सेल ने रिकॉर्ड 31 प्रतिशत का मुनाफा कमाया, जानिए कोरोनाकाल में इस चमत्कार की वजह

सेल (SAIL) की आलोच्य अवधि के दौरान कुल आय बढ़ कर 23,533.19 करोड़ रुपए हो गई

सेल (SAIL) की आलोच्य अवधि के दौरान कुल आय बढ़ कर 23,533.19 करोड़ रुपए हो गई

कोरोना काल में लोहा-इस्पात की कीमतें भी बढ़ने की वजह से सरकारी इस्तात कंपनी सेल (SAIL) ने 3,469.88 करोड़ रुपए का मुनाफा अर्जित किया है

  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोनावायरस महामारी और इसकी वजह से लगे लॉकडाउन ने तकरीबन हर क्षेत्र को नुकसान पहुंचाया है. इसी वजह से लोहा-इस्पात (Steel) की कीमतें भी बढ़ गई. इसके चलते सरकारी कंपनी सेल (SAIL) ने 31 मार्च 2021 को समाप्त तिमाही के दौरान 3,469.88 करोड़ रुपए का मुनाफा अर्जित किया है. यह पिछले वर्ष की इसी अवधि के मुनाफे के मुकाबले 31 फीसदी ज्यादा है.

सेल ने बताया कि अंतिम तिमाही में कंपनी का शुद्ध लाभ 3,469.88 करोड़ रुपए रहा. यह वित्त वर्ष 2019-20 की जनवरी-मार्च तिमाही के दौरान 2,647.52 करोड़ रुपए रहा था. आलोच्य अवधि यानी जनवरी-मार्च तिमाही के दौरान कंपनी की कुल आय बढ़ कर 23,533.19 करोड़ रुपए हो गई. इससे एक साल पहले की समान अवधि में सेल की कुल आय 16,574.71 करोड़ रुपए रही थी. हालांकि, इस दौरान उसका कुल खर्च 18,829.26 करोड़ रुपए हो गया. यह एक साल पहले 11,682.12 करोड़ रुपए था.

यह भी पढ़ें :  पेट्रोल 100 पार लेकिन यहां सिर्फ 70 रुपए में मिल सकेगा डीजल, जानें सब कुछ

दूसरी छमाही से हालात सुधरे, इसलिए मांग में उछाल आया
वित्तवर्ष 20-21 की दूसरी छमाही में आर्थिक गतिविधियों में सुधार के चलते स्टील की मांग में उछाल देखने को मिला. सरकार द्वारा बुनियादी ढांचे पर खर्च पर जोर देने की वजह से, कंपनी ने परिचालन दक्षता में सुधार के साथ-साथ बाज़ार की मांग के अनुरूप उत्पादों को बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित किया, जिससे कंपनी को उल्लेखनीय प्रदर्शन करने में मदद मिली.

यह भी पढ़ें :  बाबा रामदेव की इस कंपनी ने महज 2 महीने में निवेशकों के पैसे दोगुने कर दिए, जानें सब कुछ

कोविड-19 का असर बैलेंस शीट पर भी पड़ा



कोविड-19 महामारी की वजह से कंपनी के परिचालन में कमी करनी पड़ी. इसका असर बैलेंस शीट पर भी पड़ा. हालांकि, आर्थिक गतिविधियों के क्रमिक रूप से सामान्य होने के बाद कंपनी का ऑपरेशन सामान्य हो गया है. सेल की अध्यक्ष सोमा मंडल (SAIL President Soma Mandal) ने बताया कि कंपनी ने वित्तवर्ष 20-21 के दौरान उत्पादन और वित्तीय प्रदर्शन में एक साथ बढ़ोतरी दर्ज की है. टीम खासतौर पर वित्तवर्ष 20-21 की पहली छमाही के दौरान पैदा हुई गंभीर और अप्रत्याशित चुनौतियों के बावजूद पूरी प्रतिबद्धता और एकजुटता के साथ काम किया है.

यह भी पढ़ें : कोरोना वैक्सीन : 730 रुपए में मिलेगी फाइजर की वैक्सीन, दुनिया में यह सबसे सस्ती 

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज