रायबरेली यूनिट में रेल पहियों का कमर्शियल प्रोडक्शन अगले महीने शुरू करेगी RINL

प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर

सार्वजनिक क्षेत्र की स्टील कंपनी राष्ट्रीय इस्पात निगम लि. (RINL) दिसंबर के अंत तक उत्तर प्रदेश की रायबरेली यूनिट में फोर्जिंग किए रेल पहियों (Forged Wheels) का कमर्शियल प्रोडक्शन शुरू करेगी.

  • Share this:
नई दिल्ली. सार्वजनिक क्षेत्र की स्टील कंपनी राष्ट्रीय इस्पात निगम लि. (Rashtriya Ispat Nigam Ltd) दिसंबर के अंत तक उत्तर प्रदेश की रायबरेली (Rae Bareli) यूनिट में फोर्जिंग किए रेल पहियों (Forged Wheels) का कमर्शियल प्रोडक्शन शुरू करेगी. कंपनी के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक पी के रथ ने यह जानकारी दी.

जरूरी परीक्षण के लिए विदेशी विशेषज्ञों का इंतजार
विशाखापत्तनम की कंपनी ने रायबरेली में 1,680 करोड़ रुपये की लागत से संयंत्र लगाया है जिसकी उत्पादन क्षमता एक लाख फोर्ज किए चक्के सालाना की है. रथ ने कहा, ''हम अगले माह के अंत तक कमर्शियल प्रोडक्शन शुरू करने की तैयारी कर रहे हैं. यह और जल्दी शुरू हो सकता है. हम विदेशी विशेषज्ञों का इंतजार कर रह हैं, जो इस महीने आएंगे और संयंत्र को शुरू करने से पहले जरूरी परीक्षण करेंगे.''

ये भी पढ़ें- LTC Cash Voucher Scheme: क्या परिवार के सदस्यों को भी मिलेगा इस योजना का लाभ? जानिए क्या है सरकार का कहना
लॉकडाउन के चलते हुई देरी


रथ ने बताया कि फोर्ज किए हुए पहियों के परीक्षण के बाद पहले उत्पादन मार्च-अप्रैल, 2020 में शुरू होना था, लेकिन कोविड-19 की वजह से लागू लॉकडाउन के चलते इसे टाल दिया गया. रथ ने कहा कि इस संयंत्र में उत्पादित पहियों की आपूर्ति भारतीय रेल को की जाएगी. अभी पहियों की 100 प्रतिशत मांग स्थानीय स्तर पर मैन्युफैक्चरिंग से पूरी नहीं हो पा रही है. उन्होंने भरोसा जताया कि इस इकाई के चालू होने के बाद रेलवे की पहियों की पूरी मांग घरेलू स्तर पर पूरी हो सकेगी.

ये भी पढ़ें- कोरोना संकट के बीच जुलाई से अब तक 1 करोड़ लोगों को मिला रोजगार, 4 महीने में 11 लाख MSMEs का हुआ रजिस्‍ट्रेशन
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज