सऊदी अरामको ने रूस के साथ छेड़ा प्राइस वार, रोजाना 10 लाख बैरल बढ़ाएगी उत्पादन क्षमता

सऊदी अरामको ने रूस के साथ छेड़ा प्राइस वार, रोजाना 10 लाख बैरल बढ़ाएगी उत्पादन क्षमता
कच्चे तेल उत्पादन पर सऊदी अरामको का बयान

रूस (Russia) से छिड़े प्राइस वार के चलते सऊदी अरामको ने अपनी उत्पादन क्षमता 10 लाख बैरल प्रतिदिन बढ़ाने का ऐलान किया है. सऊदी अरामको ने कहा कि ऊर्जा मंत्रालय ने कच्चे तेल का उत्पादन 1.2 करोड़ बैरल से बढ़ाकर 1.3 करोड़ बैरल प्रतिदिन करने का निर्देश दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 11, 2020, 2:56 PM IST
  • Share this:
रियाद. दुनिया की बड़ी तेल कंपनी सऊदी अरामको (Saudi Aramco) ने बुधवार को कच्चे तेल (Crude Oil) का उत्पादन बढ़ाने की घोषणा की है. रूस (Russia) से छिड़े प्राइस वार के चलते सऊदी अरामको ने अपनी उत्पादन क्षमता  10 लाख बैरल प्रतिदिन बढ़ाने का ऐलान किया है. सऊदी अरामको ने कहा कि ऊर्जा मंत्रालय ने कच्चे तेल का उत्पादन 1.2 करोड़ बैरल से बढ़ाकर 1.3 करोड़ बैरल प्रतिदिन करने का निर्देश दिया है. कंपनी ने सऊदी स्टॉक एक्सचेंज को यह जानकारी दी है.

अमेरिकी वेस्ट टेक्सास इंटरमीडिएट (WTI) क्रूड का भाव 1.7 फीसदी गिरकर 33 डॉलर प्रति बैरल के पास आ गया, जबकि ब्रेंट क्रूड 1.7 फीसदी लुढ़ककर 36 डॉलर प्रति बैरल पर आ गया. बता दें कि दुनिया का सबसे बड़ा तेल निर्यातक सऊदी अरब ने रूस को सबक सिखाने के लिए कच्चे तेल की कीमतों में कटौती की है. सऊदी अरब ने अप्रैल के लिए अपने आधिकारिक बिक्री कीम में कटौती करके सभी कच्चे ग्रेडों की कीमत 6 से 8 डॉलर प्रति बैरल घटा दी है. सऊदी अरब द्वारा तेल की कीमतों में कटौती से सोमवार को कच्चे तेल के दाम में एक दिन में 30 साल की सबसे बड़ी गिरावट दर्ज की गई थी. ये भी पढ़ें: भारत की इन 3 गुफाओं में सरकार ने भरा हुआ है लाखों टन Crude Oil, जानें इससे जुड़ी राज़ की बातें





कीमतों में मंगलवार और बुधवार की शुरुआत में काफी तेजी आई थी, हालांकि, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा कोरोनो वायरस प्रकोप के आर्थिक प्रभाव का मुकाबला करने के लिए प्रोत्साहन उपायों को शुरू करने के वादों पर निवेशक फोकस थे. लेकिन सऊदी अरामको ने घोषणा की है कि वो अपनी उत्पादन क्षमता को 10 लाख बैरल प्रतिदिन बढ़ाकर 1.3 करोड़ बैरल प्रतिदिन कर देगा. सऊदी अरब की इस घोषणा के बाद एक बार तेल की कीमतों में रैली रूक गई और कीमतें वापस लाल रंग में गिर गईं.
ट्रंप ने वादा किया है कि वो वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित इंडस्ट्रीज एयरलाइंस और क्रूज कंपनियों, (जो सबसे ज्यादा प्रभावित इंडस्ट्री हैं) को राहत देंगे, लेकिन कोई ठोस कदम उठाने के अभाव में निवेशकों की चिंता बढ़ गई है.

ये भी पढ़ें: भारत में 8 महीने में सबसे कम कीमत पर बिक रहा है Petrol, यहां सिर्फ 4 पैसे में मिलता है एक लीटर तेल?

बैठक में नहीं बनी बात
शुक्रवार को तेल उत्पादक एवं निर्यातक देशों के संगठन (OPEC) और अन्य की बैठक में खास कर रूस के साथ तेल के उत्पादन में कटौती की योजना पर सहमति न बनने से नाराज सऊदी अरब पहली अप्रैल से तेल के दाम घटाने की घोषणा कर चुका है. कोरोना वायरस के प्रकोप से तेल की मांग नरम है और ऐसे में आपूर्ति बढ़ने का बाजार पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ने की आशंका है. सऊदी अरब के रुख से सोमवार को दुनियाभर के बाजारों में कोहराम मचा हुआ था, पर मंगलवार को तेल और शेयर बाजारों की हालत में सुधार दिखा.

ये भी पढ़ें: SBI अलर्ट! बैंक ने होम लोन की ब्याज दरें घटाई, जानिए आप पर होगा क्या असर?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading