लाइव टीवी

कच्चे तेल में उछाल से रुपये में कमजोरी बढ़ी, डॉलर के मुकाबले 68 पैसे टूटा

भाषा
Updated: September 16, 2019, 8:46 PM IST
कच्चे तेल में उछाल से रुपये में कमजोरी बढ़ी, डॉलर के मुकाबले 68 पैसे टूटा
कच्चे तेल में तेजी से डॉलर के मुकाबले रुपया 68 पैसे टूटा

सऊदी अरब (Saudi Arabia) के तेल संयंत्रों पर ड्रोन हमले के बाद कच्चा तेल की बढ़ती कीमतों को लेकर चिंता बढ़ी है.

  • भाषा
  • Last Updated: September 16, 2019, 8:46 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पिछले आठ कारोबारी सत्र में पहली बार सोमवार को रुपये (Rupee) में गिरावट देखी गई. सऊदी अरब (Saudi Arabia) के तेल संयंत्रों पर ड्रोन हमले के बाद कच्चा तेल (Crude Oil) की बढ़ती कीमतों को लेकर चिंता बढ़ी है. इसके बीच अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में सोमवार को अमेरिकी डॉलर (US Dollar) के मुकाबले रुपये (Rupee) की विनिमय दर में 68 पैसे लुढ़ककर भारी गिरावट दर्ज की गई. सोमवार को कारोबार की समाप्ति पर अमेरिकी डॉलर के मुकाबले रुपया 68 पैसे गिरकर 71.60 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ.

भारत पर होगा असर
कच्चे तेल की बढ़ती कीमत भारत के लिए बड़ी आशंका बन कर उभरा है. भारत दुनियाभर में कच्चे तेल का तीसरा सबसे बड़ा आयातक देश है. कच्चे तेल के दाम बढ़ने से भारत में राजकोष पर दबाव बढ़ने के साथ ही मुद्रास्फीतिकारी दबाव पैदा होने का खतरा है.

इंट्रा-डे कारोबार में रुपये की चाल

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में रुपया 71.54 रुपये प्रति डॉलर पर कमजोर खुला और दिन के कारोबार में 71.63 रुपये तक नीचे चला गया. कारोबार के अंत में रुपया अपने पिछले बंद भाव के मुकाबले 68 पैसे की भारी गिरावट के साथ 71.60 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ. शुक्रवार को डॉलर के मुकाबले रुपया 70.92 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था.

ये भी पढ़ें: कच्चे तेल की कीमतों में 28 साल की सबसे बड़ी तेजी! भारत में 7 रुपये तक महंगा हो सकता है पेट्रोल

कच्चे तेल में एक दिन में सबसे ज्यादा उछाल
Loading...

कच्चे तेल का बेंचमार्क ब्रेंट क्रुड वायदा भाव सोमवार को कारोबार के दौरान करीब 20 प्रतिशत बढ़कर 71.95 डॉलर प्रति बैरल के भाव पर पहुंच गया. शनिवार को सउदी अरब के तेल संयंत्र पर दो ड्रोन के हमले से उसकी आधे से अधिक तेल आपूर्ति प्रभावित हुई है. इस हमले के बाद ब्रेंट कच्चे तेल के वायदा भाव में 1988 के बाद वायदा कारोबार शुरू होने के बाद से डॉलर मूल्य में यह सबसे बड़ी वृद्धि है.

अर्थव्यवस्था को मजबूती के लिए उठाए गए ये कदम
वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार को घरेलू अर्थव्यवस्था को मजबूती देने के लिये 70,000 करोड़ रुपये के उपायों की घोषणा की है. इसके साथ ही कुछ नये खर्चों का भी एलान किया. बहरहाल, सोमवार को इन उपायों का बाजार पर असर नहीं देखा गया. कच्चे तेल के दाम बढ़ने से बाजार की धारणा बुरी तरह प्रभावित हुई.

ये भी पढ़ें: GST चोरी पर लगेगी लगाम, सरकार ने बनाया ये खास प्लान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 16, 2019, 8:37 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...