मोदी सरकार की PLI स्कीम को मिला बूस्ट, सैमसंग, Apple भारत में करेंगी मोबाइल फोन की मैन्युफैक्चरिंग

PLI स्कीम तहत मोबाइल कंपनियां 11 हजार करोड़ रुपए करेगी निवेश

दूरसंचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने घोषणा की कि पीएलआई के तहत देसी-विदेशी कुल 22 कंपनियों ने आवेदन किया है. इससे करीब 12 लाख लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे.

  • Share this:
    नई दिल्ली. मोबाइल हैंडसेट विनिर्माता कंपनियों के संगठन आईसीईए (ICEA) ने कहा कि कंपनियों ने मोबाइल फोन के घरेलू विनिर्माण से संबद्ध उत्पादन प्रोत्साहन योजना (पीएलआई) के तहत 11,000 करोड़ रुपए के निवेश की प्रतिबद्धता जतायी है. इससे देश में मोबाइल फोन का विनिर्माण बढ़कर दो से ढाई गुना हो जाने का अनुमान है. इंडिया सेल्युलर एंड इलेक्ट्रॉनिक्स एसोसिएशन (आईसीईए) एप्पल (Apple), फॉक्सकॉन (Foxconn), विस्ट्रॉन (Wistron), लावा (Lava) इत्यादि कंपनियों का प्रतिनिधित्व करने वाली प्रतिनिधि संस्था है.

    11 लाख करोड़ के मोबाइल फोन की होगी मैन्युफैक्चरिंग
    सैमसंग, विस्ट्रॉन (Samsung Wistron), पेगाट्रॉन (Pegatron), फॉक्सकॉन (Foxconn) और होन हे (Hon Hai) जैसी वैश्विक कंपनियों के साथ-साथ लावा (Lava), डिक्सॉन (Dixon), माइक्रोमैक्स (Micromax), पैजेट इलेक्ट्रॉनिक्स (Padget Electronics), सोजो (Sojo), यूटीएल (UTL) और ऑप्टिमस (Optiemus) जैसी घरेलू कंपनियों ने भी पीएलआई (PLI) के तहत आवेदन किया है. इन कंपनियों ने अगले पांच साल में 11 लाख करोड़ रुपये मूल्य के मोबाइल फोन विनिर्माण का लक्ष्य रखा है. आईसीईए के अनुसार इन कंपनियों के घरेलू विनिर्माण करने से देश में 27.5 लाख करोड़ रुपये मूल्य के मोबाइल फोन का उत्पादन होने का अनुमान है.

    यह भी पढ़ें- बहन को दें ये ख़ास तोहफा! 10 हज़ार से भी कम कीमत के हैं ये बेस्ट स्मार्टफोन्स

    12 लाख पैदा होंगे रोजगार के अवसर
    दूरसंचार और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने घोषणा की कि पीएलआई के तहत देसी-विदेशी कुल 22 कंपनियों ने आवेदन किया है. इससे करीब 12 लाख लोगों को रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे. प्रसाद ने कहा कि सरकार की 41,000 करोड़ रुपये की उत्पादन से प्रोडक्शन लिंक्ड इनसेंटिव (PLI) स्कीम के तहत कराए हैं.

    3 लाख डायरेक्ट रोजगार उपलब्ध होंगे
    आईसीई के चेयरमैन पंकज महिंद्रू ने एक बयान में कहा कि पीएलआई के तहत कंपनियों ने कुल 11,000 करोड़ रुपये के निवेश की प्रतिबद्धता जतायी है. इसमें 11.50 लाख करोड़ रुपये मूल्य के मोबाइल फोन का विनिर्माण किया जाना है. इसका 60 प्रतिशत निर्यात किया जाएगा. इससे करीब तीन लाख प्रत्यक्ष रोजगार पैदा होंगे. उन्होंने इसे सरकार की मेक इन इंडिया और आत्मनिर्भर भारत अभियान के लक्ष्यों को पाने की प्रतिबद्धता बताया. महिंद्रू ने कहा कि इससे घरेलू स्तर पर विनिर्मित होने वाले मोबाइल फोन का मूल्यवर्धन बढ़कर 35-40 प्रतिशत हो जाएगा. यह अभी 15 से 20 प्रतिशत है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.