Economic Package: क्या इसलिए एग्रीकल्चर सप्लाई चेन में रिफॉर्म करना चाहते हैं पीएम मोदी?

Economic Package: क्या इसलिए एग्रीकल्चर सप्लाई चेन में रिफॉर्म करना चाहते हैं  पीएम मोदी?
मोदी सरकार का बड़ा फैसला! अब प्रवासी मजदूरों का AB-PMJAY के तहत होगा फ्री इलाज

खेती से जुड़ी सप्लाई चेन ठीक न होने की वजह से किसान और उपभोक्ता दोनों उठाते हैं नुकसान, लाभ कमाता है बिचौलिया, हो सकते हैं बड़े सुधार

  • Share this:
नई दिल्ली. बीते अप्रैल महीने में कोरोना संकट के दौरान देश के किसानों (Farmers) को भारी नुकसान उठाना पड़ा है. क्योंकि सब्जियों और फलों का वाजिब दाम नहीं मिल पाया. दूसरी ओर शहरों में उपभोक्ताओं (Consumer) को यही चीजें बहुत अधिक दाम पर मिलीं. एग्रीकल्चर सप्लाई चेन (agriculture supply chain) टूटना इसकी बड़ी वजह थी. कोरोना वायरस के खौफ से मंडियां बंद थीं और पुलिस वाले सब्जियों और फलों की आवाजाही नहीं होने दे रहे थे. कृषि मंत्रालय ने जब तक हालात को समझकर कॉल सेंटर शुरू किया तब तक काफी देर हो चुकी थी.

कृषि विशेषज्ञों का कहना है कि अगर सप्लाई चेन ठीक न हो तो किसान और उपभोक्ता दोनों को नुकसान होगा और बिचौलिए मुनाफाखोरी पर उतर जाएंगे. इसलिए इसमें बड़े बदलाव की जरूरत है.

मंगलवार को राष्ट्र के नाम संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra modi) ने खेती से जुड़ी पूरी सप्लाई चेन में रिफॉर्म करने का एलान किया.  ताकि किसान भी सशक्त हो और भविष्य में कोरोना जैसे किसी दूसरे संकट में कृषि पर कम से कम असर हो.



 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, PM Narendra modi, rs 20 lakh crore Economic package, 20 लाख करोड़ रुपये का आर्थिक पैकेज, Covid-19, कोविड-19, Consumer, उपभोक्ता, agriculture supply chain, एग्रीकल्चर सप्लाई चेन, kisan news in hindi, farmers news, किसान समाचार
कृषि क्षेत्र में हो सकता है व्यापक सुधार

उनकी इस घोषणा के साथ ही कोरोना को लेकर घोषित होने वाले 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक पैकेज (Economic package) से किसान संगठनों में कुछ उम्मीद जगी है. उन्हें उम्मीद है कि देश में कृषि उत्पादों की मांग और आपूर्ति में बाधा दूर होगी. लेकिन क्या वाकई परिवहन, गोदाम और मंडियों की व्यवस्था ठीक होना इतना आसान है? इसे लेकर हमने कृषि मामलों के जानकार और राष्ट्रीय किसान महासंघ के संस्थापक सदस्य विनोद आनंद (vinod anand) से बातचीत की. उन्होंने किसानों को लेकर सरकार को कुछ सुझाव दिए.

एपीएमसी एक्ट खत्म हो

आनंद का कहना है कि सप्लाई चेन ठीक न होने की वजह से बिचौलिए किसानों को बर्बाद कर रहे हैं. सरकार की मंशा यदि वाकई किसानों को लाभ पहुंचाने की है तो उसे कृषि उपज विपणन समिति कानून (APMC Act) को खत्म करना होगा. ताकि जमाखोरों का नेटवर्क ध्वस्त हो. किसान खुले माहौल में अपना माल खुद कहीं भी बेच सके. एपीएमसी एक्ट के प्रावधानों की वजह से किसान नजदीकी मंडी में ही फसल बेच सकता है. इसे खत्म कर किसानों को अपनी उपज कहीं भी बेचने की आजादी दी जाए.

वेयर हाउस, मंडियों का विस्तार

आनंद का कहना है कि अगर सरकार किसान और गांवों को मजबूत करना चाहती है तो उसे सभी 2.5 लाख पंचायतों में वेयरहाउस बनाने होंगे. मंडियों का विस्तार करना होगा. अभी देश में 7000 से कम मंडियां हैं. जबकि देश में कम से कम 42,000 मंडियां होनी चाहिए. तब जाकर किसान को उचित बाजार और उसके उत्पाद का सही दाम मिलेगा.

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, PM Narendra modi, rs 20 lakh crore Economic package, 20 लाख करोड़ रुपये का आर्थिक पैकेज, Covid-19, कोविड-19, Consumer, उपभोक्ता, agriculture supply chain, एग्रीकल्चर सप्लाई चेन, kisan news in hindi, farmers news, किसान समाचार
कृषि सप्लाई चेन में बिचौलिए कमा रहे हैं मुनाफा, ठगे रह जाते हैं किसान


मांग-आपूर्ति का लाइव डाटा

कृषि क्षेत्र के जानकार आनंद का कहना है कि किसी भी कृषि उत्पाद की कितनी मांग है और किस क्वालिटी का कितना उत्पादन है इसका रीयल टाइम डाटा किसान को मिल जाए तो वो औने-पौने दाम पर अपनी उपज नहीं बेचेगा. कमोडिटी कारोबारियों को इसकी जानकारी होती है इसलिए वे फायदा कमा लेते हैं, जबकि उत्पादन करने वाला किसान देखता रह जाता है. इसलिए किसानों को उत्पादन और मांग का डैसबोर्ड उपलब्ध करवाया जाना चाहिए.

ये भी पढ़ें: न मांग बढ़ी, न प्रोडक्शन की कमी, फिर कौन बढ़ा रहा राशन और सब्जियों का दाम

Opinion: पहले मौसम अब कोरोना के दुष्चक्र में पिसे किसान, कैसे डबल होगी 'अन्नदाता' की आमदनी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज