लाइव टीवी
Elec-widget

बजट सत्र में सरकार पेश करेगी लेबर कानून बदलने वाला बिल, 50 करोड़ लोगों पर होगा सीधा असर

भाषा
Updated: November 14, 2019, 10:55 AM IST
बजट सत्र में सरकार पेश करेगी लेबर कानून बदलने वाला बिल, 50 करोड़ लोगों पर होगा सीधा असर
सरकार बजट सत्र में पेश करेगी व्यावसायिक सुरक्षा, स्वास्थ्य और कार्यस्थल संहिता विधेयक

सरकार 50 करोड़ कामगारों की स्थिति सुधारने के लिए एक बिल ला रही है. इससे कार्यस्‍थल पर न सिर्फ उनकी सुरक्षा बढ़ेगी बल्कि स्‍वास्‍थ्‍य और काम करने की स्थिति में भी बदलाव आएगा.

  • भाषा
  • Last Updated: November 14, 2019, 10:55 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सरकार व्यावसायिक सुरक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य और कार्यस्‍थल परिवेश (Occupational Safety, Health and Working Conditions (OSH) पर तैयार विधेयक (Code) को संसद की मंजूरी के लिये बजट सत्र (Budget session) में पेश करेगी. केंद्रीय श्रम मंत्री संतोष गंगवार ने बुधवार को इसकी जानकारी दी. इस संहिता को लोकसभा में 23 जुलाई 2019 को पेश किया गया था. इसके पारित होने से कामगारों का कवरेज कई गुणा फैल जाने तथा 13 केंद्रीय श्रम कानूनों के बदले एक संहिता के अमल में आने का अनुमान है. यह संहिता ऐसे सभी प्रतिष्ठानों पर लागू होगी, जिसमें 10 या इससे अधिक कर्मचारी हों.

आपको बता दें कि सरकार 50 करोड़ कामगारों की स्थिति सुधारने के लिए एक बिल ला रही है. इससे कार्यस्‍थल पर न सिर्फ उनकी सुरक्षा बढ़ेगी बल्कि स्‍वास्‍थ्‍य और काम करने की स्थिति में भी बदलाव आएगा. सरकार व्यावसायिक सुरक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य और कार्यस्‍थल परिवेश पर तैयार (Occupational Safety, Health and Working Conditions) बिल को बजट सत्र में संसद से पारित कराने का प्रयास करेगी.

मंत्री ने कर्मचारी राज्य बीमा निगम (ESIC) के एक कार्यक्रम से इतर संवाददाताओं से कहा, हम निश्चित तौर पर बजट सत्र में व्यावसायिक सुरक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य और कार्यस्‍थल परिवेश संहिता को पेश करेंगे. संसद की स्थायी समिति ने संहिता पर लोगों से टिप्पणियां मंगायी है.

जनवरी के अंतिम सप्ताह में शुरू होगा बजट सत्र

संसद का बजट सत्र जनवरी के अंतिम सप्ताह में शुरू होने का अनुमान है. सरकार को श्रम सुधार की प्रक्रिया में मानदेय संहिता पर पहले ही संसद की मंजूरी मिल चुकी है. इसके बाद व्यावसायिक सुरक्षा, स्‍वास्‍थ्‍य और कार्यस्‍थल स्थिति संहिता की बारी है. सरकार 44 श्रम कानूनों को मिलाकर चार संहिता बनाना चाहती है. गंगवार ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को तीसरी संहिता यानी सामाजिक सुरक्षा संहिता के बारे में अवगत कराया जा चुका है. उन्होंने कहा कि सरकार चारों नयी संहिताओं को जल्द से जल्द अमल में लाना चाहती है.

ये भी पढ़ें: गन्ना किसानों को राहत! मोदी सरकार ने चीनी मिलों को दिया बड़ा तोहफा

सामाजिक सुरक्षा और औद्योगिक संबंध को लेकर शेष दो संहिताओं के बारे में पूछे जाने पर मंत्री ने कहा, श्रम संबंधी मुद्दों पर कानून का मसौदा तैयार करने की त्रिकोणीय प्रक्रिया है. हम कुछ भी हड़बड़ी में नहीं करना चाहते हैं. विमर्श जारी है. हम इसे शीघ्र ही संसद में पेश करना चाहते हैं.
Loading...

ये भी पढ़ें: 
प्याज सस्ती करने के लिए फुल एक्शन में सरकार! 31 दिसंबर तक कारोबारियों को दी ये बड़ी छूट
FD को छोड़ अब लोग यहां लगा रहे हैं पैसा, आप भी उठा सकते हैं फायदा!
इनकम टैक्स के इस नियम को बदलने की तैयारी! आम आदमी पर होगा सीधा असर
पापड़ के बिजनेस को शुरू करने में मदद कर रही है सरकार! हर महीने होगी मोटी कमाई

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए मनी से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 13, 2019, 7:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...