पीएफ अकाउंट को आधार से लिंक कराने में हो रही है दिक्कत तो पहले करें यह काम, जानें पूरी प्रोसेस

ईपीएफओ (EPFO) की वेबसाइट पर नाम, मोबाइल नंबर, जन्मतिथी आदि ऑनलाइन अपडेट हो जाती है

पीएफ अकाउंट (PF Account) और आपके आधार (Aadhar) में दी गई जानकारी मैच नहीं कर ही है तो ईपीएफओ (EPFO) ने नाम व जन्मतिथि आदि को ऑनलाइन अपडेट करने की सुविधा शुरू की है.

  • Share this:
नई दिल्ली.  हर कर्मचारी को अपना प्रॉविडेंट फंड (PF, पीएफ) अकाउंट आधार नंबर (Aadhar) से लिंक कराना जरूरी है. लेकिन आधार नंबर और पीएफ अकाउंट (PF Account) में दी गई जानकारी मिस मैच (Mismatch) होने से लिंकिंग फेल हो रही है.
कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO, ईपीएफओ) इस दिक्कत को देखते हुए फिलहाल लिंक कराने की मियाद एक सितंबर तक बढ़ा दी है. साथ ही, ईपीएफओ ने पीएफ खाते में जानकारी अपडेट करने की सुविधा ऑनलाइन कर दी है. इसके तहत नाम, जन्मतिथि, जेंडर, मोबाइल नंबर आदि को आपके आधार नंबर में दी गई जानकारी से अपडेट कराया जा सकता है. हम आज आपको इसकी पूरी प्रोसेस बता रहे हैं.
यह भी पढ़ें : कॉफी से लेकर खिलौने हो रहे हैं महंगे, वजह जानकार चौंक जाएंगे आप
इस तरह से बदलवाया जा सकता है नाम
पीएफ खाते के लिए यूएएन नंबर जरूरी होता है. आप भी अपने यूएएन नंबर के जरिए सबसे पहले ईपीएफओ की वेबसाइट https://unifiedportal-mem.epfindia.gov.in/memberinterface/ पर लॉगइन करें. लॉगइन के बाद आपकी प्राेफाइल वाली विंडो ओपन होगी. इसमें मैनेज वाले विकल्प पर क्लिक करेंगे तो बेसिक डिटेल और कॉन्टेक्ट डिटेल का ऑप्शन दिखेगा. बेसिक डिटेल के ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद अपने नाम, जन्मतिथि और अन्य जानकारी दिखेगी. यदि आपके नाम की स्पेलिंग, जन्मतिथि आदि आधार नंबर में दी गई जानकारी के हिसाब एडिट करें. इसी तरह कॉन्टेक्ट डिटेल में मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी अपडेट करें.
यह भी पढ़ें :  मोदी सरकार ने पेट्रोलियम का स्टोरेज करने के लिए खेला बड़ा दांव, जानें सब कुछ
नाम में स्पेलिंग के अलावा करेक्शन है तो देना होगा दस्तावेज
आपके द्वारा जानकारी अपडेट करने के बाद आपके एम्पलायर यानी जिस कंपनी में नौकरी करते हैं, वहां का एचआर विभाग इसे अप्रूव करेगा। इसके बाद यह जानकारी ईपीएफओ के फील्ड ऑफिस में चली जाएगी. यहां छोटे करेक्शन यानी स्पेलिंग आदि ऑनलाइन अपडेट हाे जाएंगे. लेकिन यदि आधार में दी गई जन्मतिथि और पीएफ खाते की जन्मतिथि में तीन साल का अंतर है या फिर पूरा नाम या सरनेम बदला हुआ है तो आपको इससे संबंधित दस्तावेज ईपीएफओ के ऑफिस में जमा कराने होंगे. यदि शादी के बाद सरनेम चेंज हुआ है तो मैरिज सर्टिफिकेट और गजट में प्रकाशित नाम बदलने की सूचना देनी होगी. इसी तरह, आप बैंक अकाउंट नंबर, नॉमिनी आदि की जानकारी अपडेट कर सकते हैं.
यह भी पढ़ें : चीनियों को भारतीयों ने दिया करारा जवाब, 43 फीसदी लोगों ने नहीं खरीदा चीनी सामान 
पीएफ खाते को आधार से लिंक कराना इसलिए जरूरी
केंद्र सरकार ने 3 मई को पीएफ को सोशल सिक्यूरिटी के तहत आइडेंटिफाइ किया है. इस नियम के तहत अब पीएफ सरकार की सामाजिक योजना है. चूंकि, हर सामाजिक योजना को आधार से लिंक किया जाना जरूरी है तो ऐसे में, पीएफ खाता लिंक नहीं होने पर पीएफ कान्ट्रीब्यूशन रुक जाएगा. साथ ही, आप पीएफ का पैसा निकालने के लिए क्लेम नहीं कर पाएंगे. इसका असर भविष्य में आपकी पेंशन पर भी पड़ेगा.
आधार का डेटा ही मान्य
केंद्र सरकार के लिए आधार का डेटा ही मान्य है. और आधार नंबर जारी करने वाली संस्था यूआईडीए (UIDAI, भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण) ही आपका वैरिफिकेशन करती है. इसलिए पीएफ अकाउंट से आधार का डेटा मिसमैच होने पर आपको पीएफ के फायदे नहीं मिलेंगे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.