...तो क्या फिर शुरू होंगी जेट एयरवेज की उड़ानें, 12 फर्मों कंपनियों ने दिखाई खरीदने में दिलचस्पी

...तो क्या फिर शुरू होंगी जेट एयरवेज की उड़ानें, 12 फर्मों कंपनियों ने दिखाई खरीदने में दिलचस्पी
एनसीएलटी ने जेट एयरवेज को अपने कुछ कर्ज निपटाने के लिए मुंबई के बांद्रा में कुछ संपत्तियां बेचने की अनुमति दे दी है.

पिछले साल अप्रैल में जेट एयरवेज (Jet Airways) का कामकाज बंद हुआ था उसके बाद से ही इसके रिवाइवल की कोशिशें चल रही हैं. CNBC-TV 18 की रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी के रिवाइवल के चांस बढ़ गए हैं.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
नई दिल्ली. पिछले साल अप्रैल में जेट एयरवेज (Jet Airways) का कामकाज बंद हुआ था उसके बाद से ही इसके रिवाइवल की कोशिशें चल रही हैं. CNBC-TV 18 की रिपोर्ट के मुताबिक, कंपनी के रिवाइवल के चांस बढ़ गए हैं. जेट एयरवेज को करीब 12 एक्सप्रेशन ऑफ इंटरेस्ट (EOIs) मिले हैं. ठप पड़े एयरलाइन के लिए यह चौथे राउंड की बीडिंग है. पिछले साल दिवालिया होने के बाद जून 2019 में इसे नेशनल कंपनी लॉ ट्राइब्यूनल में भेज दिया गया था. इस मामले की जानकारी रखने वाले एक शख्स ने बताया कि हमें 11-12 Eois हासिल हुए हैं. हम यह देख रहे हैं कि वे सभी शर्तों को पूरा कर पाते हैं या नहीं.

जेट एयरवेज में जिन कंपनियों ने दिलचस्पी दिखाई है उनमें यूके के कार्लरॉक कैपिटल, हैदराबाद की टर्बो एविएशन, अल्फा एयरवेज, शिव रशिया नाम का कनाडा का एक नागरिक, इंपीरियल कैपिटल, भारतीय आंत्रप्रेन्यरो संजय मांडाविया, यूके की एडि ग्रुप, सिनर्जी ग्रुप और जेट एयरवेज के कर्मचारियों का एक कंसोर्शियम शामिल है. EOIs जमा करने की आखिरी तारीख 28 मई आधी रात तक थी.

ये भी पढ़ें:- 1 जून से चल रही 200 ट्रेनें, यहां चेक करें कितने बजे चलेंगी और कहां रुकेंगी



इस मामले की जानकारी रखने वाले एक अन्य शख्स ने बताया कि इनमें से 3-4 शॉर्टलिस्ट हो सकते हैं. इनमें से कुछ नाम दिलचस्प हैं तो देखना है कि आगे क्या होता है. शॉर्टलिस्ट हुए लोगों के नाम का पता 11 जुलाई को चलेगा. सिनर्जी ग्रुप और एडि ग्रुप ने पहले भी दिलचस्पी दिखाई थी लेकिन कोई बाइंडिंग बिड जमा नहीं की थी.



जेट एयरवेज के रेज्योलूशन प्रोशनल्स आशिषल छावछरिया ने इस महीने की शुरुआत में एक्सचेंज को बताया था कि CIRP पूरा करने के लिए रिवाइज टाइम लाइन 21 अगस्त 2020 है. हालांकि केंद्र सरकार या महाराष्ट्र में लॉकडाउन बढ़ता है तो बात अलग होगी.

ये भी पढ़ें:- 1 जून से बदल रहे हैं रेलवे-राशन कार्ड के कई नियम, जानिए आप पर क्या होगा असर

जेट एयरवेज पर कुल 37,300 करोड़ का कर्ज है. इनमें से 15900 करोड़ को रेज्योलूशन प्रोफेशनल्स ने पास कर दिया है. इस 15,900 करोड़ रुपए में SBI की अगुवाई वाले बैंकों का भी पैसा शामिल हैं. इनमें SBI, यस बैंक, पंजाब नेशनल बैंक सहित कुछ दूसरे बैंक हैं.
First published: May 29, 2020, 2:16 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading