लाइव टीवी

RBI अगले महीने दे सकता है सस्ती ब्याज दरों का ​तोहफा, हो सकती है इतनी कटौती

News18Hindi
Updated: November 14, 2019, 6:08 PM IST
RBI अगले महीने दे सकता है सस्ती ब्याज दरों का ​तोहफा, हो सकती है इतनी कटौती
भारतीय रिजर्व बैंक

बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा है कि आरबीआई लगातार दो बार नीतिगत ब्याज दरों में कुल 0.40 फीसदी की कटौती कर सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 14, 2019, 6:08 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नवंबर में महंगाई दर बढ़कर 5 फीसदी पर रहने के आसार के बावजूद आर्थिक वृद्धि की चिंताओं को देखते हुए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) लगातार दो बार नीतिगत दरों में कटौती कर सकता है. बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच ने अपनी रिपोर्ट में यह बात कही. खुदरा मुद्रास्फीति अक्टूबर महीने में बढ़कर 4.62 प्रतिशत पर पहुंच गई है. बुधवार को जारी सरकारी आंकड़ों में यह बात कही गई है. आरबीआई मुद्रास्फीति को चार प्रतिशत पर रखने का लक्ष्य लेकर चल रहा है.

चालू वित्त वर्ष की जून तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की वृद्धि दर गिरकर छह साल के निचले स्तर 5 फीसदी पर आ गई है. कुछ विश्लेषकों का मानना है कि वित्त वर्ष 2019-20 के लिए आर्थिक वृद्धि दर पांच प्रतिशत से नीचे जा सकती है.

ये भी पढ़ें: चालू वित्त वर्ष में खुदरा महंगाई औसतन 4% रहने की संभावना: SBI रिपोर्ट


दिसंबर में हो सकती है 25 आधार अंक की कटौती
विदेशी ब्रोकरेज फर्म बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच के विश्लेषकों ने कहा कि आरबीआई दिसंबर में होनी वाली मौद्रिक नीति समिति की बैठक में नीतिगत दर में 0.25 प्रतिशत की कटौती करेगा और इसके बाद फरवरी बैठक में 0.15 प्रतिशत की और कटौती कर सकता है.

एसबीआई ने ​अपनी रिपोर्ट में आगे कटौती को लेकर किया था सचेत
Loading...

रिपोर्ट में उल्लेख किया गया है एसबीआई के अर्थशास्त्रियों ने चेतावनी दी है कि आर्थिक वृद्धि को रफ्तार देने के लिए दरों में कटौती करने से "वित्तीय अस्थिरता" का खतरा बढ़ सकता है. इसमें कहा गया है कि "मुद्रास्फीति के बुनियादी कारक कमजोर बने हुए हैं", इसके चलते गैर - खाद्य और गैर - ईंधन मुख्य मुद्रास्फीति अक्टूबर में 3.3 प्रतिशत पर सीमित रह. सितंबर में यह 3.7 प्रतिशत थी.

ये भी पढ़ें: बड़ी खबर! Aadhaar में एड्रेस बदलने और बैंक खाता खोलने की प्रक्रिया में सरकार ने किया बदलाव

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 14, 2019, 6:07 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...