीएफसी (हाउसिंग फाइनेंस कंपनी और माइक्रो-फाइनेंस संस्थान सहित) को 1 मार्च, 2020 तक बकाया सभी कर्जों के संबंध में किस्‍तों के भुगतान पर तीन महीने की मोहलत देने की अनुमति दी जा रही है.



ये भी पढ़ें-जानिए सरकार के बाद RBI ने कौन से बड़े ऐलान किए? क्या होगा इनका असर
RBI ने कहा हैै कि ग्राहकों को कोविड-19 से बिगड़ी स्थितियों का सामना करने में समर्थ बनाने के लिए राहत दी जा रही है. इसलिए लोन एग्रीमेंट के नियमों और शर्तों में बदलाव नहीं होगा. इससे उधार देने वालों के एसेट में गिरावट नहीं आएगी. कर्ज देने वाले संस्थान इस संबंध में बोर्ड की अनुमोदित नीति के अनुसार काम कर सकते हैं.

मोराटोरियम का मतलब क्या होता है- मोराटोरियम उस अवधि को कहते हैं जिस दौरान आपको लिए गए कर्ज पर ईएमआई का भुगतान नहीं करना पड़ता है. इस अवधि को ईएमआई हॉलीडे के रूप में भी जाना जाता है. आमतौर पर ऐसे ब्रेक की पेशकश इसलिए की जाती है ताकि अस्थायी वित्तीय कठिनाइयों का सामना करने वाले व्यक्तियों को इससे उबरने में मदद मिले.

ये भी पढ़ें-लॉकडाउन: 1 अप्रैल से बदलेगा इन बैंकों का नाम, जानें आपके पैसे का क्या होगा?

टर्म लोन का क्या मतलब होता है-छोटी कंपनियों को अपना कारोबार बढ़ाने के लिए अक्‍सर कर्ज की जरूरत पड़ती है. टर्म लोन ऐसी ही जरूरतों को पूरा करता है. अपनी जरूरत के हिसाब से इसे छोटी या लंबी अवधि के लिए कोई ले सकता है. लेकिन, इसमें कई तरह की शर्तें भी होती हैं. लोन की ब्‍याज दरें भी कई बातों पर निर्भर करती हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज