Bharat Petroleum को खरीद सकती है दुनिया की सबसे बड़ी तेल कंपनी! शेयर में आई जोरदार तेजी

Bharat Petroleum को खरीद सकती है दुनिया की सबसे बड़ी तेल कंपनी! शेयर में आई जोरदार तेजी
देश की बड़ी सरकारी सरकारी महारत्न तेल और गैस कंपनी बीपीसीएल यानी भारत पेट्रोलियम (Bharat Petroleum) को सऊदी अरामको (Saudi Aramco) खरीद सकती है.

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सऊदी अरामको (Saudi Aramco) भारत की बड़ी सरकारी सरकारी महारत्न तेल और गैस कंपनी बीपीसीएल यानी भारत पेट्रोलियम (Bharat Petroleum) को खरीद सकती है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 16, 2019, 2:04 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दुनिया की सबसे बड़ी तेल कंपनी सऊदी अरामको (Saudi Aramco) अब भारत में कंपनी खरीदने की तैयारी कर रही है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, देश की बड़ी सरकारी महारत्न तेल और गैस कंपनी बीपीसीएल यानी भारत पेट्रोलियम (Bharat Petroleum) को सऊदी अरामको (Saudi Aramco) खरीद सकती है. रिपोर्ट्स में बताया गया है कि ये डील 510 रुपये से 1100 रुपये प्रति शेयर के बीच हो सकती है. हालांकि, अभी तक सरकार की ओर से कोई बयान जारी नहीं हुआ है. इस खबर के बाद BPCL के शेयर में जोरदार तेजी आई है. NSE (National Stock Exchange) पर BPCL का शेयर 5 फीसदी बढ़कर 515 रुपये के भाव पर पहुंच गया है. केंद्र सरकार की BPCL में 53.29 फीसदी हिस्सेदारी है. सरकार ने पिछले दिनों BPCL नाम नहीं लेते हुए हिस्सा बिक्री के लिए एडवाइजर नियुक्त करने का विज्ञापन दिया था.

क्या करती हैं सऊदी अरामको- सऊदी अरब की तेल कंपनी सऊदी अरामको दुनिया की सबसे ज्यादा मुनाफे वाली कंपनी है. हाल ही में कंपनी ने पहली बार अपने फाइनेंशियल डेटा का बॉन्ड इन्वेस्टर्स के सामने खुलासा किया है.

>> अरामको का 2018 में प्रॉफिट 111.1 अरब डॉलर रहा, जो पृथ्वी पर किसी भी तरह के बिजनेस से जुड़ी किसी भी अन्य कंपनी का नहीं है. इस कंपनी की स्थापना अमेरिकी तेल कंपनी ने की थी. अरामको यानी 'अरबी अमरीकन ऑइल कंपनी' का सऊदी अरब ने 1970 के दशक में राष्ट्रीयकरण कर दिया था. हालांकि यह कंपनी पारदर्शिता को लेकर विवादों में भी रही है.



क्या है सरकार की योजना- सरकार पेट्रोलियम मंत्रालय की BPCL (Bharat Petroleum Corporation Limited) में हिस्सा बेचना चाहती है. BPCL में सरकार की हिस्सेदारी 53.29 फीसदी है.



ये भी पढ़ें-पाकिस्तान पर भारी पड़ रहा है भारत से पंगा लेना, चीन से भी नहीं मिल रही मदद



>> न्यूज एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक,केंद्र सरकार भारत के इतिहास में सबसे बड़ी निजीकरण बोली में भारत पेट्रोलियम में अपनी 53.29% हिस्सेदारी बेचेगी, जिसे सऊदी अरामको खरीद सकती है.

>> सरकार की भारत पेट्रोलियम के अलावा कंटेनर कॉर्प और शिपिंग कॉर्प में विनिवेश के जरिये 1.05 लाख करोड़ रुपये जुटाने की योजना है.

>>BPCL में अपनी पूरी 53.3 फीसदी बेचकर सरकार का लक्ष्य 65 हजार करोड़ रुपये जुटाने की योजना है. इसके लिए ससंद से भी मंजूरी नहीं लेनी पड़ेगी.

>>पिछले साल सरकार ने ओएनजीसी पर एचपीसीएल के अधिग्रहण के लिए दबाव डाला था.

>> इसके बाद संकट में फंसे आईडीबीआई बैंक के लिए निवेशक नहीं मिलने पर सरकार ने पिछले वित्त वर्ष में एलआईसी को बैंक का अधिग्रहण करने को कहा था.

>>सरकार विनिवेश प्रक्रिया के तहत संसाधन जुटाने के लिये एक्सचेंज ट्रेडिड फंड (ईटीएफ) का भी सहारा लेती आई है.

ये भी पढ़ें-इस महीने में अब तक 1.34 रुपए सस्ता हुआ पेट्रोल, जानें आज क्या हुआ बदलाव?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading