होम /न्यूज /व्यवसाय /पश्चिम बंगाल में 40,000 करोड़ रुपये का है दुर्गा पूजा का कारोबार, 3 लाख लोगों को मिलता है रोजगार

पश्चिम बंगाल में 40,000 करोड़ रुपये का है दुर्गा पूजा का कारोबार, 3 लाख लोगों को मिलता है रोजगार

दुर्गा पूजा पंडाल (प्रतीकात्मक तस्वीर)

दुर्गा पूजा पंडाल (प्रतीकात्मक तस्वीर)

400 कम्यूनिटी पूजाओं के संगठन फोरम फॉर दुर्गात्सव (FFD) के चेयरमैन के. पार्थो घोष ने कहा, “त्योहार के आसपास की भव्यता म ...अधिक पढ़ें

हाइलाइट्स

सिर्फ राजधानी कोलकाता में ही होती हैं 3,000 कम्‍युनिटी पूजा की व्‍यवस्‍था. 
इनसे पंडाल बनाने वालों से लेकर सिक्‍योरिटी गार्डस तक को काम मिलता है. 
फैशन, टेक्‍सटाइल, फुटवियर समेत कई सेक्‍टर में खरीद-फरोख्‍त बढ़ती है. 

कोलकाता. पश्चिम बंगाल में दुर्गा पूजा उत्सव जोरशोर से जारी है. इस राज्य में दुर्गा पूजा सिर्फ मौज-मस्ती तक ही सीमित नहीं है. इस दौरान कम से कम 40,000 करोड़ रुपये का ट्रांजेक्शन होता है, जिससे लगभग 3 लाख लोगों के लिए रोजगार के अवसर पैदा होते हैं. स्टेकहोल्डर्स ने बताया कि कोलकाता में 3,000 सहित राज्य भर में 40,000 से अधिक कम्युनिटी पूजाओं के साथ यह त्योहार हर साल 3-4 महीनों के लिए आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा देता है.

3-4 महीने पहले शुरू होती है उत्‍सव की गतिविधियां
400 कम्युनिटी पूजाओं के संगठन फोरम फॉर दुर्गात्सव (FFD) के चेयरमैन के. पार्थो घोष ने कहा, “त्योहार के आसपास की भव्यता में 40,000 करोड़ रुपये से कम का लेनदेन शामिल नहीं है. इससे राज्य भर में कम से कम 2-3 लाख लोगों को रोजगार मिलता है, क्योंकि उत्‍सव की गतिविधियां 3-4 महीने पहले शुरू होती हैं.”

ये भी पढ़ें- नवरात्रि वेल्थ स्पेशल: महागौरी के रूप में छिपा है शेयर बाजार में “बिग बुल” बनने का फॉर्मूला

पूजा समितियां माइक्रो इकोनॉमी की सूत्रधार
52 साल से कम्युनिटी पूजा से जुड़े और दक्षिण कोलकाता में शिव मंदिर सरबजनिन दुर्गा पूजा के आयोजक घोष ने कहा कि पूजा समितियां माइक्रो इकोनॉमी की सूत्रधार के रूप में कार्य करती हैं.

5 दिन के उत्सव में कई सेक्टर के लोग शामिल
घोष ने कहा, ”5 दिवसीय उत्सव में कई सेक्टर के लोग शामिल होते हैं. इनमें पंडाल बनाने वाले, मूर्ति बनाने वाले, इलेक्ट्रीशियन, सिक्योरिटी गार्ड, पुजारी, ढाकी, मूर्ति ट्रांसपोर्ट से जुड़े मजदूर और भोग तथा खानपान की व्यवस्था से जुड़े लोग होते हैं. हम आम जनता की खातिर और अपनी संस्कृति के संरक्षण के लिए यह महत्वपूर्ण कार्य करते हैं.

व्यावसायिक गतिविधियों को मिलता है बढ़ावा
एफएफडी अध्यक्ष काजल सरकार ने कहा कि न केवल मुख्य दुर्गा पूजा गतिविधियों, बल्कि फैशन, टेक्सटाइल, फुटवियर, कॉस्मेटिक और रिटेल सेक्टर को भी लोगों की खरीद-फरोख्त से बढ़ावा मिलता है. इस दौरान साहित्य व प्रकाशन, टूर, ट्रेवल, होटल व रेस्टोरेंट और फिल्म व मनोरंजन व्यवसाय में भी अचानक बढ़ोतरी होती है.

Tags: Business news in hindi, Durga Puja festival, Earn money, Employment, Employment opportunities

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें