कोरोना के इलाज के लिए 'एंटीबॉडी कॉकटेल',1 खुराक की कीमत करीब 60 हजार

ये एंटीबॉडी कॉकटेल कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

ये एंटीबॉडी कॉकटेल कोरोना के गंभीर मरीजों के लिए है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

सिप्ला (Cipla) देश भर में अपनी मजबूत वितरण क्षमता की मदद से इस दवा का वितरण करेगी. बयान के मुताबिक प्रत्येक रोगी के लिए खुराक की कीमत 59,750 रुपये होगी, जिसमें सभी कर शामिल हैं.

  • Share this:

नई दिल्ली. प्रमुख दवा कंपनी रोश इंडिया और सिप्ला (Roche India and Cipla) ने सोमवार को भारत में रोश के एंटीबॉडी कॉकटेल को पेश करने की घोषणा की. इसकी कीमत 59,750 रुपये प्रति खुराक है और जो कोविड-19 के अत्यधिक बीमार मरीजों के इलाज के लिए है. सिप्ला और रोश ने एक संयुक्त बयान में कहा, ‘एंटीबॉडी कॉकटेल (कैसिरिविमैब और इमदेविमाब) की पहली खेप भारत में उपलब्ध है, जबकि दूसरी खेप जून के मध्य तक उपलब्ध होगी. कुल मिलाकर इन खुराकों से दो लाख रोगियों का इलाज किया जा सकता है.'

सिप्ला देश भर में अपनी मजबूत वितरण क्षमता की मदद से इस दवा का वितरण करेगी. बयान के मुताबिक प्रत्येक रोगी के लिए खुराक की कीमत 59,750 रुपये होगी, जिसमें सभी कर शामिल हैं. बयान में आगे कहा गया कि दवा प्रमुख अस्पतालों और कोविड उपचार केंद्रों के माध्यम से उपलब्ध होगी.

कोरोना के इलाज के लिए जारी हैं प्रयास

बता दें कोरोना की दूसरी लहर से जूझ रहे देश में महामारी के लिए इलाज के कई तरह की दवाएं लाई जा रही हैं. इसी क्रम में कुछ दिन पहले DRDO की एक दवा का भी इमरजेंसी यूज मरीजों पर किया जा रहा है. कोरोना महामारी के इलाज में गेमचेंजर बनकर आई डीआरडीओ की देसी दवाई 2 DG का मरीजों पर अच्छा असर दिखाई दे रहा है. यही वजह है कि दवा की मांग भी बढ़ रही है.
बढ़ी मांग

10 हजार सैशे से इस दवाई की लॉन्चिंग हुई है, जिसके बाद मई के अंत तक इसका दूसरा भी बैच रिलीज होने की उम्मीद है. कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए अब सरकार 2 DG दवा के उत्पादन को बढ़ाने के लिए तीन से चार कंपनियों को प्रोडक्शन के लिए मंजूरी देने के बारे में विचार कर रही है. सरकारी सूत्रों की ओर से कहा गया है कि डीआरडीओ की दवा के लॉन्च होने के बाद से ही इसकी डिमांड काफी ज्यादा बढ़ी हुई है. मरीजों और उनके तीमारदारों की ओर से सकारात्मक अनुभव सामने आ रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज