• Home
  • »
  • News
  • »
  • business
  • »
  • विवादों से घिरे होने के बावजूद Robinhood ने शुरू की IPO लाने की तैयारी, जानें डिटेल

विवादों से घिरे होने के बावजूद Robinhood ने शुरू की IPO लाने की तैयारी, जानें डिटेल

upcoming IPO

upcoming IPO

अमेरिका में रिटेल इनवेस्टर्स के लिए ट्रेडिंग का बड़ा जरिया बनी ऑनलाइन ब्रोकरेज फर्म Robinhood ने Nasdaq पर लिस्टिंग के लिए डॉक्यूमेंट फाइल कर दिए हैं.

  • Share this:
    नई दिल्ली. अमेरिका में रिटेल इनवेस्टर्स के लिए ट्रेडिंग का बड़ा जरिया बनी ऑनलाइन ब्रोकरेज फर्म Robinhood ने Nasdaq पर लिस्टिंग के लिए डॉक्यूमेंट फाइल कर दिए हैं. कुछ महीने पहले युवा रिटेल इनवेस्टर्स और वॉल स्ट्रीट के हेज फंड्स के बीच टकराव का कारण यह कंपनी ही थी.

    पिछले वर्ष कोरोना के कारण लगे लॉकडाउन के बाद अमेरिका में रिटेल इनवेस्टर्स की ओर से स्टॉक मार्केट में ट्रेडिंग में काफी बढ़ोतरी हुई थी और इसमें इन इनवेस्टर्स के लिए Robinhood एक बड़ा जरिया बनी थी. IPO से जुड़े डॉक्यूमेंट से पता चलता है कि पिछले वर्ष कंपनी का रेवेन्यू 245 प्रतिशत बढ़कर 95.9 करोड़ डॉलर पर पहुंच गया और इसका प्रॉफिट 70 लाख डॉलर का रहा। इससे एक वर्ष पहले कंपनी ने 10.7 करोड़ डॉलर का लॉस दर्ज किया था.

    ये भी पढ़ें- 7th Pay Commission: डीए बढ़ने के बाद सितंबर में केन्द्रीय कर्मचारियों की कितनी सैलरी आएगी? फटाफट करें चेक

    Robinhood की शुरुआत आठ वर्ष पहले स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट रहे व्लाड टेनेव और बाइजू भट ने की थी। यह प्लटेफॉर्म यूजर्स को स्टॉक्स, ईटीएफ, ऑप्शंस और क्रिप्टोकरेंसी में बिना कमीशन के ट्रेडिंग करने की सुविधा देता है.

    ये भी पढ़ें- LIC ने लॉन्च किया नया प्लान! एक बार प्रीमियम देकर जिंदगी भर पाएं 12000 रुपए, साथ ही ले सकते हैं लोन

    इस स्टार्टअप पर गड़बड़ियों के कई आरोप लग चुके हैं और इसने रेगुलेटर्स के साथ मामलों का निपटारा करने के लिए 13.6 करोड़ डॉलर से अधिक का भुगतान किया है. इसमें हाल ही में फाइनेंशियल इंडस्ट्रियल रेगुलेटरी अथॉरिटी की ओर से लगाई गई 70 लाख डॉलर की पेनल्टी भी शामिल है.
    कानूनी मामलों पर Robinhood का खर्च भी तेजी से बढ़ा है। यह दो वर्ष पहले 10 लाख डॉलर से कुछ अधिक था और पिछले वर्ष बढ़कर 10.5 करोड़ डॉलर पर पहुंच गया।
    कंपनी को लेकर इस वर्ष की शुरुआत में रिटेल इनवेस्टर्स और वॉल स्ट्रीट के हेज फंड्स के बीच टकराव के बाद इस पर ट्रेडिंग को लेकर बंदिशें भी लगाई गई थी। कंपनी ने बताया था कि रेगुलेटर्स ने जांच के लिए उससे जानकारी मांगी है। अथॉरिटीज ने इसके CEO व्लादिमीर टेनेव का मोबाइल फोन भी जब्त कर लिया था।
    रेगुलेटर्स की ओर से Robinhood के बिजनेस मॉडल की भी जांच की जा रही है। इसमें पेमेंट-फॉर-ऑर्डर-फ्लो शामिल है जिसमें रिटेल ऑर्डर्स को ब्रोकर्स भुगतान के बदले होलसेल ब्रोकर्स के जरिए रूट करते हैं। यह कंपनी के रेवेन्यू में बड़ी हिस्सेदारी रखता है।

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज