Home /News /business /

rs 2000 currency notes continue to drop in circulation what rbi says nodvkj

2,000 रुपये के नोट की संख्या में गिरावट जारी, जानिए RBI ने क्या बताया

बाजार में घट गए 2000 रुपये के नोट

बाजार में घट गए 2000 रुपये के नोट

आरबीआई (RBI) ने फिस्कल ईयर 2022 की अपनी एनुअल रिपोर्ट में बताया है कि मार्केंट में मौजूद टोटल करेंसी वैल्यू में 2,000 रुपये के नोट की हिस्सेदारी सिर्फ 1.6 फीसदी रह गई है.

नई दिल्ली. क्या आपने ध्यान दिया है कि एटीएम से अब आपके हाथ में कितनी बार 2,000 रुपये का नोट आता है? अगर आपने नोटिस किया होगा तो समझ गए होंगे कि 2,000 रुपये के नोट का चलन कम हो गया है. आरबीआई की वार्षिक रिपोर्ट (RBI’s Annual Report) के मुताबिक, 2,000 रुपये के बैंक नोट की संख्या में पिछले कुछ साल से गिरावट का सिलसिला जारी है. इस साल मार्च अंत तक चलन वाले कुल नोट में इनकी हिस्सेदारी घटकर 214 करोड़ या 1.6 फीसदी रह गई.

इस साल मार्च तक सभी मूल्यवर्ग के नोटों की कुल संख्या 13,053 करोड़ थी. इससे एक साल पहले इसी अवधि में यह आंकड़ा 12,437 करोड़ था. भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) की रिपोर्ट के मुताबिक मार्च 2020 के अंत में चलन में शामिल 2,000 रुपये के मूल्यवर्ग वाले नोटों की संख्या 274 करोड़ थी. यह आंकड़ा चलन में कुल करेंसी नोटों की संख्या का 2.4 फीसदी था.

ये भी पढ़ें- RBI गवर्नर ने दिए संकेत, जून में हो सकती है रेपो रेट में बढ़ोतरी, बढ़ जाएगी आपकी EMI

इसके बाद मार्च 2021 तक चलन में शामिल 2000 के नोटों की संख्या घटकर 245 करोड़ या 2 फीसदी रह गई. पिछले वित्त वर्ष के अंत में यह आंकड़ा 214 करोड़ या 1.6 फीसदी तक रह गया. ये आंकड़े मात्रा के लिहाज से हैं.

मार्च 2022 में 13.8 फीसदी रह गया 2,000 रुपये के नोट की कुल वैल्यू
अगर वैल्यू के संदर्भ में बात करें तो मार्च 2020 में 2,000 रुपये के नोट की कुल वैल्यू, सभी मूल्यवर्ग के नोटों के कुल मूल्य का 22.6 फीसदी था. मार्च 2021 में यह आंकड़ा घटकर 17.3 फीसदीऔर मार्च 2022 में 13.8 फीसदी रह गया.

ये भी पढ़ें- सभी ATM से बिना कार्ड निकाल सकेंगे पैसे, बैंकों को यह सुविधा जल्द शुरू करने का निर्देश

500 रुपये के नोटों की संख्या सबसे ज्यादा
रिपोर्ट के मुताबिक, इस साल मार्च के अंत में 500 रुपये के नोटों की संख्या बढ़कर 4,554.68 करोड़ हो गई, जो एक साल पहले इसी अवधि में 3,867.90 करोड़ थी. मात्रा के लिहाज से चलन में सबसे अधिक 500 रुपये के नोट (34.9 फीसदी) थे. इसके बाद 21.3 फीसदी के साथ 10 रुपये के नोटों का स्थान रहा. रिपोर्ट के मुताबिक, सभी मूल्य वर्ग में चलन वाली मुद्रा का कुल मूल्य इस साल मार्च में बढ़कर 31.05 लाख करोड़ रुपये पहुंच गया जो मार्च 2021 में 28.27 लाख करोड़ रुपये था.

Tags: Business news in hindi, RBI, Reserve bank of india

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर