Home /News /business /

russia ukraine war raise crisis on indian diamond industry import fall 29 percent prdm

Russia-Ukraine War : भारत के डायमंड उद्योग पर संकट, 50 हजार से ज्‍यादा कारीगर बेरोजगार, क्‍यों पड़ रहा असर?

सूरत में हीरा कारीगरों के वेतन भी 30 फीसदी तक घट गए हैं.

सूरत में हीरा कारीगरों के वेतन भी 30 फीसदी तक घट गए हैं.

रूस और यूक्रेन के बीच जारी युद्ध की वजह से ग्‍लोबल मार्केट में कमोडिटी की सप्‍लाई सबसे ज्‍यादा प्रभावित हुई है. भारत को रूस से होने वाले रफ डायमंड के निर्यात में भी खासी गिरावट आई है. मार्च से अब तक यह आयात 29 फीसदी लुढ़क चुका है, जिसका सीधा असर घरेलू डायमंड उद्योग पर पड़ा और करीब 50 हजार कारीगर बेरोजगार हो गए.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. रूस-यूक्रेन युद्ध (Russia-Ukraine War) की वजह से भारत का डायमंड उद्योग बुरी तरह प्रभावित हुआ है. देश में डायमंड उद्योग का प्रमुख केंद्र गुजरात का सूरत शहर है, जहां उद्योगों के ठप होने 50 हजार से ज्‍यादा कारीगर बेरोजगार हो गए हैं.

न्‍यूज एजेंसी एएफपी के अनुसार, भारत का हीरा उद्योग पूरी तरह आयात पर टिका हुआ है. सूरत में 65 फीसदी रफ डायमंड का आयात सिर्फ रूस से होता है. यूक्रेन के साथ युद्ध के बाद रूस से कमोडिटी का आयात बुरी तरह प्रभावित हुआ, जिसमें हीरे का आयात भी शामिल है. युद्ध के बाद से अब तक देश में रफ डायमंड का आयात 29 फीसदी घट गया है, जिससे 50 हजार से ज्‍यादा कारीगर बेरोजगार हो गए. इन कामगारों के वेतन में भी कटौती की जा रही है.

ये भी पढ़ें – Gold Price Today : रूस के सोना निर्यात पर प्रतिबंध से बढ़ी कीमत, फिर 51 हजार की ओर चला भाव, चेक करें लेटेस्‍ट रेट

भारत का रूस से बड़ा आयात
भारत हर साल रूस से करीब 75 हजार करोड़ रुपये का रफ डायमंड आयात करता है. भारतीय रत्‍न एवं आभूषण संवर्द्धन परिषद का कहना है कि आयात किए गए रफ डायमंड को सूरत, उत्‍तरी गुजरात और सौराष्‍ट्र में पॉलिश किया जाता है. उद्योगों के पास रफ डायमंड का पुराना स्‍टॉक अब खत्‍म हो चुका है. आयात भी लगातार घट रहा जिसमें अब तक 29 फीसदी की कमी आ चुकी है. ऐसे में कारखाने बंद होने लगे जिससे 50 हजार से ज्‍यादा कारीगर बेरोजगार हो गए.

अमेरिका हमारा सबसे बड़ा खरीदार
गुजरात में हीरा तराशने और पॉलिश करने की करीब 8,000 यूनिट हैं. यहां पॉलिश किए गए डायमंड अमेरिका, यूएई और हांगकांग में जाते हैं, जिसमें अमेरिका सबसे बड़ा खरीदार है. अगर सिर्फ सूरत की बात करें तो यहां रूस से आयात किए जाने वाले कुल रफ डायमंड का 65 फीसदी आता है. ऐसे में आयात में कमी आने का सबसे ज्‍यादा असर यहां के कारीगरों पर पड़ा है. गुजरात में दुनिया का 90 फीसदी हीरा पॉलिश अथवा तराशा जाता है. यहां से करीब 24 अरब डॉलर का हीरा निर्यात हर साल होता है, जिसमें से 40 फीसदी अमेरिका खरीदता है.

ये भी पढ़ें – 1 जुलाई से कौन-कौन से नए नियमों के कारण आपकी जेब पर पड़ेगा असर? डिटेल में जानिए

रूस पर नए प्रतिबंधों से सोने पर भी होगा असर
अमेरिका और जी7 देशों ने अब रूस से सोना आयात पर भी प्रतिबंध लगा दिया है. इससे आने वाले समय में सोने की कीमतों में जबरदस्‍त उछाल आ सकता है. वैसे रूस से सबसे ज्‍यादा यानी करीब 90 फीसदी सोना अकेले ब्रिटेन खरीदता है जिसने मार्च में ही अपना आयात रोक दिया. एक्‍सपर्ट का मानना है कि जल्‍द ही इसका हल नहीं निकला तो हीरा उद्योग की तरह ही सराफा कारोबारियों पर भी रूस के संकट का असर पड़ेगा.

इतना ही नहीं जी7 देशों की ओर से रूस पर नए प्रतिबंध लागू करते ही ग्‍लोबल मार्केट में क्रूड के दाम भी बढ़ने शुरू हो गए. आज दिन में ही ब्रेंट क्रूड करीब दो डॉलर चढ़कर 113 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर पहुंच गया. 30 जून को ओपेक व अन्‍य सहयोगी देशों की बैठक होने वाली है, जिसमें उत्‍पादन बढ़ाने पर सहमति न बनी तो क्रूड के दाम और महंगे होंगे.

Tags: Diamond, Import-Export, Russia ukraine war

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर