अपना शहर चुनें

States

दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी अरामको खरीद सकती है RIL के रिफाइनिंग बिजनेस में हिस्सा: रिपोर्ट

दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी सऊदी अरामको (Saudi Aramco) रिलांयस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) के रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल कारोबार में हिस्सा खरीद सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 17, 2019, 1:57 PM IST
  • Share this:
दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी सऊदी अरामको (Saudi Aramco) रिलांयस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (RIL) के रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल कारोबार में हिस्सा खरीद सकती है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक,  अरामको, रिलायंस के रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल बिजनेस में 25 फीसदी हिस्सा खरीदना चाहती है. न्यूज एजेंसी रॉयटर्स की ओर से मीडिया रिपोर्ट्स का हवाला देते हुए दी गई जानकारी के मुताबिक, दोनों कंपनियों इस डील के लिए बातचीत कर रही है. हालांकि, रिलायंस इंडस्ट्रीज ने इन सभी खबरों का खंडन किया है.

आपको बता दें कि सऊदी अरामको दुनिया की सबसे बड़ी तेल उत्पादक कंपनी है. ये सऊदी अरब की सरकारी कंपनी है. इसने 2018 में रोजाना 1.36 करोड़ बैरल तेल निकाला है. ये दुनिया की सबसे ज्यादा मुनाफा कमाने वाली कंपनी है. सऊदी अरामको ने पिछले साल 7.7 लाख करोड़ मुनाफा कमाया है. इसकी सालाना आय 25 लाख करोड़ रुपये है.

आपको बता दें कि रिलायंस इंडस्ट्रीज भारत की सबसे बड़ी कंपनी है. ये भारत में सबसे ज्यादा मुनाफा कमाने वाली कंपनी है. रिलायंस देश की दूसरी सबसे बड़ी ऑयल रिफाइनिंग कंपनी है. कंपनी का रिटेल, टेलीकॉम, पेटकेम का मुख्य कारोबार है.



अरामको, रिलांयस इंडस्ट्रीज डील की अटकलें तेज़- मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक अगले दो महीने दोनों कंपनियां वैल्युएशन पर डील कर सकती हैं. RIL को हिस्सा बिक्री से करीब 10-15 अरब डॉलर मिल सकते हैं. RIL का रिफाइनिंग और पेट्रोकेमिकल्स बिजनेस करीब 55-60 अरब डॉलर का है. RIL का कुल मार्केट कैप 8.5 लाख करोड़ रुपये पहुंच गया है. रिपोर्ट के मुताबिक इन्वेस्टमेंट बैंकर गोल्डमैन सैक्स ने इस डील का सुझाव दिया था. (ये भी पढ़ें-5 साल में 15 लाख रुपये पाने का आसान तरीका! इसी महीने शुरू करें प्लानिंग!)
हो चुकी हैं  मुलाकात-सऊदी अरामको के सीईओ अमीन नासर, रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन मुकेश अंबानी से इसको लेकर मुलाकाता कर चुके हैं. रिपोर्ट्स के मुताबिक यह मुलाकात इसलिए की गई थी कि सऊदी सरकार के स्वामित्व वाली कंपनी के कारोबार पर चर्चा हो सके, जिसमें क्रूड, केमिकल्स और नॉन-मेटालिक्स शामिल हैं. इस पर अरामको और रिलायंस की ओर से कमेंट नहीं मिला है.(ये भी पढ़ें-दुनिया के सबसे बड़े फंड ने कुछ ही घंटों में बेचा 4 टन सोना! अब इतने रुपये तक हो सकता है सस्ता!)



अरामको क्यों खरीदना चाहती है हिस्सा- मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान के फरवरी में दिल्ली आने के बाद दुनिया के सबसे बड़े रिफाइनिंग कंपनी अरामको की दिलचस्पी आरआईएल में बढ़ी थी. उस दौरान उन्होंने कहा कि उन्हें अगले दो साल में भारत में 100 बिलियन डॉलर से अधिक के निवेश के अवसरों की उम्मीद है.

डिस्क्लेमर: हिंदी न्यूज़ 18 डॉट कॉम रिलायंस इंडस्ट्रीज की कंपनी नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का हिस्सा है. नेटवर्क18 मीडिया एंड इन्वेस्टमेंट लिमिटेड का स्वामित्व रिलायंस इंडस्ट्रीज के पास ही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज