लाइव टीवी

लोन चुकाने में पुरुषों से आगे हैं महिलाएं, जानें क्या है डिफॉल्ट की सबसे बड़ी वजह?

भाषा
Updated: December 9, 2019, 6:01 PM IST
लोन चुकाने में पुरुषों से आगे हैं महिलाएं, जानें क्या है डिफॉल्ट की सबसे बड़ी वजह?
वेतन मिलने में देरी, कारोबार में सुस्ती हैं व्यक्तिगत कर्ज डिफॉल्ट की बड़ी वजह

पेटीएम (Paytm) के समर्थन वाली वित्तीय प्रौद्योगिकी कंपनी क्रेडिटमेट (Creditmate) की सोमवार को जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि मौजूदा सुस्ती की वजह से देशभर में लोन वसूली प्रभावित हो रही है.

  • Share this:
मुंबई. व्यक्तिगत कर्जदार (Individual Borrowers) अगर समय पर अपने लोन की किस्त नहीं चुका पा रहे हैं तो उसकी सबसे बड़ी वजह वेतन मिलने में होनी वाली देरी (Salary Delay) है. इसके अलावा कारोबार में संकट (Business Downturns) की वजह से भी वे कर्ज नहीं चुका पा रहे हैं. एक सर्वे में यह निष्कर्ष सामने आया है.

यह सर्वेक्षण ऐसे समय आया है जबकि कुछ माह पहले जारी आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार देश में बेरोजगारी की दर (Unemployment Rate) चार दशक के उच्चस्तर पर पहुंच गई है. कॉरपोरेट लोन की मांग कम होने की वजह से बैंक अपने बही खाते को आगे बढ़ाने के लिए काफी हद तक खुदरा लोन (Retail Loan) पर निर्भर हैं.

पेटीएम (Paytm) के समर्थन वाली वित्तीय प्रौद्योगिकी कंपनी क्रेडिटमेट (Creditmate) की सोमवार को जारी रिपोर्ट में कहा गया है कि मौजूदा सुस्ती की वजह से देशभर में लोन वसूली प्रभावित हो रही है. यह रिपोर्ट पिछले छह माह के दौरान 30 राज्यों में नॉन-बैंकिंग फाइनेंशियल कंपनियों (NBFC) सहित 40 बैंकों के 2 लाख से अधिक लोन के विश्लेषण पर आधारित है.

ये भी पढ़ें: इन वस्तुओं पर ज्यादा GST देने के लिए रहें तैयार, 18 दिसंबर को होने वाला है बड़ा फैसला!

वेतन मिलने में देरी डिफॉल्ट की बड़ी वजह
कर्ज के भुगतान में देरी की सबसे प्रमुख वजह वेतन मिलने में होने वाली देरी को माना गया है. 36 प्रतिशत मामलों में कर्ज भुगतान में देरी की वजह वेतन में विलंब है. वहीं 29 प्रतिशत मामलों में कर्ज चुकाने में देरी की वजह कारोबार में आई सुस्ती को बताया गया है. कुल कर्ज चुकाने में असफल रहने के मामलों में 12 प्रतिशत में रोजगार नुकसान वजह है. वहीं इलाज की जरूरतों के चलते 13 प्रतिशत मामलों में कर्ज चूक हुई है. 10 प्रतिशत मामलों में संबंधित कर्जदार के दूसरे स्थान पर स्थानांतरित होना रहा है.

लोन डिफॉल्ट के मामले पुरुष, महिलाओं से आगेसर्वे में एक रोचक तथ्य सामने आया है. महिलाओं की तुलना में कर्ज नहीं चुकाने के मामले पुरुषों की संख्या अधिक हैं. 82 प्रतिशत लोन डिफॉल्ट के मामले पुरुषों से जुड़े हैं. लोन भुगतान करने में तो महिलाएं आगे हैं. बकाया का भुगतान करने में भी महिलाएं आगे हैं. पुरुषों की तुलना में महिलाएं 11 प्रतिशत अधिक तेजी से बकाया का भुगतान करती हैं.

ये भी पढ़ें: 21 करोड़ लोगों ने मोदी सरकार के इस स्कीम का उठाया फायदा, 342 रुपये में मिलता है 4 लाख का इंश्योरेंस

मुंबई, अहमदाबाद और सूरत में लोन भुगतान में सबसे बेहतर
शहरों की बात की जाए तो मुंबई, अहमदाबाद और सूरत में लोन भुगतान की दर सबसे बेहतर है. इस मामले में दिल्ली, बेंगलुरु और पुणे की स्थिति काफी खराब है. राज्यों में लोन प्रतिबद्धताओं को पूरा करने में ओडिशा, छत्तीसगढ़, बिहार और गुजरात का प्रदर्शन सबसे अच्छा है. वहीं मध्य प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली-एनसीआर और तमिलनाडु का प्रदर्शन सबसे खराब है.

ये भी पढ़ें:
32 हजार करोड़ की संपत्ति के साथ ये हैं देश के रियल एस्टेट सेक्टर के सबसे अमीर एंटरप्रन्योर!
पीएम किसान सम्मान निधि स्कीम : 5 करोड़ लोगों को मिली अंतिम किश्त, पैसे के लिए ऐसे करें आवेदन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 9, 2019, 5:56 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर