Home /News /business /

सत्य नडेला को पद्म भूषण, इंजीनियर से सालाना 300 करोड़ रुपए से ज्यादा कमाने वाले सीईओ बनने की कहानी

सत्य नडेला को पद्म भूषण, इंजीनियर से सालाना 300 करोड़ रुपए से ज्यादा कमाने वाले सीईओ बनने की कहानी

 नडेला माइक्रोसॉफ्ट के साथ  साल 1992 में एक युवा इंजीनियर के तौर पर कंपनी से जुड़े थे.

नडेला माइक्रोसॉफ्ट के साथ साल 1992 में एक युवा इंजीनियर के तौर पर कंपनी से जुड़े थे.

दुनिया के चर्चित सीईओ में से एक सत्य नडेला को इस बार देश के तीसरे सर्वोच्च नगारिक पुरस्कार पद्म भूषण से सम्मानित किया जाएगा. भारतीय मूल के सत्य नडेला का करियर और जीवन ऐसा है जिससे हर युवा प्रेरणा ले सकता है. आइए एक इंजीनियर से सबसे बड़ी टेक कंपनी के सीईओ बनने की कहानी को पढ़ते हैं.

अधिक पढ़ें ...

 नई दिल्ली . माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ सत्य नडेला आज किसी पहचान के मोहताज नहीं है. दुनिया के चर्चित सीईओ में से एक नडेला को इस बार देश के तीसरे सर्वोच्च नगारिक पुरस्कार पद्म भूषण से सम्मानित किया जाएगा. भारत रत्न और पद्म विभूषण के बाद पद्म भूषण देश का तीसरा सर्वोच्च नागरिक पुरुस्कार है.

भारतीय मूल के सत्य नडेला का करियर और जीवन ऐसा है जिससे हर युवा प्रेरणा ले सकता है. नडेला का स्वप्नीला सफर ज्यादातर भारतीयों को आकर्षित करता है. उनकी मेहनत और लगन का नतीजा है कि आज वो दुनिया की सबसे बड़ी टेक कंपनी के सीईओ हैं. अमेरिका में एक हस्ती हैं. साथ ही सालाना 300 करोड़ रुपए से ज्यादा की कमाई है.

हैदराबाद से सफर शुरू 
नडेला का जन्म 19 अगस्त 1967 को हैदराबाद में हुआ था. उनके पिता 1962 बैच के एक आईएएस ऑफिसर थे. वहीं उनकी मां प्रभावति एक लेक्चरार थीं. उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा हैदराबाद से ली. उसके बाद मनीपाल इंस्टीट्यूट ऑफ इंजीनियरिंग कॉलेज से साल 1988 में उन्होंने इलेक्ट्रिक इंजीनियरिंग किया.

यह भी पढ़ें- Elon Musk ने फिर की Dogecoin की पैरवी, मैकडॉनल्ड से कहा- इसे पेमेंट के लिए अपनाया तो टीवी पर करूंगा ये काम

इसके बाद सत्य नडेला अपनी आगे की पढ़ाई के लिए US में चले गए. वहां पर उन्होंने University of wisconsoon madison से कंप्यूटर साइंस की पढ़ाई की. उसके बाद साल 1997 में सत्य नडेला ने University of chicago Booth से एमबीए की डिग्री हासिल की.

माइक्रोसॉफ्ट का सफर 
नडेला लंबे समय से माइक्रोसॉफ्ट के साथ जुड़े हैं और वे साल 1992 में एक युवा इंजीनियर के तौर पर कंपनी से जुड़े थे. इसके बाद उन्होंने काफी प्रगति की और आज चेयरमैन के पद तक पहुंच गए हैं. 1992 में कंपनी से जुड़ने के बाद उन्हें 2000 में माइक्रोसॉफ्ट सेंट्रल का उपाध्यक्ष बनाया गया, उसके बाद वे माइक्रोसॉफ्ट बिजनेस सॉल्यूशन के कॉर्पोरेट उपाध्यक्ष बने, इसके बाद उन्हें माइक्रोसॉफ्ट ऑनलाइन सर्विस का वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनाया गया. उनकी सफलता का सिलसिला लगातार जारी रहा और फिर सत्य नडेला सर्वर एंड टूल्स डिवीजन के अध्यक्ष बने और उन्होंने कंपनी को काफी मुनाफा दिलाया.

परिवार
सत्य की शादी अनुपमा से 1992 में हुई, जो उनके पिता के दोस्त की बेटी थीं. दोनों बाद में तीन बच्चों के माता-पिता बने, जिसमें दो बेटियां और एक बेटा शामिल है.

कितनी है सत्या नडेला की सैलरी?
माइक्रोसॉफ्ट के सत्य नडेला का सालाना पैकेज 42,910,215 डॉलर है. नडेला को माइक्रोसॉफ्ट के कर्मचारियों की औसत सैलरी से 27,896,691 डॉलर अधिक सैलरी मिलती है. इस कंपनी में प्रति कर्मचारी औसत सैलरी 1,72,412 डॉलर है. यानी नडेला की जितनी सैलरी है, उतने में 249 कर्मचारियों को सैलरी दी जा सकती है. बता दें, साल 2018-19 में उनकी सैलरी 66 फीसदी बढ़कर 4.29 करोड़ डॉलर (304.59 करोड़ रुपये) पर पहुंच गई.

यह भी पढ़ें- इस सरकारी योजना में हर रोज इतने रुपये जमा कर बना सकते हैं करोड़ों का फंड, जानिए तरीका

क्रिकेट और मिठाई के हैं दीवाने
वैसे अगर भारतीयों की बात करें तो आमतौर पर यहां क्रिकेट की दीवानगी का आलम कुछ यूं है कि वह कहीं न कहीं हम सबकी बड़ी कमजोरी है. भारत में क्रिकेट को धर्म की तरह माना जाता है. ऐसे में सत्य नडेला कैसे इससे अछूते रहते? नडेला क्रिकेट के बड़े फैन हैं और वो अक्सर क्रिकेट से जुड़ी जानकारियां लेते रहते हैं.

वहीं, सत्य नडेला की दूसरी कमजोरी की बात करे तो उनको मिठाइयां खाने का बेहद शौक है. नडेला को पेस्ट्री बहुत पसंद है. उन्होंने इस बात को खुद स्वीकार किया है कि क्रिकेट और मिठाइयों से उनका खासा लगाव है. लिहाजा सफलता के शिखर पर पहुंचने के बावजूद नडेला शौक और पसंद के लिए वक्‍त निकाल ही लेते हैं.

शादी में बिन बुलाए पहुंचे थे प्रधानमंत्री
नडेला के पिता बीएन युगांधर तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव के सचिव थे. उन्होंने राव को सत्य और अनुपमा की शादी का निमंत्रण नहीं दिया था, क्योंकि दोनों परिवार सादे समारोह में शादी करना चाहते थे. राव को पता चला तो वे अचानक शादी में पहुंच गए और नहीं बुलाने के लिए शिकायत भी की. सत्य के ससुर केआर वेणुगोपाल भी प्रशासनिक अधिकारी थे.

Tags: Indian, Microsoft, Padam awards, Satya Nadella, Success Story

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर