रुचि सोया मामला: SEBI ने 7 कंपनियों से गलत तरीके से अर्जित 5.75 करोड़ रुपये लौटाने को कहा

Start-ups के लिए पब्लिक इश्यू लॉन्च करना आसान बनाएगा SEBI

Start-ups के लिए पब्लिक इश्यू लॉन्च करना आसान बनाएगा SEBI

पिछले साल ये कंपनियां दिवालिया हाे गई थी और पतंजलि ने दिवालिया बिक्री में रूचि साेया काे खरीद लिया था.

  • Share this:

नई दिल्ली. भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बाेर्ड (SEBI) ने शुक्रवार को सात कंपनियों को निर्देश दिया कि वे रुचि सोया इंडस्ट्रीज लिमिटेड (Ruchi Soya industries ltd) के शेयरों की कीमतों में हेराफेरी से हासिल 5.75 करोड़ रुपये के गैरकानूनी लाभ को वापस करें. नियामक ने अपने आदेश में इन कंपनियों से कहा कि वे 28 सितंबर 2012 से वास्तविक भुगतान की तिथि तक यह राशि 12 प्रतिशत ब्याज के साथ जमा करें. मालूम हाे योग गुरु बाबा रामदेव (Baba Ramdev) की कंपनी पतंजलि (Patanjali) ने देश की जानी मानी कंपनी रुचि सोया को 4350 करोड़ में खरीदा था. जिसके बाद बाबा रामदेव ने कहा था कि वे रुचि सोया में 5 हजार करोड़ का निवेश करेंगे.



उन्होंने कहा था कि उनका लक्ष्य है कि खाद्य तेल में भारत आत्म निर्भर हो. इससे देश की समृद्धि बढ़ेगी और करेंसी मजबूत होगी. '36 लाख टन ऑयल प्रोडक्शन के साथ रुचि सोया कंपनी नंबर वन है. देश में 7 से 10 करोड़ लोग रुचि सोया का तेल खाते हैं.



मालूम हाे पिछले साल ये कंपनियां दिवालिया हाे गई थी और पतंजलि ने दिवालिया बिक्री में रूचि साेया काे खरीद लिया था. जाे कि भारत में सबसे बड़ी खाद्य तेल कंपनियाें में से एक है. राष्ट्रीय कंपनी विधि प्राधिकरण (NCLT) ने कर्जदाता स्टैन्डर्ड चार्टर्ड बैंक तथा डीबीएस बैंक के आवेदन पर रूचि साेचा के मामले काे ऋण शाेधन कार्यवाही के लिए भेजा था. जिसके लिए शैलेन्द्र अजमेरा काे ऋण शाेधन कार्यवाही के लिे पेशेवर नियुक्त किया गया था. रूचि साेचा इंडस्ट्रीज पर करीब 9300 कराेड़ रुपये का बकाया था.



ये भी पढ़ें - Bank of India का ग्राहकों को अलर्ट! 21 अप्रैल से बंद होगी ये सर्विस, जानें क्या कहा बैंक ने?


पंतजलि समूह ने कर्जदाताओं के कर्ज में डूबी खाद्य तेज कंपनी रूचि साेया के अधिग्रहण के लिए पंतजलि आयुर्वेद की 4325 कराेड़ रुपये की बाेली मंजूरी दी थी. देखा जाए ताे वर्तमान में कंपनी के 27 कराेड़ शेयर यानि करीब 99.03 प्रतिशत की हिस्सेदारी बाबा रामदेव की पतंजलि ग्रुप की 15 कंपनियाें के पास है. वहीं सिर्फ 0.97 फीसदी शेयर निवेशकाें के पास. 




ये है वाे सात  कंपनियां -





एवेंटिस बायोफीड्स प्राइवेट लिमिटेड (अब इम्मिक्स ट्रेड प्राइवेट लिमिटेड के साथ शामिल), नविन्या मल्टीट्रेड प्राइवेट लिमिटेड,



यूनी24 टेक्नो सॉल्यूशंस प्राइवेट लिमिटेड,



सनमेट ट्रेड प्राइवेट लिमिटेड,



श्रेयांस क्रेडिट एंड कैपिटल प्राइवेट लिमिटेड,



बैतूल ऑयल्स एंड फीड्स प्राइवेट लिमिटेड



बैतूल मिनरल्स एंड कंस्ट्रक्शंस प्राइवेट लिमिटेड हैं



पिछले साल पतंजलि ने रूचि साेया काे खरीदा था


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज