इस वजह से सरकार को 1.76 लाख करोड़ रुपये की मदद दे पाया RBI

भाषा
Updated: August 29, 2019, 3:00 PM IST
इस वजह से सरकार को 1.76 लाख करोड़ रुपये की मदद दे पाया RBI
इस वजह से सरकार को 1.76 लाख करोड़ रुपये दे पाया RBI

भारतीय रिजर्व बैंक बांड खरीद और विदेशी विनिमय परिचालन (Foreign Exchange Operations) के लेखा नियमों में बदलाव से हुए लाभ की वजह से सरकार को 1.23 लाख करोड़ रुपये का अधिशेष स्थानांतरित कर पाया है.

  • Share this:
भारतीय रिजर्व बैंक बांड खरीद और विदेशी विनिमय परिचालन (Foreign Exchange Operations) के लेखा नियमों में बदलाव से हुए लाभ की वजह से सरकार को 1.23 लाख करोड़ रुपये का अधिशेष स्थानांतरित कर पाया है. सूत्रों ने यह जानकारी दी पीटीआई भाषा को दी है. मामले की जानकारी रखने वाले लोगों ने कहा कि सिर्फ इन दो मद में केंद्रीय बैंक की आमदनी 57,000 करोड़ रुपये रही है.

विमल जालान समिति की सिफारिशों को स्वीकार करते हुए रिजर्व बैंक के केंद्रीय बोर्ड ने 1.76 लाख करोड़ रुपये की अधिशेष राशि सरकार को हस्तांतरित करने की अनुमति दी है. रिजर्व बैंक बोर्ड के इस फैसले की व्यापक आलोचना हो रही है.

ये भी पढ़ें: 10 लाख कमाने वालों के बचेंगे हर साल 50 हजार रुपए!

इस 1.76 लाख करोड़ रुपये की राशि में 1.23 लाख करोड़ रुपये अधिशेष और 52,000 करोड़ रुपये नए नियमों के तहत जोखिम प्रावधान के मद में बचत से निकले है जो एकबार के लिए हैं.

सूत्र ने कहा कि बांड की खरीद फरोख्त में केंद्रीय बैंक 36,000 करोड़ रुपये की अतिरिक्त आय हुई. इसी तरह परिसम्पत्तियों के लेखाजोखा के तरीके में बदलाव से केंद्रीय बैंक को 21,000 करोड़ रुपये का लाभ हुआ है. सूत्र ने हालांकि लाभ की मात्रा के बारे नहीं बताया. उसने कहा कि संभावित जोखिमों को लेकर भी धन उपलब्ध कराने की जरूरत नहीं है क्योंकि जितनी पूंजी की जरूरत है वह जालान समिति द्वारा तय सीमा के अंदर है.

ये भी पढ़ें: जल्द आपके हाथ में आएगी ज्यादा सैलरी! PF में बदलाव की तैयारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 29, 2019, 3:00 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...