​एशियाई देशों के लिए क्रूड के दाम में बड़ी कटौती करेगी सऊदी अरामको, मांग में भारी गिरावट

​एशियाई देशों के लिए क्रूड के दाम में बड़ी कटौती करेगी सऊदी अरामको, मांग में भारी गिरावट
अरामको ने एशिया समेत कई बाजारों में अक्टूबर के लिए क्रूड के दाम में कटौती की है.

Crude Oil: सऊदी अरामको (Saudi Aramco) ने अक्टूबर महीने में एशियाई देशों के लिए क्रूड ऑयल के दाम में कटौती करने का ऐलान किया है. साथ ही,अमेरिकी रिफाइनर्स के लिए भी दाम में कमी की जाएगी. कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों की वजह से मांग में कुछ खास तेजी नहीं देखने को मिल रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 6, 2020, 4:05 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. सऊदी अरब (Saudi Arabia) ने अक्टूबर महीने के लिए कच्चे तेल के दाम में कटौती करने का फैसला लिया है. दुनिया के सबसे बड़े कच्चे ​तेल (Crude Oil) नियार्तक द्वारा दाम में कटौती का मतलब है कि कोरोना वायरस महामारी में इजाफे के बीच वैश्विक स्तर पर मांग में कुछ खास तेजी नहीं देखने को मिल रही है. सऊदी अरब की सरकारी तेल उत्पादक कंपनी सऊदी अरामको (Saudi Aramco) ने अरब लाइट ग्रेड क्रूड ऑयल के दाम में अनुमान से ज्यादा कटौती करने का फैसला लिया है. इससे एशियाई देशों को लाभ मिल सकेगा. एशिया ही सऊदी अरब के लिए सबसे बड़ा बाजार है. इस कंपनी ने अमेरिका में निर्यात होने वाले कच्चे तेल के दाम में भी कटौती करने का ऐलान किया है.

एशियाई देशों के लिए जून के बाद यह पहली सबसे बड़ी कटौती होगी. बीते 6 महीने में पहली बार अमेरिकी रिफाइनर्स (US Crude Refiners) के लिए दाम में कटौती हुई है. कंपनी ने कहा है कि वो नॉर्थवेस्ट यूरोप और मेडिटे​रेनियन क्षेत्र के लिए भी लाइटर बैरल्स के लिए दाम में कटौती करेगी.

अप्रैल में OPEC+ देशों ने की थी उत्पादन में बड़ी कटौती
इस साल कोरोना वायरस महामारी के मद्देनजर वैश्विक स्तर पर कई देशों द्वारा लॉकडाउन की वजह से कच्चे तेल की मांग में भारी कमी आई है. लॉकडाउन की वजह से आर्थिक गतिविधियां प्रभावित हुई है, एयरलाइंस ने फ्लाइट्स कैंसिल कर दिया है और वर्कर्स घर पर रहे हैं. यही कारण है कि मांग में लगातार गिरावट देखने को मिली है. सऊदी अरब, रूस और अन्य OPEC+ उत्पादकों ने अप्रैल में प्रति 1 करोड़ बैरल कच्चे तेल के उत्पादन में कटौती का फैसला लिया था. वैश्विक मांग का यह करीब 10 फीसदी हिस्सा था.
यह भी पढ़ें: Alert! इस बैंक से न करें कोई ट्रांजैक्शन, वरना हो जाएगा नुकसान



ब्रेंट क्रूड के दाम में बड़ी गिरावट
हालांकि, इस कटौती और चीन में डिमांड रिकवरी की वजह से कच्चे तेल के दाम में अप्रैल के बाद से करीब दोगुनी तेजी आई है. लेकिन, यह अभी भी इस साल 35 फीसदी तक कम है. शुक्रवार को ब्रेंट क्रूड का भाव 42.66 डॉलर प्रति बैरल रहा है. बीते तीन महीने के दौरान किसी एक सप्ताह में सबसे बड़ी गिरावट मानी जा रही है. अमेरिका और इंडिया में कोरोना वायरस संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं.

सऊदी अरामको एशियाई देशों के लिए कच्चे तेल के दाम में 1.40 डॉलर प्रति बैरल की कटौती कर रही है. अक्टूबर महीने के लिए यह रीजनल बेंचमार्क से 50 सेंट सस्ता होगा.

रिफाइनिंग मार्जिन कम होने से घटी मांग
इसके पहले जून से अगस्त के लिए दाम में इजाफा किया गया था. हालांकि, क्रूड को गैसोलिन और अन्य तरह के ईंधन में रिफाइनिंग से कमजोर लाभ ने रिफाइनरी डिमांड को भी कम कर दिया है. एशियाई रिफाइनर्स के पास पहले से ही बड़े स्तर पर क्रूड ऑयल का स्टॉक है.

यह भी पढ़ें:  COVID-19 महामारी के बाद भी AC कोच में रेल यात्रियों को नहीं मिलेंगे कंबल

6 महीने में पहली बार अमेरिका के लिए कीमतों में कटौती
अरामको ने अप्रैल के बाद पहली बार अमेरिकी खरीदारों के लिए भी क्रूड ऑयल के दाम में कटौती करने का फैसला लिया है. अरामको की तरफ से यह फैसला तब लिया गया है, जब अगस्त महीने में क्रूड की मांग में दशकों की सबसे बड़ी गिरावट देखने को मिली है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज