Home /News /business /

rupee slumps to record low against us dollar as crude oil price rise amid russia ukraine war kcnd

Rupee Slumps Record Low : डॉलर के मुकाबले रिकॉर्ड निचले स्तर पर पहुंची भारतीय मुद्रा, बढ़ेगा महंगाई का दबाव

कच्चे तेल में तेजी से छह अन्य मुद्राओं के मुकाबले डॉलर इंडेक्स चढ़कर 99 के स्तर के पार पहुंच गया है. यह डॉलर इंडेक्स का मई 2020 के बाद का उच्च स्तर है.

कच्चे तेल में तेजी से छह अन्य मुद्राओं के मुकाबले डॉलर इंडेक्स चढ़कर 99 के स्तर के पार पहुंच गया है. यह डॉलर इंडेक्स का मई 2020 के बाद का उच्च स्तर है.

शुरुआती कारोबार में सोमवार को रुपया अमेरिकी मुद्रा डॉलर के मुकाबले गिरकर 76.92 पर पहुंच गया. रुपये में इस बड़ी गिरावट से भारत पर चौतरफा असर पड़ेगा. इससे न सिर्फ महंगाई (Inflation) का दबाव बढ़ जाएगा, बल्कि देश का व्यापार और चालू खाता घाटा भी बढ़ेगा.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. रूस-यूक्रेन में चल रहे युद्ध (Russia-Ukraine War) के बीच कच्चे तेल में रिकॉर्ड तेजी के कारण डॉलर के मुकाबले रुपया (Weaken Rupee) अब तक के निचले स्तर पर पहुंच गया है. सोमवार को शुरुआती कारोबार में रुपया अमेरिकी मुद्रा डॉलर के मुकाबले गिरकर 76.92 पर पहुंच गया. एक समय यह 76.96 के निचले स्तर (Record Low level) पर पहुंच गया था. शुक्रवार को डॉलर के मुकाबले भारतीय मुद्रा (Indian Currency) 76.16 पर बंद हुआ था.

केडिया एडवाइजरी के निदेशक अजय केडिया का कहना है कि रुपये में इस बड़ी गिरावट से भारत पर चौतरफा असर पड़ेगा. इससे न सिर्फ महंगाई (Inflation) का दबाव बढ़ जाएगा, बल्कि देश का व्यापार और चालू खाता घाटा (Trade and Current Deficit) भी बढ़ेगा. आर्थिक वृद्धि की रफ्तार (Economic Growth) पर भी अंकुश लगेगा. कुल मिलाकर पूरी भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) इसकी चपेट में आ जाएगी.

ये भी पढ़ें- ब्याज से आय पर क्या है टैक्स का गणित, किसको मिलती है राहत, समझिए पूरा हिसाब-किताब

अभी और गिरेगा रुपया

सीआर फॉरेक्स एडवाइजरी ने एक नोट में कहा कि वैश्विक बिकवाली की वजह से भारतीय शेयर बाजार (Indian Share Market) में 2 फीसदी से ज्यादा गिरावट आई है. मार्च में अब तक विदेशी संस्थागत निवेशकों ने भारतीय बाजार से 16,800 करोड़ रुपये से ज्यादा निकासी की है. आगे भी यही रुख देखने को मिलेगा. क्रूड ऑयल की कीमतों में तेजी (Crude Oil Price Hike) जारी रही तो आगे भी डॉलर के मुकाबले रुपये में गिरावट आएगी.

ये भी पढ़ें- 7th Pay Commission: केंद्रीय कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, मोदी सरकार एकसाथ दे सकती है 18 महीने का DA एरियर

डॉलर इंडेक्स 99 के पार

अजय केडिया का कहना है कि कच्चे तेल में तेजी से छह अन्य मुद्राओं के मुकाबले डॉलर इंडेक्स चढ़कर 99 के स्तर के पार पहुंच गया है. यह डॉलर इंडेक्स का मई 2020 के बाद का उच्च स्तर है. इसके अलावा, 10 साल का बॉन्ड यील्ड 5 आधार अंकों की तेजी के साथ 6.86 फीसदी पर पहुंच गया है. उन्होंने कहा कि निवेशक सोने और चांदी जैसे सुरक्षित साधनों में निवेश कर रहे हैं. इसलिए आगे भी इक्विटी और रुपये में उतार-चढ़ावा जारी रहेगा.

क्रूड में तेजी दुनियाभर के लिए बड़ा झटका

जियोजीत फाइनेंशियल सर्विसेज के इन्वेस्टमेंट स्ट्रैटजी प्रमुख वीके विजयकुमार का कहना है कि रूस-यूक्रेन युद्ध की वजह से कमोडिटी की कीमतें आसमान पर पहुंच गई हैं. क्रूड का 128 डॉलर पर पहुंचना दुनियाभर की अर्थव्यवस्थाओं और शेयर बाजारों के लिए बड़ा झटका है. इससे न सिर्फ दुनियाभर में महंगाई बढ़ेगी बल्कि विकास दर में भी गिरावट आएगी. भारत के संदर्भ में देखें तो महंगाई दर 2022-23 के बजट में अनुमान से ज्यादा रहेगी.

Tags: Crude oil prices, Dollar, Inflation, Rupee weakness, Russia ukraine war

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर