रेवेन्यू सेक्रेटरी अजय भूषण पांडे ने कहा-आर्थिक सुस्ती के लिए नहीं है GST जिम्मेदार, नई व्यवस्था से आई ग्रोथ में तेजी

रेवेन्यू सेक्रेटरी अजय भूषण पांडे ने कहा-आर्थिक सुस्ती के लिए नहीं है GST जिम्मेदार, नई व्यवस्था से आई ग्रोथ में तेजी
रेवेन्यू सेक्रेटरी अजय भूषण पांडे ने CNBC TV18 को एक्सक्लूसिव इंटरव्यू दिया है.

CNBC TV18 के साथ हुई खास बातचीत में रेवेन्यू सेक्रेटरी अजय भूषण पांडे (Revenue Secretary Ajay Bhushan Pandey) का कहना है कि नई टैक्स व्यवस्था यानी GST से देश को फायदा हुआ है. आर्थिक सुस्ती के लिए GST को दोष देना गलत है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 17, 2019, 12:40 PM IST
  • Share this:
मुंबई. रेवेन्यू सेक्रेटरी अजय भूषण पांडे (Revenue Secretary Ajay Bhushan Pandey) का कहना है कि देश में आई आर्थिक सुस्ती के लिए GST (Goods and Service Tax) जिम्मेदार नहीं है. CNBC TV18 के साथ हुई खास बातचीत में उन्होंने कहा है कि नई टैक्स व्यवस्था यानी GST से देश को फायदा हुआ है. आर्थिक सुस्ती के लिए GST को दोष देना गलत है. उन्होंने ये भी कहा कि नई टैक्स व्यवस्था से पिछले 2 महीने में ग्रोथ दिखी है लेकिन उसकी रफ्तार अभी धीमी है. अजय भूषण पांडे ने अगले कुछ महीनों में GST कलेक्शन में तेजी आने की उम्मीद है.आपको बता दें कि  प्रधानमंत्री के आर्थिक सलाहकार परिषद के अध्यक्ष बिबेक देबरॉय ने हाल ही में कहा था कि मौजूदा इकनॉमिक स्लोडाउन की एक बड़ी वजह GST रही है.

ये भी पढ़ें-बिना पैसे दिए ऐसे बुक करें दिवाली और छठ पर घर जाने के लिए ट्रेन का टिकट, जानें IRCTC का खास ऑफर 

टैक्स रेट्स घटाने के बावजूद जीएसटी में आई ग्रोथ- अजय भूषण पांडे कहते हैं कि अगर जीएसटी के अंदर कोई परेशानी होती तो इसे लागू किए जाने के बाद शुरुआती दो साल में अच्छी-खासी ग्रोथ कैसे होती.



>> जीएसटी के शुरुआती दो साल में टैक्स के रेट भी घटाए गए थे. टैक्स रेट में कटौती एक लाख करोड़ रुपये सालाना के बराबर थी. इसलिए अगर कोई कहता है कि मौजूदा स्लोडाउन की वजह GST रही है तो यह सही नहीं होगा.


>> हां, अगर कोई रिसर्च कर इसके बारे में ठोस जानकारी देता तो उस मामले पर विचार किया जा सकता है. लेकिन अभी तक सिर्फ बयान जारी हुए है.

>> पिछले दो साल के ब्योरे और प्रदर्शन के हिसाब से यह कहना सही नहीं होगा कि GST स्लोडाउन का कारण बना है या इसके चलते रेवेन्यू कलेक्शन में कमी आई है.

ये भी पढ़ें-टॉप ब्रांड्स मुल्कों में भारत की जबरदस्त छलांग, कनाडा और इटली को पीछे छोड़ा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज