Home /News /business /

Russia-Ukraine War: भारत पर होगा बड़ा असर, मोबाइल-कार समेत महंगी हो जाएंगी ये वस्तुएं

Russia-Ukraine War: भारत पर होगा बड़ा असर, मोबाइल-कार समेत महंगी हो जाएंगी ये वस्तुएं

पैलेडियम दुनिया की सबसे महंगी धातु है.

पैलेडियम दुनिया की सबसे महंगी धातु है.

रूस पैलेडियम का सबसे बड़ा उत्पादक देश है. पिछले साल यहां पैलेडियम का 2.6 मिलियन ट्रॉय औंस उत्पादन हुआ, जो दुनिया भर में पैलेडियम के कुल उत्पादन का 40% था.

नई दिल्ली. रूस और यूक्रेन के बीच छिड़ा युद्ध (Russia-Ukraine War) लंबा खिंचा या इसकी वजह से संकट बढ़ा तो इसका असर भारत पर भी पड़ेगा. भारत में खाद्य तेल, पेट्रोल समेत कई चीजों के साथ मोबाइल फोन और बाइक-कार भी महंगे हो सकते हैं. इसकी वजह पैलेडियम (palladium) धातु है, जो रूस में बड़ी मात्रा में पाई जाती है.

रूस पैलेडियम का सबसे बड़ा उत्पादक देश है. पिछले साल यहां पैलेडियम का 2.6 मिलियन ट्रॉय औंस उत्पादन हुआ, जो दुनिया भर में पैलेडियम के कुल उत्पादन का 40% था. पैलेडियम का इस्तेमाल पेट्रोल और हाइब्रिड गाड़ियों के एग्जॉस्ट, मोबाइल फोन, इलेक्ट्रिक इक्विपमेंट, डेंटल ट्रीटमेंट, ज्वेलरी में भी होता है.

ये भी पढ़ें- इटली के लग्जरी इलेक्ट्रिक स्कूटर की भारत में होगी एंट्री, Ola-Ather को देगा टक्कर, कीमत भी होगी कम

कार में इसलिए होता है इस्तेमाल
कार में पैलेडियम का इस्तेमाल उससे निकलने वाली जहरीली गैसें जैसे कार्बन मोनोऑक्साइड, नाइट्रोजन डाइऑक्साइड के असर को कम करने के लिए होता है. यह इन गैसों को नाइट्रोजन, कार्बन डाइऑक्साइड जैसी कम नुकसानदायक गैसों में बदल देता है. पेट्रोल और हाइब्रिड गाड़ियों के एग्जॉस्ट में इस्तेमाल होने वाले कैटेलिटिक कनवर्टर पैलेडियम से तैयार किए जाते हैं. 2009 में पहली बार पेट्रोल गाड़ियों की बिक्री डीजल गाड़ियों के मुकाबले बढ़ गई थी.

कैटेलिटिक कनवर्टर दिखने में कुछ इस तरह का होता है.

मोबाइल समेत अन्य वस्तुओं में पैलेडियम का इस्तेमाल
मोबाइल फोन के निर्माण में पैलेडियम बेहद जरूरी आवश्यक धातु है. फोन में इसका इस्तेमाल बेहद छोटे स्तर पर किया जाता है, लेकिन यह बहुत जरूरी होता है. एक फोन में करीब 0.015 ग्राम पैलेडियम का इस्तेमाल होता है. फोन के माइक्रोप्रोसेसर और प्रिंटेड सर्किट बोर्ड में पैलेडियम को लगाया जाता है. इसी तरह, जब एक दांत ‘ड्रिल एंड फिल’ ट्रीटमेंट से परे हो जाता है, तो क्राउन और ब्रिज के लिए पैलेडियम मिश्र धातुओं का उपयोग किया जाता है.

माइक्रोप्रोसेसर में होता है इस्तेमाल.

सबसे महंगी धातु है पैलेडियम
एक ग्राम पैलेडियम की कीमत करीब 6,188 रुपए है. इस तरह इसके 10 ग्राम की कीमत 72,184 रुपए हो जाती है, जो सोने और प्लैटिनम की कीमत से काफी ज्यादा है. पैलेडियम, प्लैटिनम की तरह ही चमकने वाली एक सफेद रंग की धातु होती है. ये रूस और दक्षिण अफ्रीका में भारी मात्रा में पाई जाती है. इसे जमीन से निकालने की प्रक्रिया भी बेहद जटिल होती है. इसके अलावा यह जमीन में बहुत कम मात्रा में पाया जाता है. यही वजह है कि यह बहुत महंगा होता है.

Tags: Auto News, Business news i, Russia, Ukraine

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर