लाइव टीवी

LIC की हिस्सेदारी बेचने पर खुश नहीं RSS का मजदूर संगठन, कर्मचारियों ने भी लिया राष्ट्रव्यापी हड़ताल का फैसला

News18Hindi
Updated: February 2, 2020, 3:05 PM IST
LIC की हिस्सेदारी बेचने पर खुश नहीं RSS का मजदूर संगठन, कर्मचारियों ने भी लिया राष्ट्रव्यापी हड़ताल का फैसला
भारतीय जीवन बीमा निगम

भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) के विनिवेश को लेकर राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ (RSS) के मजदूर संगठन ने कहा है कि केंद्र सरकार का यह फैसला घातक साबित हो सकता है. वहीं, कर्मचारियों ने भी राष्ट्रव्यापी हड़ताल का ऐलान कर दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 2, 2020, 3:05 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (FM Nirmala Sitharaman) ने शनिवार को बजट भाषण में IDBI बैंक और भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) की हिस्सेदारी बेचने का ऐलान किया था. अब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के मजदूर संगठन ने केंद्र सरकार की आर्थिक नीति की आलोचना की है. आरएसएस से जुड़े मजदूर संठन भारतीय मजदूर संघ (BMS) ने बजट पेश किए जाने के बाद देर शाम को ही एक बयान जारी किया. भारतीय मजदूर संघ ने अपने बयान में कहा कि LIC और IDBI का विनिवेश घातक है. संघ ने कहा कि देश की संपत्ति को बेचकर राजस्व (Revenue) जुटाने का तरीका खराब अर्थशास्त्र का उदाहरण है. सरकार और आर्थिक सलाहकारों पर निशाना साधते हुए कहा कि उनके ज्ञान और विजन में कमी है.

घातक साबित हो सकता है सरकार का फैसला
साथ ही, भारतीय मजदूर संघ ने मोदी सरकार को सुझाव देते हुए कहा कि राजस्व जुटाने के लिए कोई ऐसा मॉडल बनाया जाए, जिससे देश की संप​त्तियों को न बेचना पड़े. संघ ने कहा कि LIC देश की मध्यम और गरीब वर्ग की बचत को सु​रक्षित रखने वाला उपक्रम है. वहीं, आईडीबीआई बैंक छोटे उद्योगों को वित्तपोषित करता है. ऐसे में अब इन दोनों उपक्रमों को बेचने का सरकार का फैसला घातक साबित हो सकता है.

भारतीय ​जीवन बीमा निगम


यह भी पढ़ें: Budget 2020: अब विदेश में काम करने वाले NRI's को भी देना होगा टैक्स

BMS की बैठक में विरोध प्रस्ताव
भारतीय मजदूर संघ ने यह भी जानकारी दी कि फिलहाल राजस्थान के जोधपुर में संगठन की राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक चल रही है. यह बैठक दो दिनों तक चलेगी, जिसमें सरकार द्वारा विनिवेश के इस फैसले के खिलाफ प्रस्ताव पारित किया गय. इस बैठक की अध्यक्षता बीएमएस के अध्यक्ष साजी नारायण कर रहे है.4 फरवरी को राष्ट्रव्यापी हड़ताल
इसके अलावा, सरकार के इस फैसले से नाखुश एलआईसी के कर्मचारियों ने 4 फरवरी को राष्ट्रव्यापी हड़ताल पर जाने का ऐलान किया है. उन्होंने कहा कि यह हड़ताल केवल 1 घंटे की होगी, जिसमें एलआईसी के कर्मचारी प्रदर्शन करेंगे. इन कर्मचारियों ने सरकार के फैसले का कड़ा विरोध किया है.



यह भी पढ़ें: नौकरीपेशा को तगड़ा झटका, PF कटाने से भी नहीं बचेगा Income Tax

इन समय पर होगा हड़ताल
एलआईसी के विनिवेश के फैसले का विरोध करते हुए जीवन बीमा निगम कर्मचारी एसोसिएशन के कोलकाता डिविजन के उपाध्यक्ष प्रदीप मुखर्जी ने कहा, "हम मंगलवार को सवा 12 बजे से सवा एक बजे तक एक घंटे की हड़ताल करेंगे. हम उसके बाद अपने सभी कार्यालयों में प्रदर्शन भी आयोजित करेंगे."

एलआईसी के आंशिक विनिवेश के प्रस्ताव को राष्ट्रहित के खिलाफ बताते हुए मुखर्जी ने कहा कि यह कंपनी इस समय पूंजी के मामले में भारत की सबसे बड़ी वित्तीय कंपनी है, जो भारतीय स्टेट बैंक को भी पीछे छोड़ चुकी है. उन्होंने कहा कि इसका विनिवेश राष्ट्रीय हितों के खिलाफ है.

AIIEA भी करेगा विरोध प्रदर्शन
ऑल इंडिया इंश्योरेंस इम्प्लाईज एसोसिएशन (AIIEA) ने भी सरकार के इस कदम का विरोध करते हुए कहा है कि पहले तीन या चार फरवरी को एक घंटे की हड़ताल की जाएगी. AIIEA के महासचिव श्रीकांत मिश्रा ने चेन्नई में कहा कि हम इस कदम के खिलाफ हैं. पहले हम तीन या चार फरवरी को एक घंटे की हड़ताल करेंगे, और उसके बाद अपने आगे के कदम के बारे में निर्णय लेंगे."

यह भी पढ़ें: वित्त मंत्री की बड़ी घोषणा- बैंक डूबा तो अब 5 लाख तक की रकम रहेगी सुरक्षित

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 2, 2020, 3:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर