आज पैसा कर रहे हैं ट्रांसफर तो ध्यान दें! दोपहर 2 बजे तक काम नहीं करेगी ये सर्विस, जानें क्यों

पहर 2 बजे तक काम नहीं करेगी RTGS

पहर 2 बजे तक काम नहीं करेगी RTGS

आज दोपहर 2 बजे तक बैंक की रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) सर्विस काम नहीं करेगी. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने इसकी जानकारी दी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 18, 2021, 8:53 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली: अगर आप भी आज नेट बैंकिग या बैंकिंग ऐप के जरिए पैसा ट्रांसफर करने जा रहे हैं तो आपके लिए बड़ी खबर है. आज दोपहर 2 बजे तक बैंक की रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट (RTGS) सर्विस काम नहीं करेगी. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने इसकी जानकारी दी है. RBI ने कहा कि आपदा के समय RTGS सिस्टम की रिकवरी स्पीड को बढ़ाने के लिए 18 अप्रैल को RTGS की टेक्निकल टीम इसके अपग्रेडेशन पर काम करने वाली है, जिसके चलते सेवाएं बाधित रहेगी.

18 अप्रैल को रात 12.01 मिनट से दोपहर 2 बजे तक RTGS काम नहीं करेगा. आरबीआई ने ग्राहकों से अपील की है कि अगले रविवार को इस शेड्यूल का विशेष ध्यान रखकर ही आप पेमेंट करें, जिससे आपको ट्रांजेक्शन में कोई परेशानी न हो.

यह भी पढ़ें: Petrol Price Today: गाड़ी की टंकी फुल करवाना हुआ सस्ता, चेक करें रविवार का लेटेस्ट भाव!

सरकार ने बढ़ाया दायरा
RBI ने पिछले सप्ताह ही देश में NBFCs, फिनटेक स्टार्टअप्स (Fintech Startups) और पेमेंट बैंक को RTGS और NEFT के जरिये फंड्स ट्रांसफर करने की अनुमति दी है. RBI के इस फैसले से बैंकों के अलावा दूसरे वित्तीय संस्थान भी RTGS और NEFT के जरिए लेनदेन करने की फैसिलिटी ऑफर कर सकेंगे. फिनटेक कंपनियों, पेमेंट कंपनियों को RTGS और NEFT की मंजूरी दी गई है.

RBI ने Paytm, PhonePe जैसे प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट्स (PPIs) को बड़ी राहत दी है. साथ ही पेमेंट बैंक की बैलेंस लिमिट को 1 लाख रुपये से बढ़ाकर 2 लाख रुपये कर दिया है. इससे नॉन-बैंक यूजर्स अब एक दिन में 2 लाख रुपये तक का लेनदेन कर सकेंगे. अब आप मोबाइल वॉलेट से कैश विड्रॉ कर सकेंगे. हालांकि यह फायदा उन्हीं को मिलेगा जिनकी KYC हो चुकी है.

2006 में शुरु हुई थी सुविधा



आपको बता दें RBI ने पिछले साल दिसंबर में रियल टाइम ग्रॉस सेटलमेंट सिस्टम (RTGS)को 24 घंटे सातों दिन उपलब्ध करा दिया था. इससे पहले ये सुविधा बैंक टाइमिंग के दौरान मिलती थी. इसके सुविधा का लाभ लेने के लिए आपको कोई शुल्क नहीं देना होता है. RTGS की शुरुआत 26 मार्च 2006 में की गई थी.

यह भी पढ़ें: HDFC Bank: चाैथी तिमाही में मुनाफा 8,186 करोड़ रुपये पर पहुंचा, 18.1 फीसदी की हुई बढ़ाेत्तरी

NEFT का इस्तेमाल दो लाख रुपये तक के लेन-देन में किया जाता है. उससे ज्यादा का लेन-देन RTGS के जरिए होता है. 2 लाख से कम का ट्रांसफर RTGS से नहीं होता है. इससे भी बड़ी बात यह है कि ट्रांसफर करने पर कोई एक्सट्रा चार्ज भी नहीं देना होता है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज