चीन पर सख्‍ती जारी, रेसिन बॉन्‍डेड थिन व्‍हील्‍स समेत कई प्रोडक्‍ट्स पर लगती रहेगी एंटी डंपिंग ड्यूटी!

चीन से आने वाले कुछ उत्‍पादों पर एंटी-डंपिंग ड्यूटी जारी रह सकती है.

चीन से आने वाले कुछ उत्‍पादों पर एंटी-डंपिंग ड्यूटी जारी रह सकती है.

डायरेक्‍टर जनरल ऑफ ट्रेड रेमेडीज (DGTR) ने चीन से आने वाले ग्लास पर भी एंटी-डंपिंग ड्यूटी (Anti-Dumping Duty) जारी रखने की जांच के लिए नोटिफिकेशन जारी कर दिया है. दरअसल, चीन से आने वाली कई चीजों पर एंटी डंपिंग ड्यूटी जारी रखने की अलग-अलग कंपनियों ने मांग की है.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. चीन से आयात होने वाले रेसिन बॉन्‍डेड थिन व्‍हील्‍स (Resin Bonded Thin Wheels) पर एंटी-डंपिंग ड्यूटी (Anti-Dumping Duty) जारी रह सकती है. रेसिन बॉन्‍डेड थिन व्‍हील्‍स पर एंटी-डंपिंग की जांच शुरू हो गई है. चीन से आयात किए जाने वाले वाले इन व्‍हील्‍स की जांच करने के लिए डायरेक्‍टर जनरल ऑफ ट्रेड रेमेडीज (DGTR) ने नोटिफिकेशन जारी कर दिया है. दरअसल, ग्राइंडवेल नॉर्टन (Grindwell Norton) और कारबोरंडम यूनिवर्सल (Carborundum Universal) ने इसकी मांग की थी.

डीजीटीआर ने शुरू कर दी है एंटी-डंपिंग ड्यूटी के लिए जांच

बताया जा रहा है कि इसके अलावा चीन से मंगाए जाने वाले टेक्‍सचर्ड टेपर्ड कोटेड ग्‍लास (Textured Tempered Coated Glass) पर भी एंटी-डंपिंग ड्यूटी जारी रखी जा सकती है. सूत्रों के मुताबिक, टेक्‍सचर्ड टेपर्ड कोटेड और अन-कोटेड ग्लास पर ड्यूटी की मियाद बढ़ाई जा सकती है. चीन से इंपोर्ट होने वाले ग्लास पर एंटी डंपिंग ड्यूटी जारी रह सकती क्योंकि इसके लिए डीजीटीआर ने जांच शुरू कर दी है. इसके लिए बोरोसिल रिन्‍यूवल्‍स (Borosil Renewables) ने मांग की थी. बता दें कि 17 अगस्त 2022 को एंटी डंपिंग ड्यूटी की मियाद खत्म हो रही है.

ये भी पढ़ें - अगर आपके पास है ये वाला 10 रुपये का नोट तो घर बैठे होगी 25,000 रुपये तक की कमाई, जानें कैसे
प्‍लेन मीडियम डेनसिटी फाइबरबोर्ड पर भी जारी रहेगी ड्यूटी

चीन से आने वाले प्‍लेन मीडियम डेनसिटी फाइबरबोर्ड (Plain Medium Density Fibreboard) पर भी एंटी-डंपिंग ड्यूटी जारी रह सकती है. सरकारी सूत्रों के मुताबिक, इसके लिए भी डीजीटीआर ने जांच शुरू कर दी है और नोटिफिकेशन जारी किया है. इसके लिए ग्रीनप्‍लाई (Greenply Ind), ग्रीनपैनल (GreenPanel Ind) और रशिल डेकोर (Rushil Decor) ने जांच की मांग की थी. बता दें कि काफी समय से भारत और चीन के बीच हालात सामान्‍य नहीं हैं. पिछले साल से लेकर अब तक भारत चीन पर कई तरह के सख्‍त प्रतिबंध लगा चुका है. वहीं, दोनों देशों के बीच कई समझौते भी रद्द किए जा चुके हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज